Header Ads


  • BREAKING NEWS

    Nirbhaya Case Update:अभी भी जिन्दा है निर्भया के एक गुनाहगार ,चंद लोग ही देख पाए हैं उसका चेहरा

    We News 24 Hindi »दिल्ली/राज्य
    NCR/एडिटर एंड चीफ दीपक कुमार 

    नई दिल्ली: दिल्ली की पटियाला हाउस द्वारा जारी डेथ वांरट के मुताबिक, शुक्रवार सुबह निर्भया के सभी चारों दोषियों विनय कुमार शर्मा, पवन कुमार गुप्ता, मुकेश सिंह और अक्षय कुमार सिंह को फांसी लटका दिया गया । औरअब जाकर साढ़े सात साल बाद ही सही  निर्भया को  इंसाफ मिला । पर आपको पता है इस केस का एक आरोपी अभी भी जिन्दा है और कही गुमनामी की जिन्दगी गुजर रहा है |

    आपको बताते चले की  16 दिसंबर, 2012 की वो काली रात में इन दंरिंदो ने  23 वर्षीय पैरामेडिकल की छात्रा निर्भया के साथ  दिल्ली के वसंत विहार में  चलती बस में दरिंदगी की , इस घिनौने जुर्कुम में छह लोग शामिल थे। जिनमें पांच के नाम राम सिंह, विनय, पवन, मुकेश और अक्षय हैं, जबकि छठा आरोपी नाबालिग था। एक आरोपित राम सिंह ने तो वर्ष, 2013 में तिहाड़ जेल में ही फांसी लगा अपनी जान दे दिया  जबकि छठा गुनाहगार अभी भी  जिंदा है और जुवेनाइल कोर्ट की  सजा पूरी कर देश के किसी कोने में रह रहा है।

    ये भी पढ़े-पटना के गांधी मैदान 19 मार्च से 31 मार्च तक आम जनता के लिए किया गया बंद

    गौरतलब है कि निर्भया के साथ सामूहिक दुष्कर्म मामले में दिल्ली पुलिस ने कड़ी मशक्कत के बाद छह आरोपितों की गिरफ्तारी की थी। जेल भेजने के बाद छह में से एक आरोपित ने दावा किया था कि वह आरोपित है। इसके बाद वह इससे जुड़े तमाम कागजात लेकर सामने आया तो उसे नाबालिग ही मानना पड़ा। 

    ये भी पढ़े-VIDEO:PM मोदी की देश से अपील- 22 मार्च को सुबह सात से रात नौ बजे तक जनता कर्फ्यू का पालन करें देशवासी

    इसके बाद कोर्ट ने उस समय मौजूदा कानून के मद्देनजर उसे नाबालिग मानकर मुकदमा चलाने के बजाय उसे सुधार गृह भेज दिया। 2016 में ही वह जुवैनाइल कोर्ट से  रिहा कर दिया गया। वह कहां है और क्या कर रहा है? इस बारे में कोई ठोक तौर पर कुछ नहीं जानता, लेकिन यह जरूर खबर है कि वह दक्षिण भारत के किसी राज्य में कुक का काम करता है। 


    उसे जुवैनाइल में सजा काटने के दौरान हुनरमंद बनाने वाले गैरसरकारी संगठन का कहना है कि दिल्ली से वह दक्षिण भारत चला गया और वहां पर नाम बदलकर रह रहा है और वहां पर कुक का काम करता है। खाना बनाने का काम इस नाबालिग दोषी ने दिल्ली में रहने के दौरान सीखा था। 

    ये भी पढ़े-निर्भया के चारों दोषियों को शुक्रवार सुबह 5.30 बजे फांसी तय, दोषियों ने नहीं बताई अंतिम इच्छा

    बताया जाता है कि इस नाबालिग दोषी का कोई आपराधिक रिकॉर्ड भी नहीं रहा था। दरअसल, बस ड्राइवर पर उसके 8000 रुपये बकाया था। 16 दिसंबर, 2012 को भी वह अपने पैसे लेने ही गया था। रात में बस में मौजूद रहने के दौरान वह भी पांचों के साथ इस अपराध में शामिल हो गया। महज 11 साल की उम्र में बेहतर जिंदगी की तलाश में वह दिल्ली चला आया था।

    Whats App पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 9599389900 को अपने Mobile में save करके इस नंबर पर Missed Call करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए https://www.facebook.com/wenews24hindi  और https://twitter.com/Waors2 पर पर क्लिक करें और पेज को लाइक करें।

     


    Post Top Ad

    Post Bottom Ad