Header Ads


  • BREAKING NEWS

    सावधान :भारत के पडोसी देश में जून तक हो सकते है 2 करोड़ कोरोना वायरस से संक्रमित मरीज


    We News 24 Hindi »कोरोना अंतर्राष्ट्रीय न्यूज उपडेट

    नई दिल्‍ली: कोरोना वायरस के मरीजों की संख्‍या पाकिस्‍तान में लगातार बढ़ती जा रही है। वहां के अखबार द डॉन में छपी एक खबर के मुताबिक यदि इस पर लगाम नहीं लगाई गई तो जून तक इसका आंकड़ा बढ़कर 2 करोड़ हो जाएगा। यह आंकड़ा पाकिस्‍तान के लिए बेहद चौंकाने वाला है। 

    आपको बता दें कि पाकिस्‍तान में इसके मरीजों की संख्‍या 878 तक जा पहुंची है। यहां पर सिंध में 394 मामले, पंजाब में 249 मामले, बलूचिस्‍तान में 110 मामले, गुलाम कश्‍मीर में 72 मामले, खैबर पख्‍तूंख्‍वां में 38 मामले और इस्‍लामाबाद में 15 मामले अब तक सामने आ चुके हैं। वहीं पूरी दुनिया की बात करें तो विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन के आंकड़े बता रहे हैं कि दुनिया के 190 देशों में अब तक ये अपने पांव पसार चुका है। इसकी वजह से अब तक करीब 14652 मौत हो चुकी हैं और 334981 मामले अब तक इसके सामने आए हैं।  

    ये भी पढ़े -CoronaVirus:कोरोना ने अमेरिका समेत पूरी दुनिया में मचा रखा है तबाही ,इटली में नहीं थम नहीं रहा है मौत का सिलसिला

    डॉन में प्रकाशित खबर के मुताबिक Covid-19 कोरोना वायरस पूरी दुनिया को तेजी से अपनी चपेट में ले रहा है। इसके साथ ही इससे लोगों में दहशत भी बैठ रही है। इतना ही नहीं इस दौरान इस वायरस को लेकर तेजी से गलत सूचनाएं भी फैल रही हैं। खबर के मुताबिक अभी इसकी भयावह स्थिति आनी बाकी है। इस रिपोर्ट में कहा गया है कि जून 2020 तक इसके मरीजों की संख्‍या 2 करोड़  तक होने की आशंका है। 



    ये भी पढ़े -COVID_19:लॉकडाउन नियम का पालन नहीं किया तो होगी छह महीने की जेल,देश के 548 जिलों में लॉकडाउन


    विशेषज्ञों के मुताबिक ये आंकड़ा केवल पाकिस्‍तान का है। वहीं जुलाई 2020 तक पूरी दुनिया में इसके मरीजों की संख्‍या 6 अरब तक जा सकती है। इसमें कहा गया है कि इससे निपटने के लिए पाकिस्‍तान को बड़े पैमाने पर एक्‍शन लेना होगा लेकिन ये तब तक मुमकिन नहीं होगा जब तक सरकार इसमें जी-जान से न जुट जाए और इसमें लोगों की भागीदारी न हो। 

    इस पूरी रिपोर्ट में कुछ ऐसे मामलों का भी जिक्र किया गया है जो पाकिस्‍तान में इससे निपटने के लिए जरूरी  उपाय या चीजों की कमी को भी दर्शा रहे हैं। इसमें एक मरीज का जिक्र किया गया है जो खांसी और तेज बुखार के बाद खुद अस्‍पताल में इलाज के लिए गया था। लेकिन वहां पर जांच की सुविधा न होने की वजह से उसको वापस भेज दिया गया। इसके अलावा इसमें पाकिस्‍तान की जानी-मानी वकील ओसामा सिद्दिकी का भी जिक्र है जो कुछ समय पहले मालदीव से लौटी थी।

    ये भी पढ़े -Coronavirus:सबसे बड़ा सवाल: जापान कैसे काबू पाया कोरोना जैसे महामारी पर ?


     अखबार ने उनके हवाले से लिखा है कि एयरपोर्ट पर उन्‍हें कोई ऐसा उपाय दिखाई नहीं दिया जो इस वायरस को पाकिस्‍तान में बढ़ने से रोक सके। वहां पर केवल एक अनाउंसमेंट हो रहा था जिसमें कहा जा रहा था कि सऊदी अरब, ईरान से आने वाले यात्री अपनी जांच के लिए अलग हो जाएं। उनके मुताबिक वहां पर मौजूद स्‍टाफ के पास जरूरी उपकरण तक नहीं थे जो वो एयरपोर्ट पर  आने वाले यात्रियों की जांच कर सकें। एयरपोर्ट स्‍टाफ के पास मास्‍क और हाथों में मेडिकल गल्व्स तक नहीं थे। 

    इस रिपोर्ट की एक बेहद खास बात ये है कि मरीजों के जो आंकड़े वर्तमान में हमें पाकिस्‍तान में दिखाई दे रहे हैं उसमें रिपोर्ट के संभावित आंकड़े बिल्‍कुल सही साबित होते दिखाई दे रहे हैं। वर्तमान में पाकिस्‍तान में कोरोना वायरस के पीडि़त मरीजों का आंकड़ा 1000 के आसपास है और इस रिपोर्ट के मुताबिक 27 मार्च तक इसके  मरीजों की संख्‍या 1020, 2 अप्रैल तक 2040, 8 अप्रैल तक 4080, 14 अप्रैल तक 8160, मई के दूसरे सप्‍ताह तक 65280 और जून तक 2 करोड़ होने की आशंका है। आपको बता दें कि इस रिपोर्ट का एनालिस्‍ट ओसामा रिजवी और अहसान जाहिद ने डाटा एनालिस्‍ट टॉमस प्‍यूओ की मदद से तैयार किया है। 

    Header%2BAid

    Whats App पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 9599389900 को अपने Mobile में save करके इस नंबर पर Missed Call करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए https://www.facebook.com/wenews24hindi  और https://twitter.com/Waors2 पर पर क्लिक करें और पेज को लाइक करें।

    Post Top Ad

    Post Bottom Ad