Haider Aid

  • Breaking News

    नेपाल ने चीन के इशारे पर लिपुलेख दर्रे में भारत की सड़क बिछाने पर आपत्ति जताई


    We News 24 Hindi »नई दिल्ली 
    अंजली कुमारी की रिपोर्ट

    नई दिल्ली : सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवणे ने नेपाल और भारत के बीच लिपुलेख दर्रे को लेकर पनपी तनाव की स्थिति के लिए परोक्ष रूप से चीन को जिम्मेदार ठहराया है। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड के लिपुलेख दर्रे तक भारत के सड़क बिछाने पर नेपाल किसी और के कहने पर आपत्ति जता रहा है। उन्होंने यह भी कहा कि चीनी सेना के साथ हाल की तनातनी पर भारतीय सेना सिलसिलेवार तरीके से निपट रही है।

    ये भी पढ़े-VIDEO:सीतामढ़ी डीएम साहिबा पुपरी कोरेंटाइन सेंटर के लोग क्या कह रहे हैं सुनिए

    एक रक्षा थिंक-टैंक के साथ बातचीत में जनरल नरवणे ने कहा कि भारत को अपनी उत्तरी और पश्चिमी सीमाओं पर युद्ध के परिदृश्य को लेकर तैयार रहना होगा। टूर ऑफ ड्यूटी (टीओडी) परिकल्पना के तहत युवाओं को तीन साल के लिये सेना में भर्ती करने के प्रस्ताव के बारे में सेना प्रमुख ने कहा कि यह विचार स्कूल और कॉलेज के छात्रों से मिले उस फीडबैक के बाद सामने आया कि वे सेना में स्थायी कमीशन लिये बिना ही सेना की जिंदगी का अनुभव करना चाहते हैं। 

    जनरल नरवणे ने कहा कि टीओडी से सेना को अपने पेंशन और अन्य दिये जाने वाले फायदों पर आने वाली लागत को कम करने में मदद मिलेगी।

    ये भी पढ़े-सुप्रीम कोर्ट ने प्रवासी मजदुर की याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा ,हम कैसे रोक सकते हैं

    युद्ध तैयारियों से समझौता किए बिना सेना खर्च में कर रही कटैती
    एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि सेना को सरकार की तरफ से आदेश मिला है कि कोविड-19 के मद्देनजर वह चालू वित्त वर्ष में अपने खर्चों में 20 प्रतिशत की कटौती करे और सेना अपनी युद्ध तैयारियों से समझौता किए बिना इसे लागू कर रही है। उन्होंने मनोहर पर्रिकर इंस्टीट्यूट फॉर डिफेंस स्टडीज एंड एनलिसिस द्वारा आयोजित एक वीडियो कॉन्फ्रेंस में कहा कि बड़े पैमाने पर जवानों की आवाजाही को रोकने समेत विभिन्न उपायों के तहत खर्च में कटौती की जा रही है। 


    'नेपाल की प्रतिक्रिया हैरान करने वाली थी'
    भारत द्वारा लिपुलेख-धारचुला मार्ग तैयार किये जाने पर नेपाल द्वारा आपत्ति किये जाने के सवाल पर जनरल नरवणे ने कहा कि पड़ोसी देश की प्रतिक्रिया हैरान करने वाली थी। सेना प्रमुख ने कहा, “काली नदी के पूरब की तरफ का हिस्सा उनका है। हमने जो सड़क बनाई है वह नदी के पश्चिमी तरफ है। इसमें कोई विवाद नहीं था। मुझे नहीं पता कि वे किसी चीज के लिए विरोध कर रहे हैं।

    उन्होंने कहा, “पूर्व में कभी कोई समस्या नहीं हुई है। यह मानने के कारण हैं कि उन्होंने किसी दूसरे के कहने पर यह मामला उठाया है और इसकी काफी संभावना है।

    ये भी पढ़े-VIDEO We News 24 का सर्वे का असर, चिर निद्रा से जागा सीतामढ़ी नगर परिषद में अब होने लगी शहर में साफ सफाई ,लेकिनअभी भी वार्डो में काम बाकि

    राजनाथ सिंह ने किया था सड़क का उद्घाटन
    रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने पिछले हफ्ते उत्तराखंड में 17 हजार फीट की ऊंचाई पर चीन की सीमा से लगी रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण 80 किलोमीटर लंबी इस सड़क का उद्घाटन किया था। नेपाल ने शनिवार को सड़क के उद्घाटन पर आपत्ति जताते हुए कहा था कि एकतरफा कार्रवाई सीमा से जुड़े मुद्दों के समाधान के लिये दोनों देशों के बीच बनी सहमति के खिलाफ है। 


    'मामले-दर-मामले के आधार पर चीन से निपट रहे हैं'
    भारत और चीन के सैनिकों के दो मौकों पर आमने-सामने आने के सवाल पर सेना प्रमुख ने कहा कि दोनों मामले आपस में जुड़े नहीं हैं। उन्होंने कहा कि हम मामले-दर-मामले के आधार पर इनसे निपट रहे हैं। मैंने इन तनातनी में कोई एक जैसा प्रारूप नहीं देखा। दो मोर्चों पर युद्ध की बात पर उन्होंने कहा कि यह एक संभावना है और देश को ऐसे परिदृश्य का सामना करने के लिये तैयार रहना चाहिए। 

    ये भी पढ़े-ग्राम पंचायत की लापरवाही लोगों की जान ले रही है,रीगा थाना क्षेत्र में गड्ढे में गिरने से किशोरी की मौत

    आगे उन्होंने कहा, “यह एक संभावना है। ऐसा नहीं है कि हर बार ऐसा होने जा रहा है। हमें जो भी आपदाएं, विभिन्न परिदृश्य सामने आ सकते हैं उन्हें लेकर सतर्क रहना होगा।” जनरल नरवणे ने कहा, “लेकिन यह मान लेना कि सभी मामलों में दोनों मोर्चे 100 प्रतिशत सक्रिय हो जाएंगे, मुझे लगता है कि यह कल्पना करना सही नहीं होगा। दो मोर्चों पर युद्ध से निपटने की जहां तक बात है तो इसमें हमेशा एक प्राथमिकता वाला मोर्चा होगा और दूसरा कम प्राथमिकता वाला। हम दो मोर्चों पर खतरे से निपटने को इस तरह से देखते हैं।

    Header%2BAid
    Whats App पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 9599389900 को अपने Mobile में save करके इस नंबर पर Missed Call करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए https://www.facebook.com/wenews24hindi  और https://twitter.com/Waors2 पर पर क्लिक करें और पेज को लाइक करें।


    No comments

    Post Top Ad

    Post Bottom Ad