Header Ads


  • BREAKING NEWS

    उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता के पिता की हत्या मामले में ,पूर्व विधायक कुलदीप सिंह सेंगर सहित सात दोषियों को 10 साल की सजा

    We News 24 Hindi »दिल्ली/एनसीआर 
    ब्यूरो संवाददाता विवेक श्रीवास्तव

    नई दिल्ली: उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता के पिता की गैर इरादतन हत्या के लिए दोषी यूपी के पूर्व विधायक कुलदीप सिंह सेंगर सहित सात दोषियों को दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट ने 10 साल की सजा सुनाई है। इसी के साथ 10-10 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया है।




    इन 7 लोगों को सुनाई गई है 10 साल की सजा
    1. उन्राव के पूर्व विधायक कुलदीप सिंह सेंगर
    2. सब इंस्पेक्टर कामता प्रसाद
    3. एसएचओ अशोक सिंह भदौरिया 
    4. विनीत मिश्रा उर्फ विनय मिश्रा
    5. जय सिंह उर्फ अतुल सिंह
    6. वीरेंद्र सिंह उर्फ बउवा सिंह
    7. शशि प्रताप सिंह उर्फ सुमन सिंह


    इससे पहले बृृहस्पतिवार को सजा पर बहस के दौरान सीबीआइ और पीड़ित पक्ष ने दोषियों के लिए अधिकतम सजा की मांग की थी। बता दें कि अधिकतम सजा के तहत उम्र कैद का प्रावधान है, लेकिन कोर्ट ने 10 साल की ही सजा सुनाई है। बता दें कि कुलदीप सिंह सेंगर को दुष्कर्म के मामले में कोर्ट पहले ही सजा दे चुका है, जिसमें प्राकृतिक मौत तक जेल में रखने की सजा दी गई है। 


    यह भी पढ़ें-सीतामढ़ी सोनबरसा में एक लड़की की गोली मारकर हत्या अपाचे सवार अपराधियों ने दिया घटना को अंजाम

    सजा पर बहस के दौरान दोषी कुलदीप सिंह सेंगर सहित सभी सात दोषी अदालत में मौजूद रहे। सीबीआइ और पीड़िता के वकील धर्मेद्र कुमार मिश्रा ने अधिकतम सजा की मांग की थी, जबकि दोषियों ने अदालत से दया मांगी थी। इस मामले में अदालत ने चार मार्च को पूर्व विधायक कुलदीप सेंगर, माखी थाने के तत्कालीन एसएचओ अशोक सिंह भदौरिया, तत्कालीन सब इंस्पेक्टर कामता प्रसाद, विनीत मिश्र उर्फ विनय मिश्र, बीरेंद्र सिंह उर्फ बउवा सिंह, शशि प्रताप सिंह उर्फ सुमन सिंह और जयदीप सिंह उर्फ अतुल सिंह सेंगर को दोषी करार दिया था।


    यह भी पढ़ें-SITAMARHI:स्कॉर्पियो व टेम्पो के बीच हुई सीधी टक्कर में एक की मौत

    न्यायाधीश ने कहा था कि दुष्कर्म पीड़िता के पिता को सेंगर ने पुलिस कर्मियों की मदद से फंसाया था। पीड़ित के साथ इतनी बेरहमी से मारपीट की गई थी कि उनकी मौत हो गई। सीबीआइ यह साबित करने में सफल रही कि जब पीड़िता के पिता के साथ मारपीट की गई तो कुलदीप फोन पर पुलिसकर्मियों के संपर्क में था। इसके बाद पीड़ित के खिलाफ अवैध हथियार का झूठा केस दर्ज किया गया। अस्पताल में मेडिकल चेकअप के दौरान सेंगर डॉक्टरों के संपर्क में था। घायल को अस्पताल में रखने के बजाय न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया और चार दिन बाद उनकी मौत हो गई।'


    यह भी पढ़ें-BIHAR:अभी अभी सीतामढ़ी सुरसंड प्रखंड के कुम्मा ओपी के पास तीन साल के बच्चे शव मिलने से सनसनी

    आरोपपत्र में सीबीआइ ने कहा था कि तीन अप्रैल 2018 को पीड़िता के पिता और शशि प्रताप सिंह के बीच लिफ्ट को लेकर बहस हुई। दुष्कर्म पीड़िता के पिता अपने एक सहयोगी के साथ काम से वापस अपने घर लौट रहे थे। इस दौरान उन्होंने शशि प्रताप से लिफ्ट मांगी, लेकिन उसने इन्कार कर दिया। इस बीच बहस हो गई और शशि प्रताप ने कुलदीप सेंगर के भाई अतुल सेंगर को फोन कर मौके पर बुलाया। अतुल अपने कुछ साथियों के साथ मौके पर आया और पीड़िता के पिता, उनके सहयोगी के साथ बुरी तरह मारपीट की। इसके बाद उन्हें थाने में लेकर गए और उन्हीं पर केस दर्ज करवा दिया।


    जज से बोला सेंगर-मैंने कुछ गलत किया है तो फांसी दे दो, आंखों में तेजाब डाल दो
    सजा पर बहस के दौरान अगर मैंने कुछ गलत किया है, तो मुझे फांसी दे दो। मेरी आंखों में तेजाब डाल दो। मुझे न्याय दिया जाए या फिर फांसी पर लटका दिया जाए। मेरी दो बेटियां हैं, मुझे माफ कर दिया जाए। ये वह शब्द हैं जो पूर्व विधायक कुलदीप सिंह सेंगर ने तीस हजारी अदालत के सत्र न्यायाधीश धर्मेश शर्मा की कोर्ट में बृहस्पतिवार को सजा पर बहस के दौरान बोले।


    जज ने कहा, अपराध करने से पहले सोचना था, तुमने सारे कानून तोड़ दिए
    इस पर न्यायाधीश ने सेंगर से कहा कि उसे दोषी करार दिया जा चुका है, क्योंकि उसके खिलाफ साक्ष्य हैं। जज ने कहा, तुम्हारा परिवार है, तो दूसरों का भी परिवार है। यह सब तुम्हें अपराध करने से पहले सोचना चाहिए था, लेकिन तुमने एक के बाद एक सारे कानून तोड़ दिए।

    Whats App पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 9599389900 को अपने Mobile में save करके इस नंबर पर Missed Call करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए https://www.facebook.com/wenews24hindi  और https://twitter.com/Waors2 पर पर क्लिक करें और पेज को लाइक करें।

    Post Top Ad

    Post Bottom Ad