Header Ads

  • BREAKING NEWS

    पाकिस्तान की बदहाली,कोरोना रिलीफ फंड से चुकायेगा बिजली का बिल





    We News 24 Hindi »नई दिल्ली 

    संवाददाता अंजली कुमारी की रिपोर्ट

    नई दिल्ली: कोरोना वायरस और आर्थिक तंगी से बेहाल पाकिस्तान (Pakistan) ने कुछ दिनों पहले कोरोना वायरस संकट से निपटने के लिए विश्व बैंक और एशियाई विकास बैंक(ADB) से नए कर्ज की मांग की थी ऋणों में 2 अरब डॉलर का नया कर्ज लेने की योजना बनाई थी.


    द एक्सप्रेस ट्रिब्यून ने बताया कि पाकिस्तान ने विश्व बैंक और एशियाई विकास बैंक से जो ऋण मांगा था, वह G-20 देशों से मांगी गई 1.8 अरब डॉलर की कर्ज सहायता से ज्यादा था. पाकिस्तान ने ऐसा अपने राजकोष को सुधारने के लिए किया था. 

    ये भी पढ़े-करोना इलाज में जिस दवा पर अमेरिकी राष्ट्रपति का भरोसा,उससे मौत का खतरा,शोध में हुआ खुलासा

    नई दिल्ली: कोरोना वायरस और आर्थिक तंगी से बेहाल पाकिस्तान ने कुछ दिनों पहले कोरोना वायरस संकट से निपटने के लिए विश्व बैंक और एशियाई विकास बैंक(ADB) से नए कर्ज की मांग की थी ऋणों में 2 अरब डॉलर का नया कर्ज लेने की योजना बनाई थी.


    द एक्सप्रेस ट्रिब्यून ने बताया कि पाकिस्तान ने विश्व बैंक और एशियाई विकास बैंक से जो ऋण मांगा था, वह G-20 देशों से मांगी गई 1.8 अरब डॉलर की कर्ज सहायता से ज्यादा था. पाकिस्तान ने ऐसा अपने राजकोष को सुधारने के लिए किया था. 

    ये भी पढ़े-Corona update:भारत में कोरोना से मौतआंकड़ा हर दिन बढ़ता जा रहा है,इतनी हुयी संक्रमितों की संख्या

    पाकिस्तान ने बिजली दरों को कम करने के लिए जो कर्ज लिया था उसके ब्याज को चुकाने के लिए इमरान खान सरकार 10 अरब पाकिस्तानी रुपए निकाल रही है. यह निर्णय पाकिस्तान कैबिनेट की आर्थिक समन्वय समिति की बैठक में लिया गया.

    ये भी पढ़े-खुलासा तालिबानी आंतकवादी के प्रमुख सिराजुद्दीन हक्कानी कोरोना पॉजिटिव




    इस बैठक की अध्यक्षता इमरान खान के वित्तीय सलाहकार अब्दुल हफीज शेख ने की थी. शेख ने पाकिस्तान के राहत कोष के लिए एक नीति समिति भी नियुक्त की है, और यही समिति तय करेगी कि निधि कैसे खर्च की जाएगी. और बिजली दरों को कम करने के लिए उक्त राशि का आवंटन करना इसका पहला निर्णय था.


    चीनी परियोजनाओं में निवेश, पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था बिगाड़ रहा है- इससे देश अपनी प्राथमिकताएं भूल गया है.है. पाकिस्तान का सार्वजनिक ऋण इस साल जून तक बढ़कर 37.5 ट्रिलियन रुपये होने का अनुमान है, जो उसकी जीडीपी का 90 प्रतिशत होता है. पाकिस्तान वित्तीय बाजारों के विकास कार्यक्रम के नाम पर ADB से 300 मिलियन अमरीकी डालर का ऋण लेना चाहता है.

    Header%2BAid

    Whats App पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 9599389900 को अपने Mobile में save करके इस नंबर पर Missed Call करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए https://www.facebook.com/wenews24hindi  और https://twitter.com/Waors2 पर पर क्लिक करें और पेज को लाइक करें।

    WE NEWS 24 AID

    Post Bottom Ad