Header Ads

  • BREAKING NEWS

    PATNA:रामायण सर्किट का सपना साकार,भारत नेपाल ट्रेन की परिचालन 30 जनवरी से होगा शुरू

    We News 24 Hindi »गया,बिहार 

    राज्य/पटना/ब्यूरो संवाददाता राजकुमार 

    पटना :भारत सरकार नेपाल को एक जोड़ी ट्रेन देगी। कोंकण रेलवे कॉर्पोरेशन, मुंबई ट्रेन के इंजन सहित बोगियों को तैयार करने में जुटा है। पेंटिंग का काम पूरा हो जाने के बाद मकर संक्रांति के दिन एक ट्रेन नेपाल के लिए रवाना होगी जो  विजयवाड़ा, इटारसी, इलाहाबाद, पटना, जयनगर होते हुए नेपाल के जनकपुर पहुंचेगी। जनकपुर में ट्रेन को नेपाल को सौंप दिया जाएगा। 


    ट्रेन के जयनगर-जनकपुर-धनुषा (कुर्था) रेललाइन पर संचलन से रामायण सर्किट का सपना साकार हो जाएगा। नेपाल के भौतिक पूर्वाधार एवं यातायात मंत्री वसंत नेमांग ने बताया कि भारत सरकार एक ट्रेन 30 जनवरी व दूसरी ट्रेन एक महीने बाद पहुंचेगी। इसके पहुंचते ही ट्रेनों का संचालन शुरू हो जाएगा। दोनों ट्रेनें बिहार के जयनगर से जनकपुर होते हुए धनुषा (कुर्था) तक संचालित होंगी। दोनों ट्रेनों को जीटूजी स्तर पर (दो सरकारों के स्तर पर) एक भारतीय कंपनी से खरीदा गया है।

    ये भी पढ़े -PATNA:सभी मतदान केंद्रों पर राष्ट्रीय मतदाता दिवस 25-01-2020 को मनाया जाएगा

    नेपाल सरकार ने 20 प्रतिशत धनराशि का ही भुगतान कंपनी को किया है। शेष 80 प्रतिशत का भुगतान ट्रेन के परिचालन में आने के बाद होगा। नई ट्रेन जयनगर-जनकपुर-विजलापुर रूट पर चलेगी। इसकी लंबाई 51 किमी है। रेलवे विभाग के महानिदेशक बलराम मिश्र ने बताया कि जयनगर-जनकपुर-धनुषा (कुर्था) तक 34 किलोमीटर के रेललाइन का विस्तार किया जा चुका है। शेष धनुषा-विजलापुर 17 किमी लंबी रेललाइन भारत के सहयोग से बनाई जा रही है।देश के किसी भी कोने से ट्रेन से पहुंच सकते हैं जनकपुरजयनगर-धनुषा (कुर्था) रेल लाइन शुरू होने के बाद अयोध्या ही नहीं, देश के किसी भी हिस्से से जयनगर के रास्ते लोग जनकपुर धाम की यात्रा ट्रेन से कर सकेंगे। 


    इस तरह रेल नेटवर्क के जरिए रामायण सर्किट का सपना पूरा हो जाएगा।आठ रेलवे स्टेशन होंगे जयनगर-धनुषा (कुर्था) रेललाइन पर भारत के जयनगर व नेपाली क्षेत्र के इनरवा, खजुरी,महिनाथपुर , वैदेही, परवाहा, जनकपुर, धनुषा (कुर्था), पिपराडी, बिजलपुरा सहित कुल आठ रेलवे स्टेशन बनाए गए हैं।यह होंगी सुविधाएं नेपाल द्वारा कोंकण रेलवे कॉर्पोरेशन मुंबई से 84.65 करोड़ रुपये में खरीदी गईं दोनों ट्रेनें डीजल इलेक्ट्रीफाइड मल्टीपल यूनिट (डेमू) विद्युत व डीजल से संचालित किया जा सकता है।

    ये भी पढ़े -BIHAR: गया अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा पर करोड़ो रूपये के डॉलर के साथ पांच विदेशी महिला गिरफ्तार

    ट्रेन में पांच डिब्बे होंगे। आगे और पीछे दोनों तरफ इंजन जुड़ा होगा। विभाग का दावा है कि ट्रेन के दोनों ओर इंजन होने से वापस आने-जाने में समस्या नहीं होगी साथ ही यह कम दूरी के लिए उपयुक्त भी है। पांच डिब्बे में से एक ड्राइविंग पावर कार, एक ड्राइविंग ट्रेलर कार, एक एसी ट्रेलर कोच और दो ट्रेलर कोच एसी और नॉन एसी होंगे। इस ट्रेन में 16 सौ हॉर्स पावर का इंजन होगा। ट्रेन की अधिकतम गति 110 किमी/घंटा होगी। इसकी बॉडी स्टेनलेस स्टील से बनी हुई है। खड़े होकर यात्रा करने के लिए हैंगर भी लगा हुआ है। 

    ये भी पढ़े -SITAMARHI:डीएम अभिलाषा कुमारी शर्मा ने जागरूकता रथ को समाहरणालय से किया गया रवाना,देखे वीडियो

    एक ट्रेन में छह सौ यात्री यात्रा कर सकते हैं। जयनगर में एक आव्रजन चेक पोस्ट बनेगा जनकपुर-धनुषा (कुर्था) रेललाइन पर बिहार के जयनगर में एक आव्रजन (इमीग्रेशन) चेक पोस्ट बनेगा। आव्रजन चेक पोस्ट बनाया जाएगा, जिसकी जिम्मेदारी आव्रजन ब्यूरो या राज्य की होगी। इस रास्ते से आने-जाने के लिए भारतीय और नेपाली नागरिकों को वीजा की जरूरत नहीं होगी। इस रूट पर यात्री और मालगाड़ी दोनों चलेगी।


    WE NEWS 24 AID

    Post Bottom Ad