Header Ads

  • BREAKING NEWS

    भारत चीन से हर मोर्चे पर दो-दो हाथ करने को तैयार है,चीन को उसी के अंदाज में मिलेगा जवाब


    We News 24 Hindi »नई दिल्ली 

    संवाददाता काजल कुमारी 

    नई दिल्ली : भारत व्यापार, कूटनीति और सैन्य आक्रामकता किसी भी मोर्चे पर चीन से दो-दो हाथ करने को तैयार । चीन को उसी की भाषा मे हर मोर्चे पर जवाब देने की तैयारी में जुट गया है भारत। कूटनीतिक स्तर पर ताइवान और हांगकांग में फंसा हुआ चीन भारत से 'वन चाइना पॉलिसी' पर ठोस आश्वासन चाहता है। ताइवान के मुद्दे पर अमेरिका भारत का परोक्ष समर्थन चीन को चुभने लगा है। लेकिन भारत ने स्पष्ट संकेत दिया है कि अगर चीन को भारत की संवेदनशीलता का भी ध्यान रखना चाहिए।

    ये भी पढ़े-महाराष्ट्र:में सियासी संकट की आहट,सरकार के फैसलों से कोंग्रेस अलग,संजय राउत ने दी सफाई


    सत्ताधारी दल के दो सांसदों के ताईवान राष्ट्रपति के शपथ समारोह में शामिल होने पर भी चीन ने आपत्ति जताई थी। मीनाक्षी लेखी और राहुल कासवान ताइवान के राष्ट्रपति त्साई इंग-वेन के शपथ ग्रहण समारोह में वर्चुअल माध्यम से शामिल हुए थे।


    चीनकी बढ़ी बैचैनी  

    दिल्ली में चीनी दूतावास के काउंसलर लियू बिंग ने समारोह में भारत की भागीदारी के खिलाफ विरोध दर्ज कराया। इसके लिए उन्होंने सांसद लेखी और कासवान के सामने लिखित शिकायत भी दी, जिसमें उन्होंने दोनों सांसदों की तरफ से दिए गए बधाई संदेश को गलत बताया है। इस कार्यक्रम में अमेरिकी विदेश मंत्री सहित दुनिया के कई देशों के प्रतिनिधि शामिल हुए थे।

    ये भी देखे-VIDEO:रिगा चीनी मिल को बंद करने की साजिश,40 हजार किसानों का 185 करोड़ बकाया,किसानों की बेचैनी बढ़ी

    ताइवान को समर्थन से झुंझलाहट
    सूत्रों ने कहा चीन को व्यापारिक मोर्चे पर झटका लग रहा है। चीन से विदेशी कंपनियां हटना चाहती हैं। कोविड संकट में सार्थक भूमिका की वजह से ताइवान को काफी समर्थन मिला है, जबकि चीन को दुनिया संदेह की नजर से देख रही है। भारत की भूमिका संकट के वक्त बढ़ी है। अमेरिका और भारत की रणनीतिक साझेदारी भी स्पष्ट नजर आई है। इन सबसे चीनी शासन में झुंझलाहट है।

    ये भी पढ़े-भारत ने बिना युद्ध लड़े पाकिस्तान को हरा दिया,पाकिस्तानी आर्मी चीफ बाजवा भी घबरा गया




    ध्यान भटकाने की कोशिश
    सूत्रों का कहना है कि कई मोर्चो पर उलझा चीन अपने खिलाफ बने माहौल से ध्यान भटकाने की कोशिश कर रहा है। गालवां घाटी में चीन के कदम को भारत चीन की बौखलाहट से जोड़कर देख रहा है। सूत्रों का कहना है कि इस इलाके में कभी भी चीन ने इस तरह का आक्रामक रुख नहीं दिखाया। इसलिए माना जा रहा है कि चीन जानबूझकर दबाव बनाने के लिए इस तरह का कदम उठा रहा है। जिससे वह व्यापार के मोर्चे पर भारत पर दबाव बना सके। साथ ही अमेरिका सहित अन्य देशों की रणनीतिक मोर्चेबंदी से भारत को दूर किया जा सके।

    ये भी पढ़े-बिहार में कोरोना बढ़ते संक्रमण को देखते हुए,सभी जिलों केआइसोलेशन वार्ड में बेडों की संख्या बढ़ाने के निर्देश

    बातचीत जारी, तनाव बरकरार
    सूत्रों ने कहा, पर्दे के पीछे स्थिति सामान्य करने की कोशिश हो रही है। लेकिन भारत ने स्पष्ट संकेत दिया है कि वह अपना कदम पीछे नही खींचेगा। सूत्रों ने बताया कि दोनों पक्षों के बीच करीब 20 दिन तक चले गतिरोध के मद्देनजर भारतीय सेना ने उत्तर सिक्किम, उत्तराखंड, अरुणाचल प्रदेश और लद्दाख में संवेदनशील सीमावर्ती इलाकों में अपनी मौजूदगी उल्लेखनीय ढंग से बढ़ाई है और यह संदेश दिया है कि भारत चीन के किसी भी आक्रामक सैन्य रुख के आगे रुकने वाला नहीं है।

    Header%2BAid

    Whats App पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 9599389900 को अपने Mobile में save करके इस नंबर पर Missed Call करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए https://www.facebook.com/wenews24hindi  और https://twitter.com/Waors2 पर पर क्लिक करें और पेज को लाइक करें।

    WE NEWS 24 AID

    Post Bottom Ad