Header Ads

  • BREAKING NEWS

    उतर बिहार में बाढ़ से हालात खराब,सीतामढ़ी जिलो में 11 लोगों की मौत ,सामूहिक रसोई लोगो के लिए वरदान

    We News24 Hindi »सीतामढ़ी बिहार      



    कैमरामैन पवन साह के साथ ब्यूरो संवाददाता अशफाक खान की रिपोर्ट   

    बिहार :के 12 जिलों में आयी बाढ़ के कारण अब तक 33 लोगों की मौत हो चुकी है और 26 लाख 79 हजार 936 लोग प्रभावित हुए है. आपदा प्रबंधन विभाग से  मिली जानकारी के मुताबिक बिहार के 12 जिलों शिवहर, सीतामढी, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, मधुबनी, दरभंगा, सहरसा, सुपौल, किशनगंज, अररिया, पूर्णिया एवं कटिहार में अब तक 33 लोगों की मौत होने के साथ 26 लाख 79 हजार 936 लोग प्रभावित हुए है .बाढ़ प्रभावित इलाके में राहत एवं बचाव कार्य के लिये एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की कुल 26 टीमों और 796 मानव बल को लगाया गया है व 125 मोटरबोट का इस्तेमाल किया जा रहा है |

    ये भी पढ़े :सीतामढ़ी में देखते-देखते तिन मंजिल ईमारत लखनदेई नदी में समा गयी

    बाढ़ में किस जिले में कितने लोग मरे 

    बिहार में बाढ़ के कारण मरने वाले लोगों में सीतामढ़ी के 11, अररिया के नौ, शिवहर के सात, किशनगंज के चार और सुपौल दो लोग शामिल हैं . बाढ प्रभावित 12 जिलों में कुल 185 राहत शिविर चलाए जा रहे हैं, जहां 1,12,653 लोग शरण लिए हुए हैं. उनके भोजन की व्यवस्था के लिए 812 सामुदायिक रसोई चलाई जा रही हैं. बिहार के बारह जिलों में बाढ़ का कहर, अबतक 25 लोगों की मौत, 25 लाख से ज्यादा लोग प्रभावित हुए है | जिसमे में से एक जिला सीतामढ़ी भी है | 

    सीतामढ़ी जिले में बाढ़ से तबाही 

    सीतामढ़ी जिले में मूसलाधार बारिश की वजह से सभी सरकारी और निजी शिक्षण संस्थान को 20 जुलाई तक बंद वही निचले इलाकों में जल जमाव के चलते आंगनबाड़ी केंद्रों को भी बंद का आदेश दिया गया जिले के 12 प्रखंडों के 105 गांव बाढ़ से प्रभावित हैं। गाँव तो गाँव सीतामढ़ी शहर को भी इसका असर देखने को मिल रहा है आज सुबह ही शहर में एक तिन मंजिला ईमारत जमींदोज हो गयी | जिले में तक़रीबन सभी  नदियों के जलस्तर में लगातार वृद्धि जारी है। तमाम नदियां खतरे के निशान के ऊपर बह रही है। हर तरफ पानी ही पानी है नजारा बहुत भयावत है 

    ये भी पढ़े :बिहार पुलिस तो अपराधियों तो पकड नहीं सकती, सिर्फ भले लोगो को परेशान करती है ,पटना हाईकोर्ट

    सीतामढ़ी डीएम का सराहनीय कार्य 

    जिले में बाढ़ से उत्पन्न तबाही के मद्देनजर डीएम डॉ. रणजीत कुमार सिंह बाढ़ प्रभावित इलाकों का लगातार दौरा कर राहत और बचाव कार्य का जायजा ले रहे है । डीएम ने ट्रैक्टर पर सवार होकर तथा तीन से चार फीट पानी के बिच से चलकर  बाढ़ के पानी से घिरे लोगों के पास पहुंच उनका हाल रहे है । गांवों का दौराकर रहे है । साथ ही अधिकारियों को राहत और बचाव कार्य तेज करने का आदेश भी भी दे रहे है । 

    जिससे बाढ़ पीड़ितों तक हर संभव  राहत पहुच सके  उन्होंने जिले में सामूहिक रसोई व्यवस्था का इंतजाम भी करवाए और आज  के दिन में लगभग 150 से अधिक सामूहिक  रसोई जिले में चल रही है जो लोगो के लिए वरदान साबित हो रही है  | और आज जिलाधिकारी डॉ रंजित कुमार सिंह ने शहर के भवेदेपुर के एक विधालय में जा कर सामूहिक रसोई का जायजा लिए और लोगो के साथ वंहा पर  खाना भी खाये सीतामढ़ी जिला के लोगो  को बहुत ही अच्छा जिलाधिकारी मिला है |जो    बिना दिन रात की परवाहकिये बिना अपने कार्यो में लगे रहते है |

    ये भी पढ़े :बिहार बाढ़ पीड़ित को दिया गया सहायता या उड़ाया गया मजाक ,1500 लोगो को 5000 रूपये की सहायता राशि

    केंद्रीय जल आयोग से प्राप्त जानकारी

    केंद्रीय जल आयोग से प्राप्त जानकारी के मुताबिक बिहार की कई नदियां गंडक, बूढ़ी गंडक, बागमती, अधवारा समूह, कमला बलान, कोसी, महानंदा और परमान नदी विभिन्न स्थानों पर मंगलवार सुबह खतरे के निशान से ऊपर बह रही थी. भारत मौसम विभाग के अनुसार बिहार की सभी नदियों के जलग्रहण क्षेत्रों में बुधवार की सुबह तक हल्की बारिश की संभावना जतायी गयी है. 

    काजल कुमारी द्वारा किया गया पोस्ट 

    WE NEWS 24 AID

    Post Bottom Ad