Header Ads

  • BREAKING NEWS

    मां मुंडेश्वरी धाम में नवरात्री पर लगी भक्तों की भीड़,1900 साल प्राचीन है ये मंदिर ,जाने इस मंदिर की विशेषता


    We News 24 Hindi»टना,बिहारब्यूरो संवाददाता वशिष्ट कुमार की रिपोर्ट 


    पटना :देश के प्राचीन मंदिरों में शुमार मां मुंडेश्वरी धाम मंदिर में नवरात्रा के अवसर पर भक्तों की लगी भीड़. यहां नवरात्रि में मां के दर्शन करने के लिए दूसरे राज्यों से भी लोग आते हैं.


    देश के प्राचीन मंदिरों में शुमार मां मुंडेश्वरी धाम भगवानपुर प्रखंड के पवरा पहाड़ी पर स्थित है. मां मुंडेश्वरी का मंदिर धरातल से लगभग 608 फीट की ऊंचाई पर है. वैसे तो मां के दर्शन करने भक्तों का भीड़ सालों भर लगी रहती है. लेकिन नवरात्रि में मां के दर्शन करने के लिए दूसरे राज्यों से भी लोग आते हैं.रक्तहीन बलि के लिए प्रख्यात है मुंडेश्वरी धाम

    ये भी पढ़े :सीतामढ़ी महाराज अग्रसेन की 1008 जयन्ती समारोह धूमधाम से मनाई गई

    मां मुंडेश्वरी में बलि की अनूठी प्रथा है. यहां सिर्फ अक्षत व मंत्र से बकरे की बलि दी जाती है. मां के भक्त मन्नत पूरी होने के बाद यहां मन्नत उतारने के लिए आते हैं और मां के समक्ष रक्तहीन बलि देते हैं.प्राचीन मंदिरों में से एक है मुंडेश्वरी धाम


    मान्यता यह है कि इस मंदिर में पूजा की परंपरा 1900 सालों से चली आ रही है. आज भी यह मंदिर जीवंत रूप के लिए जाना जाता है. यही नहीं यह मंदिर भारत का सबसे प्राचीन मंदिर माना जाता है. मंदिर का एक शिलालेख कोलकाता के भारतीय संग्रहालय में रखा गया है. जिसे 349 ई. से 636 ई. के बीच का बताया जाता है.मां मुंडेश्वरी धामसाल में तीन बार लगता है मेला




    मां मुंडेश्वरी धाम में साल में 3 बार मेला लगता है. यहां शारदीय नवरात्र, चैत्र नवरात्र और माघ मास में मेला लगता है. इसके अलावा धर्मिक न्याय परिषद के द्वारा साल में एक बार मुंडेश्वरी महोत्सव का भी आयोजन किया जाता है.तांदूल प्रसाद का चढ़ता है चढ़ावा

    ये भी पढ़े :बिहार में मूसलाधार बारिश से जिंदगी ठप,पटना में हाई अलर्ट,रेस्क्यू कर बारिश में फंसे लोगों को सुरक्षित बाहर निकाला गया

    जिला प्रशासन की तरफ से एक नई पहल शुरू कर की गई है. मां के भक्त यदि इस मंदिर में आने में समर्थ नहीं है तो वे तांदूल प्रसाद की बुकिंग ऑनलाइन मुंडेश्वरी ट्रस्ट के साइट से कर सकते हैं. चावल के आटे तथा शुद्ध देशी घी से निर्मित यह प्रसाद यहां खासा लोकप्रिय है. भक्त अपने द्वारा चयनित दिन और समय पर मां को प्रसाद चढ़ा सकते हैं. जिसके बाद कूरियर से भक्त को मां का प्रसाद भेज दिया जाता है.

    कोमल कुमारी द्वारा किया गया पोस्ट 

    WE NEWS 24 AID

    Post Bottom Ad