Haider Aid

  • Breaking News

    खुशखबरी :भारतीयों का शरीर कोरोना वायरस से दो-दो हाथ करने को तैयार,ये हम नहीं वैज्ञानिक कह रहे है ,पढ़े पूरी खबर

    We News 24 Hindi »कोरोना राष्ट्रिय न्यूज अपडेट

    लखनऊ: कोरोना वायरस ने  दुनिया में विश्वयुद्ध से भी ज्यादा भयावक स्तिथि पैदा कर रखा है हर तरफ कोहराम और हाहाकार मचा है पूरी दुनिया इस वायरस के तोड़ में लगा हुआ है विश्व के ज्यादातर देशो में लॉकडाउन है |लोग अपने घरो में दुबके बैठे है | इसी सभी के बिच दो-अच्छी खबर आई जिसे सुनकर आपके मन को थोड़ी तस्सली मिलेगी | पहला खबर बेंगलुरु के एक डॉक्टर ने खोज निकाला कोरोनो वायरस का उपचार और दूसरा की भारतीय के शरीर में एक तत्व है जो  कोरोना वायरस से दो-दो हाथ करने के लिए तैयार है |

    ये भी पढ़े-लॉकडाउन के बिच राहत भरी खबर ,3 महीनों के लिए रुकी EMI, क्रेडिट कार्ड के ग्राहकों को भी राहत


     यह हम नहीं कह रहे, बल्कि राहत पहुंचाने वाला यह तथ्य वैज्ञानिकों के ताजा शोध में से पता चला है। शोधकर्ताओं की माने तो भारतीयों में एक विशिष्ट और विरला माइक्रो आरएनए मौजूद है। यह वंशानुगत आरएनए राइबो न्यूक्लिक एसिड RNA (ribo nucleic acid) अन्य देशों के लोगों में नहीं पाया जाता है। इसमें कोरोना वायरस की तीव्रता को मंद करने की ताकत है। दिलचस्प बात यह कि मौजूदा कोरोना वायरस भी आरएनए वायरस (RNA virus)है।

    ये भी पढ़े-Corona virus Alert:भारतीय रेलवे ने तैयार किए आइसोलेशन कोच ,लॉकडाउन के वजह से भारत में कोरोना वायरस की रफ्तार धीमी


    इंटरनेशनल सेंटर फॉर जेनेटिक इंजीनियिरंग एंड बायो टेक्नोलॉजी (International Center for Genetic Engineering and Bio Technology)दिल्ली की टीम की ओर से कोरोना सार्स-टू पर यह शोध किया गया। इसमें डॉ. दिनेश गुप्ता के नेतृत्व में चार एक्सपर्ट ने पांच देशों के कोरोना मरीजों पर स्टडी की। 21 मार्च को ऑनलाइन जनरल में प्रकाशित रिसर्च पेपर संकट की इस घड़ी में भारतीयों के लिए उम्मीद जगा रहा है। केजीएमयू लखनऊ की माइक्रोबायोलॉजिस्ट डॉ. शीतल वर्मा के मुताबिक, टीम ने भारत, इटली, यूएसए, नेपाल व चीन के वुहान शहर के मरीजों पर केस स्टडी की। इसमें वुहान के दो मरीज की हिस्ट्री ली गई। सबकी जीन सीक्वेंसिंग की गई। इंटीग्रेटेड सीक्वेंसिंग बेस्ड जीनोम की पड़ताल में भारतीयों में एक माइक्रो आरएनएए (एचएसए-एमआइआर-27-बी) मिला। यह माइक्रो आरएनए अन्य देशों के मरीजों में नहीं मिला।

    ये भी पढ़े-Corona virus Alert:कोरोना वायरस को लेकर एक अच्छी खबर,बेंगलुरु के डॉक्टर ने खोज निकाला कोरोनो वायरस का उपचार,देखे वीडियो

    %25E0%25A4%25B9%25E0%25A5%2588%25E0%25A4%25A1%25E0%25A4%25B0%2B%25E0%25A4%25B5%25E0%25A4%25BF%25E0%25A4%259C%25E0%25A5%258D%25E0%25A4%259E%25E0%25A4%25BE%25E0%25A4%25AA%25E0%25A4%25A8%2B


    भारतीयों में कोरोना के सार्स-टू में एक म्यूटेशन भी देखा गया। इसमें वायरस की सतह पर एक विशेष प्रोटीन मिला। शोध में अनुमान लगाया गया कि भारतीयों में मौजूद विशेष माइक्रो आरएन सार्स-टू को म्यूटेट कर देता है। इससे वायरस की क्षमता अन्य देशों की अपेक्षा यहां कम हो रही है।


    केजीएमयू की डॉ. शीतल वर्मा ने बताया कि एचएसए-एमआइआर-27-बी नामक यह माइक्रो आरएनए अन्य देशों के मरीजों में नहीं मिला। इस शोध ने एक उम्मीद जगाई है। शोध को विस्तार दिया गया है। अब ऑनलाइन सभी देशों के मरीजों का डाटा जुटाया जा रहा है। डब्लूएचओ भी डाटा शेयर कर रहा है। लिहाजा, जल्द कुछ बड़ी उपलब्धि सामने होगी।

    ये भी पढ़े-Corona virus Alert:देश में एक दिन में कोरोना संक्रमण के 125 नए मामले ,चार लोगों की मौत ,संक्रमितों की संख्या 800 को पार गई

    क्या होता है आरएनए..
    किसी भी जीवित प्राणी के शरीर में डीएनए की तरह राइबो न्यूलिक एसिड भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। आरएनए शरीर में डीएनए के जीन्स को नकल कर के व्यापक तौर पर प्रवाहित करने का काम करता है। इसके साथ ही यह कोशिकाओं में अन्य आनुवांशिक सामग्री पहुंचाने में भी सहायक होता है। जीन को सुचारू बनाना और उनकी प्रतियां तैयार करना, विभिन्न प्रकार के प्रोटीनों को जोड़ने का काम करना भी इसकी अहम जिम्मेदारी है। आरएनए का स्वरूप एक सहस्नाब्दी यानी एक हजार वर्षो में बहुत कम बदलता है। अतएव इसका प्रयोग विभिन्न प्राणियों के संयुक्त पूर्वजों की खोज करने में भी किया जाता है।

    शोध विस्तार
    शोध में सिस्टमेटिक जीन लेवल म्यूटेशन एनॉलिसिस व बायो इंफॉरमेटिक टूल्स का प्रयोग किया गया। नतीजे देखकर कई एक्सपर्ट पर अब आगे अध्ययन की जरूरत बता रहे हैं। शोध को विस्तार दे दिया गया है। 

    Header%2BAid

    Whats App पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 9599389900 को अपने Mobile में save करके इस नंबर पर Missed Call करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए https://www.facebook.com/wenews24hindi  और https://twitter.com/Waors2 पर पर क्लिक करें और पेज को लाइक करें।

    Post Top Ad

    Post Bottom Ad