Header Ads

  • BREAKING NEWS

    ओवैसी ने जनसभा को किया सम्बोधित, कहा- रांची पहली बार आया हूँ, आखरी बार नहीं



    We News 24 Hindi रांची,झारखण्ड   
    संवाददाता तारिक अजीज की रिपोर्ट

    झारखंड: में आगामी विधानसभा चुनाव को देखते हुए एआईएमआईएम के राष्ट्रीय अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने मंगलवार को बरियातू में जनसभा को संबेधित किया. इस दौरान उन्होंने साफ इशारा किया कि उनकी पार्टी झारखंड के विधानसभा इलेक्शन में उम्मीदवार खड़ा करने का मन बना रही है।


    जनसभा को संबोधित करते हुए ओवैसी ने कहा कि सब पूछ रहे हैं कि क्या मैं झारखंड में चुनाव लड़ूंगा तो उन्हें बता दूं कि यह जो भीड़ इकट्ठी हुई है वह मेरी नौटंकी देखने के लिए नहीं आई है. मैं रांची पहली बार आया हूं, आखिरी बार नहीं। पार्टी सूत्रों की मानें तो धनबाद, पश्चिमी जमशेदपुर, बरकट्ठा, बोकारो, इचागढ़, देवघर, लोहरदगा, बेरमो, राजमहल, कोडरमा, पाकुड़ और गिरिडीह जैसे विधानसभा इलाकों पर अपना उम्मीदवार खड़ा करने के मूड में है।

    ये  भी पढ़े :pakistan Earthquake:पाकिस्तान में भूकम्प से भारी तबाही ,मकान सडक गाड़ी सब हुए जमीदोज हो गए ,देखे वीडियो

    जनसभा को संबोधित करते हुए ओवैसी ने कहा कि प्रदेश में रहने वाले माइनॉरिटी कम्युनिटी के लोगों को अब एक पॉलिटिकल प्लेटफार्म पर आकर अपनी आवाज बुलंद करनी चाहिए. राज्य में हाल में हुई मॉब लिंचिंग की घटनाओं का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि सेक्युलर होने का दंभ भरने वाली राजनीतिक पार्टियों के लोग न तो मॉब लिंचिंग के शिकार तबरेज के परिवार से मिलने तक नहीं गए. जनसभा को संबोधित करते हुए ओवैसी ने कांग्रेस और बीजेपी दोनों पर निशाना साधा. कांग्रेस के लिए उन्होंने कहा कि कांग्रेस पिछले 50 सालों से माइनॉरिटी कमेटी को वोट बैंक की तरह उपयोग कर रही है तो वहीं उन्होंने कहा कि बीजेपी और आरएसएस को वे अपना सबसे बड़ा दुश्मन मानते हैं।


    बरियातू में जनसभा को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि राज्य की आबादी में अल्पसंख्यकों की संख्या बड़ी है. बावजूद इसके झारखण्ड सरकार के बजट में महज 100 करोड़ों रुपए का प्रावधान अल्पसंख्यक कल्याण के लिए किया जाता है. जबकि वहीं तेलंगाना सरकार ने इस मद में 1200 करोड़ के बजट का प्रावधान किया है।

    ये  भी पढ़े :बिहार के वैशली जिले में एक महिला नेअपनी जीवन लीला समाप्त कर ली

    कश्मीर हिंदूस्तान का अटूट हिस्सा है और रहेगा. कश्मीर को अगर अटूट हिस्सा माना ही जाता है तो फिर वहां इंटरनेट, फोन सुविधा 50 दिन से बहाल क्यों नहीं की जा रही है ? इंटरनेट सुविधा को बहाल किया जाना चाहिए. ओवैशी कहते हैं कि प्रधानमंत्री ने कहा था कि कश्मीर में 370 हटाने से और नोटबंदी लागू करने से आतंकवाद खत्म हो जाएगा लेकिन वहीं दूसरी तरफ देश का आर्मी चीफ कह रहा है कि जिस बालाकोट में हमने बमबारी की थी वहां दहशतगर्दी जमा हो रहे हैं. ऐसे में आम लोग किसका भरोसा करे?

    अनुष्का कुमारी द्वारा किया गया पोस्ट 

    WE NEWS 24 AID

    Post Bottom Ad