Haider Aid

  • Breaking News

    दो सरकारों के बीच पिस रहे प्रवासी मजदूर,लॉकडाउन ने छीनी प्रव्रासी मजदूरों की रोजी-रोटी,सडक़ पर आकर किया प्रदर्शन लगाया जाम



    We News 24 Hindi »हिमाचल प्रदेश/राज्य

    सोलन/रिपोर्टर सत्यदेव शर्मा सहोड़



    बददी (सोलन)।औद्योगिक क्षेत्र बददी के विभिन्न उद्योगों में काम करने वाले हजारों प्रवासी मजदूर पड़ौसी रा’य हरियाणा के सीमांत गांवों में किराये पर रहे रहे हैं। यह देश में लॉक डाउन लगने के बाद न तो अपने घर जा पाए हैं और न ही यह दोबारा काम पर बददी-बरोटीवाला-नालागढ़ आ पाए हैं। इन सभी मजदूरों को लॉक डाउन-टू तक स्थानीय स्वयं सहायकता समूहों द्वारा भोजन की व्यवस्था होती रही, 

    ये भी पढ़े- बिक्रम में स्वच्छाग्रही की और से सभी को मास्क और साबुन वितरण किया गया

    लेकिन लॉकडाउन-थ्री लगने के बाद इन्हें पूछने वाला नहीं रहा। अब रविवार को इनके सब्र का पैमाना झलक गया और यह प्रवासी मजदूर सडक़ों पर आ गए। हजारों की संख्या में हरियाणा के सीमावर्ती गांवों में रहने वाले प्रवासी मजदूरों ने मढ़ावाला बाजार में आकर जाम लगाते हुए प्रदर्शन किया। न तो इन प्रवासी मजदूरों की हरियाणा में सुनवाई हो रही है और न ही हिमाचल प्रदेश में इन्हें लिया जा रहा है। इनकी स्थिति न घर के न घाट के वाली बन गई है। 

    ये भी पढ़े-महाराष्ट्र में कोरोना का तीसरा स्टेज ,मिले कम्युनिटी ट्रांसमिशन के सबूत

    देश भर में लागू लॉकडाउन कारण इस कोरोना महामारी के संकट काल में सबको घर के अंदर रहना है। लॉकडाउन की मौजूदा स्थिति अब मजदूरों के जीविका पर भारी असर पड़ा है। कुछ दिन पहले तक कई संस्थाओं के लंगर चलते थे जहां से उन्हें भोजन उपलब्ध हो जाया करता था परंतु लॉकडाउन लंबा चलने के कारण उनके भविष्य पर अनिश्चितता के बादल मडऱा रहे हैं क्योंकि इन सबकी रोजी-रोटी हिमाचल में स्थित उद्योगों से चलती है जबकि इनका आवास हरियाणा में है।

    ये भी पढ़े-BREAKING:पटना जिले के दुल्हिन बाजार अंतर्गत आपसी रंजिश को लेकर हुई गोलीबारी में दो युवक जख्मी

     हिमाचल प्रदेश व हरियाणा सरकार को तालमेल कायम बनाकर इन प्रवासी मजूदरों के बारे में सोचना चाहिए। समाज सेवी परमहंस द्विवेदी, अरुण कुमार सिंह, अरुण पांडेय व ठाकुर हरिओम सिंह त्रिदेव ने कहा कि प्रवासी मजदूरों के जीवन यापन के लिए भोजन का प्रबंध करना चाहिए। जिनके पास राशन कार्ड न भी हो उन्हें इस विषम परिस्थिति में राशन सामग्री मिलनी चाहिए। उन्होंने बताया कि इसके लिए हरियाणा की खट्टर सरकार ने सर्वे भी कराया।


     लेकिन अभी तक किसी को कुछ नहीं मिला। दोनों प्रदेशों की सरकारों को इनके काम धंधे या रोजगार की ब्यवस्था करनी चाहिए। अन्यथा इनको वापिस घर भेज दिया जाना चाहिए। सरकार से अपने हित की अपेक्षा रखते हुए प्रवासी मजूदरों ने आज मढ़ावाला चौक के आसपास हजारों की संख्या में लोग एकत्र हुए।

    Header%2BAid
    Whats App पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 9599389900 को अपने Mobile में save करके इस नंबर पर Missed Call करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए https://www.facebook.com/wenews24hindi  और https://twitter.com/Waors2 पर पर क्लिक करें और पेज को लाइक करें।

    No comments

    Post Top Ad

    Post Bottom Ad