Header Ads


  • BREAKING NEWS

    SCAM:यस बैंक के फाउंडर से घंटों की पूछताछ के बाद ईडी ने किया गिरफ्तार

    प्रवर्तन निदेशालय ने मुंबई के वर्ली स्थित राणा के आवास की तलाशी ली थी। उनकी पत्नी बिंदु से भी घंटों सवाल-जवाब हुए। तीन बेटियों समेत कई अन्य करीबियों के घर भी छापेमारी के बाद पूछताछ हुई।

    We News 24 Hindi »दिल्ली/राज्य
    NCR/दिल्ली/ब्यूरो संवाददाता खुशबु सिंह 

    नई दिल्ली : यस बैंक के फाउंडर और पूर्व सीईओ राणा कपूर पर प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने शिकंजा कस दिया है। कई घंटों की पूछताछ के बाद कपूर को ईडी ने गिरफ्तार कर लिया। राणा को शनिवार को पूछताछ के लिए ईडी कार्यालय ले जाया गया था।

    ये भी पढ़े-PATNA:नवीन सिन्हा पार्क में बोर्न टू रन के द्वारा आयोजित हुआ होली मिलन समारोह


    प्रवर्तन निदेशालय ने शुक्रवार रात को मुंबई के वर्ली स्थित राणा के आवास की तलाशी ली थी। उनकी पत्नी बिंदु से भी घंटों सवाल-जवाब हुए। तीन बेटियों समेत कई अन्य करीबियों के घर भी छापेमारी के बाद पूछताछ हुई। खबरों के मुताबिक, ईडी को पता चला है कि यस बैंक से भारी ऋण के बदले डीएचएफएल ने राणा के परिवार की ही एक कंपनी को 600 करोड़ का ऋण दिया। 

    ईडी राणा कपूर से के परिवार से ताल्लुकात रखने वाली कुछ अन्य कंपनियों के बीच हुए हजारों करोड़ रुपये के लेनदेन की भी जांच कर रहा है। धनशोधन के मामले में राणा कपूर को शनिवार दोपहर में बालार्ड एस्टेट स्थित एजेंसी के कार्यालय में लाया गया था। उनसे यस बैंक द्वारा बड़ी कंपनियों को दिए गए जोखिम ऋण के बारे में पूछताछ हुई। 

    ये भी पढ़े-PATNA:बिहार की 11 बेटियों को मिला कंचन रत्न सम्मान

    यस बैंक ने वोडाफोन, डीएचएफएल, एस्सेल और अनिल अंबानी समूह की संकटग्रस्त कंपनियों को कर्ज दिए। ईडी अधिकारियों के मुताबिक, कपूर के खिलाफ मामला घोटाले से प्रभावित डीएचएफएल से जुड़ा हुआ है, क्योंकि बैंक द्वारा कंपनी को दिया गया कर्ज एनपीए घोषित कर दिया गया है। 

    कपूर के खिलाफ धन शोधन रोकथाम अधिनियम के तहत कार्रवाई की जा रही है। जांच एजेंसी कुछ कॉरपोरेट संस्थाओं को दिए गए ऋण और कथित तौर पर रिश्वत के रूप में कुछ धनराशि कपूर की पत्नी के खातों में जमा किए जाने के संबंध में राणा की भूमिका की जांच भी कर रही है। 



    अधिकारियों ने कहा कि अन्य कथित अनियमितताएं भी जांच के दायरे में हैं। इसमें एक मामला उत्तर प्रदेश बिजली निगम में कथित पीएफ धोखाधड़ी से संबंधित है। सीबीआई ने हाल में उत्तर प्रदेश में 2,267 करोड़ रुपये के कर्मचारी भविष्य निधि घोटाले की जांच शुरू की है, जहां बिजली क्षेत्र के कर्मचारियों की मेहनत की कमाई को डीएचएफएल में निवेश किया गया।

    Whats App पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 9599389900 को अपने Mobile में save करके इस नंबर पर Missed Call करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए https://www.facebook.com/wenews24hindi  और https://twitter.com/Waors2 पर पर क्लिक करें और पेज को लाइक करें।

    Post Top Ad

    Post Bottom Ad