Header Ads


  • BREAKING NEWS

    सीतामढ़ी :नगर परिषद् के इओ के साथ दु‌र्व्यवहार मामले में पार्षद पति गिरफ्तार, पूर्व सभापति सुवंश राय की तलाश में वार्ड एक स्थित उनके आवास पर छापेमारी


    We News24  Hindi »बिहार सीतामढ़ी ब्यूरो संवाददाता पवन साह 

    सीतामढ़ी:नगर परिषद कार्यपालक पदाधिकारी दीपक कुमार झा के शिकायत पर नगर थाने की पुलिस ने वार्ड 17 के पार्षद पति पंकज कुमार को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। वहीं नगर परिषद के कार्यपालक पदाधिकारी दीपक झा के आवेदन पर नगर थाने में प्राथमिकी दर्ज की है, जिसमें नगर परिषद्  के पूर्व सभापति सह सभापति विभा देवी के पति और वार्ड 5 के पार्षद सुवंश राय, वार्ड चार के पार्षद पति ताहिर और वार्ड 22 के पार्षद मनोज कुमार के अलावा अज्ञात को आरोपित किया है। 

    यह भी पढ़े :सीतामढ़ी ;डुमरा में सात लाख की चोरी


    कार्यपालक पदाधिकारी ने बताया
    दर्ज प्राथमिकी में कार्यपालक पदाधिकारी ने बताया है कि 22 अप्रैल को 12 बजे दिन में कार्यालय में काम करने में व्यस्त थे। इसी बीच वार्ड 5 के पार्षद सह पूर्व सभापति सुवंश राय, दो-तीन पार्षद समेत समर्थकों के साथ कार्यालय में पहुंच कर गाली-गलौज की। जान से मारने की धमकी दी। साथ ही सरकारी काम-काज में बाधा पहुंचाया। इतना ही नहीं कार्यालय में जम कर हंगामा किया। पुलिस ने प्राथमिकी दर्ज कर देर रात वार्ड 17 के पार्षद पति सह कोट बाजार वार्ड 12 निवासी पंकज कुमार को गिरफ्तार कर दिया।

    सुवंश राय की तलाश में वार्ड एक स्थित उनके आवास पर छापेमारी 
     वहीं सभापति विभा देवी के पति सह वार्ड पांच के पार्षद सुवंश राय की तलाश में वार्ड एक स्थित उनके आवास पर छापेमारी की। एसडीपीओ सदर डॉ. कुमार वीर धीरेंद्र के नेतृत्व में पहुंची पुलिस ग्रिल और गेट का ताला तोड़ सभापति के आवास में दाखिल हुई। कई कमरों की तलाशी ली। सभापति से पूछताछ की। 

    यह भी पढ़े :कटिहार: विकासशील इंसान पार्टी,रैलियों में ठीक ठाक भीड़ आ रही है,हेलिकॉप्टर देखने आई आधी से ज़्यादा भीड़

     सभापति विभा देवी ने बताया है कि नगर परिषद् के  इओ आवास योजना के नाम पर लाभुकों से दस-दस हजार रुपये की अवैध वसूली कर रहे थे। लोगों ने पार्षदों से इसकी शिकायत की। इसके बाद पार्षदों की टीम नगर परिषद्  पहुंच कर इओ से इसकी शिकायत की। इसी बात पर इओ उलझ पड़े और प्राथमिकी दर्ज कराने की धमकी दी। पुलिस ने मामला दर्ज किया। 

    इसके बाद पुलिस को मामले की जांच करनी चाहिए थी, लेकिन सोमवार की रात पुलिस जिस तरह से उनके घर में घुसी, वह पुलिसिया गुंडागर्दी है। विभा देवी ने सवाल उठाया है कि जिस वक्त पुलिस घुसी, उनके पति बाहर थे। वह अपने बच्चों के साथ घर में थी। उन्होंने आधी रात ताला तोड़ कर घर में घुसने पर सवाल उठाया है, वहीं एसपी से न्याय मांगा है। 

    यह भी पढ़े :क्या सपा को लगता है कि शालिनी यादव मोदी को बराबरी की टक्कर दे पाएंगी?


    कहा है कि वह एक महिला हैं और संवैधानिक पद पर आसीन हैं। उधर, नप के इओ दीपक झा ने आवास योजना के नाम अवैध वसूली के आरोप को खारिज कर दिया। बहरहाल, यह पहला मौका नहीं है जब पार्षदों की इओ से टकराव हुई है। नगर परिषद की विकास योजनाओं में जारी लूट में हिस्सेदारी नहीं मिलती है तो जन प्रतिनिधि और अधिकारियों के बीच ऐसे ही टकराव सामने आते हैं। 


    काजल कुमारी द्वरा किया गया पोस्ट 

    Post Top Ad

    Post Bottom Ad