Header Ads

  • BREAKING NEWS

    NEW DELHI: देश के पहले CDS बनते ही जनरल बिपिन रावत ने लिया ये बड़ा फैसला

    Images Courtesy: Google
    We News 24 Hindi »नई दिल्ली 

    नई दिल्ली: देश के पहले सीडीएस काफी तेजी में दिखाई दे रहे हैं। कार्यभार ग्रहण करने के चौबीस घण्टों के भीतर ही दूसरी बार तीनों सेनाओं को दो बार तलब कर देश की नभ-जल और थल सीमाओं की सुरभा के लिए अभेद्य सुरक्षा कवच बनाने की कवायद शुरू कर दी है। हालांकि, भारतीय रक्षा मंत्रालय के पास आवश्यकताओं की अपेक्षा पैसा बहुत कम है। फिर भी सीडीएस ने कम संसाधनों में ज्यादा करने की सोच विकसित करने के निर्देश दिये हैं। तीनों सेना के सेनाध्यक्षों के साथ चर्चा के बाद सीडीएस रावत ने सबसे पहले  एयर डिफेंस कमाण्ड बनाने के निर्देश दिये हैं। पूरा अध्ययन करने के बाद इसका पहले प्रस्ताव बनेगा और उसमें आवश्यकतानुसार सुधार या संशोधन करके सरकार के पास भेजा जाएगा। 

    ये भी पढ़े :KOTA:104 बच्चों की मौत पर केंद्र सरकार ने सक्रियता दिखाई,विशेषज्ञों की टीम कोटा भेजने का फैसला

    देश के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (CDS) बनने के बाद जनरल बिपिन रावत ने पहला फैसला आसमान में भारत की ताकत को बढ़ाने के लिए एक एयर डिफेंस कमांड को तैयार करने के लिए किया है। देश की हवा में ताकत बढ़ाने और सुरक्षा को पुख्ता करने के लिए सीडीएस ने एयर डिफेंस कमांड को बनाने को लेकर प्रस्ताव तैयार करने के निर्देश जारी किए हैं। जनरल रावत ने एयर डिफेंस कमांड का खाका तैयार करने के लिए 30 जून की समयसीमा तय की है।

    ये भी पढ़े :SITAMARHI: नौ सैनिक गोविंद चौधरी एवं उनके परिवार के सदस्यों के साथ पड़ोसियों ने की मारपीट वीडियो हुआ वायरल

    अधिकारियों ने कहा कि तीनों सेनाओं के संयुक्त और आपसी क्रियाकलापों के लिए कुछ क्षेत्र चिह्नित किए गए हैं जिनमें ऐसे स्टेशनों पर साझा 'लॉजिस्टिक सपॉर्ट पूल' स्थापित करना शामिल है जहां दो या अधिक सेनाओं की मौजूदगी है। एक अधिकारी ने कहा, 'सीडीएस ने निर्देश दिया कि वायु रक्षा कमान बनाने के प्रस्ताव को 30 जून तक तैयार किया जाए।' उन्होंने तीनों सेनाओं के बीच आपसी सहयोग और तालमेल के लिए 31 दिसंबर तक तमाम पहलों को लागू करने की प्राथमिकताएं भी तय की है।

    ये भी पढ़े :BIHAR: इस साल रिटायर हो जायेंगे बिहार के 22 IAS अधिकारी, नीतीश सरकार के सामने बड़ा संकट

    इसके अलावा जनरल रावत ने आने वाले दिनों में थिअटर कमांड्स बनाने की बात कही है। सीडीएस ने कहा है कि भारत थिअटर कमांड बनाने के लिए पश्चिमी देशों की नकल करने के बजाय अपनी तरह से प्रक्रिया तय करेगा। रावत का यह बयान ऐसे समय में आया है जब तीनों सेनाएं आधुनिकीकरण के लिए धन की कमी से जूझ रही हैं और पाकिस्‍तान तथा चीन के ख‍तरे को देखते हुए तत्‍काल जल, थल और नभ, तीनों सेनाओं को एकीकृत करने की जरूरत है।

    अवधेश कुमार द्वारा किया गया पोस्ट 

    WE NEWS 24 AID

    Post Bottom Ad