Haider Aid

  • Breaking News

    सीतामढ़ी नगर निगम बना लुट खसोट का अड्डा ,आउटसोर्सिंग द्वारा की जार ही साफ सफाई की खुल रही है पोल


    We News 24 Hindi »बिहार/राज्य
    सीतामढ़ी/संवाददाता रोहित ठकुर की रिपोर्ट

    सीतामढ़ी: ऐतिहासिक और घार्मिक नगरी जो माँ सीता के जन्म स्थली नगर परिषद से नगर निगम बनने के बाद भी तस्वीर नहीं बदली सिर्फ नाम बदल गया | लाखों रुपये महीने के खर्च होने के बाद भी शहर की दुर्दशाऔर स्थिति जस की तस है. 

    ये भी पढ़े-एनडीआरएफ ने चलाया जागरूकता कार्यक्रम और संवेदनशील इलाकों को किया सेनेटाइज्ड

    शहर का मुख्य जानकी मंदिर का दृश्य 

    ये भी पढ़े-नेपाल से आये मोतिहारी के 9 मजदूर क्वारेंटाइन सेंटर से फरार

    शहर  की साफ-सफाई जो पहले सफाई कर्मचारी करते थे उसे  हटा कर आउटसोर्सिंग सिस्टम लाया गया जो किसी NGO के साथ मिलकर ये काम करना है,शहर के हर वार्ड के हर घर से कूड़ा उठाना और नाली की साफ सफाई की व्यवस्था शामिल है | 

    सीतामढ़ी में मार्केर्ट सोनापट्टी वार्ड नंबर 8


    और आपके शहर में 
    प्रतिमा एनजीओ NGO  को ये आउटसोर्सिंग द्वारा साफ सफाई का जिम्मा दिया गया है | हर वार्ड के साफ सफाई के लिए इस NGO को 92980 रुपया महीने का दिया जा रहा है | और सीतामढ़ी में अभी 28 वार्ड है | सबको जोड़ ले तो 26,03440 होता  है |आउटसोर्सिंग की  निविदा पर भी   कुछ पार्षदों द्वारा सवाल उठाया जा रहा है |

    ये भी पढ़े-कल से दिल्ली में लॉकडाउन में मिलेगी राहत .अरविंद केजरीवाल ने रविवार को जानकारी दी

    सीतामढ़ी शहर की बदहाल तस्वीर वार्ड 7 और 11
    पिछले दिनों की बारिश ने इस सारी व्यवस्था की पोल खोल के रख दी है | आउटसोर्सिंग सिस्टम  का मकसद है  शहर के सफाई कार्य अच्छा से हो | आज हम आपको सीतामढ़ी शहर के कुछ तस्वीर दिखा रहे है | आप खुद ही देखे की चाहे नगर परिषद् रहे या नगर निगम बने शहर की हालत में कोई बदलाव आने वाला नहीं है | 

    सीतामढ़ी शहर की दुर्दशा की तस्वीर वार्ड नंबर 4

    एक दिन के कुछ घंटो की बारिश में शहर पूरा जलमग्न हो गया आप सोचिये  की जब पूरी बरसात का मौसम आएगा तो क्या भयावक स्तिथि होगी ? जब हमारे संवाददाता कुछ स्थनीय लोगो से बात किया तो सुने लोगो ने क्या कहा | 

    ये दृश्य वर्तमान सभा पति का है  वार्ड नंबर 2 


    लोगो का कहना है की सीतामढ़ी  पहले का नगर परिषद और वर्तमान में नगर निगम     कार्यपालक पधाधिकारी से लेकर सभी राशि की बंदर बांट कर अपनी जेब भरना ही उनका मकसद और लक्ष्य है अगर सरकार इसकी निष्पक्षता से जाँच करवाए तो कितनो को जेल की हवा खानी पड़ेगी | 

    सीतामढ़ी शहर की दुर्दशा की तस्वीर वार्ड नंबर 14

    मतलब साफ है कि सीतामढ़ी नगर निगम  मात्र लूट-खसोट का अड्डा बनकर रह गया है.और कुच्छ नहीं हमने सीतामढ़ी नगर निगम को पोल खोल कार्यकर्म की शुरुआत किया है |

    आगे भी हम आपके सामने चौकाने वाली खबर लेकर आयेंगे की भोली भाली जनता के पैसे से कैसे अधिकारी से लेकर पार्षद तक सब अपना घर भर रहे है | 

    उपर की तस्वीर देख कर आप खुद निर्णय करे की क्या आपके शहर में नगर निगम के द्वारा जो कार्य है उसे आप किस श्रेणी में रखते है ?

    Header%2BAidWhats App पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 9599389900 को अपने Mobile में save करके इस नंबर पर Missed Call करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए https://www.facebook.com/wenews24hindi  और https://twitter.com/Waors2 पर पर क्लिक करें और पेज को लाइक करें।


    Post Top Ad

    Post Bottom Ad