Haider Aid

  • Breaking News

    चीन हिंसक झड़प के बाद ,थल सेना और वायुसेना लद्दाख में मिलकर कर रही हैं अभ्यास,समय पर दिया जायेगा मुंह तोड़ जवाब



    We News 24 Hindi »जम्मू कश्मीर /राज्य 

    ब्यूरो रिपोर्ट 

    जम्मू: पूर्वी लद्दाख की गलवन घाटी में चीनी सेना के साथ हिंसक संघर्ष के बाद अपनी ऑपरेशनल तैयारियों को धार देने के लिए थल सेना और वायुसेना लद्दाख में मिलकर अभ्यास कर रही हैं। संदेश साफ है, वक्त आने पर दुश्मन पर सटीक संयुक्त प्रहार भी किया जाएगा।

    ये भी पढ़े-Stop Corona:कोरोना दवा की सफल रही फेज 2 का प्रशिक्षण अब तीसरी फेज की तैयारी.,एक ही दवा करेगी बचाव और उपचार


    थल सेना और वायुसेना अपनी भावी रणनीति पर कर रही हैं काम
    हाई अल्टीट्यूड माउंटेन वार फेयर की रणनीति के तहत आर्टिलरी दुश्मन की तोपों को तबाह करती है। इन्फैंट्री दुश्मन के खेमे के बीच पहुँचकर हाथों से लड़ाई कर दुश्मन को धकेलती है। वहीं वायुसेना दुश्मन के ठिकानों पर बम बारी व मिसाइलों से निशाना बनाकर थल सेना को आगे बढ़ने के लिए कवर देती है। इस समय पूर्वी लद्दाख में थलेसना, वायुसेना अपनी भावी रणनीति पर काम कर रही हैं। ऐसे में बेहतर समन्वय बनाकर आर्टिलरी की तोपों, हथियारों व सैनिकों को फौरन फ्रंट पर पहुंचाने के लिए मुहिम भी जारी है। 


    अभ्यास में सुखोई 30 के साथ चिनूक हेलीकाप्टर ले रहे हिस्सा
    अभ्यास में वायुसेना के सुखोई 30-एमके आइ के साथ ट्रांसपोर्ट विमान व चिनूक हेलीकॉप्टर भी हिस्सा ले रहे हैं। साजो सामान पहुँचाकर क्षेत्र में सेना की ताकत और बढ़ाने के लिए वायुसेना के विमान चंडीगढ़ से लगातार लद्दाख के लिए उड़ान भर रहे हैं। थल सेना व वायुसेना प्रमुख के हाल ही के पूर्वी लद्दाख के दौरों के बाद क्षेत्र की सुरक्षा का जिम्मा संभालने वाली सेना और वायुसेना के हौसले बुलंद हैं।

    ये ही पढ़े-नहीं चलेगा दूर दर्शन और ZEE TV पर विष्णु पुराण के विवादित एपिसोड ,15 करोड़ कलवार,कलाल,कलार समाज की जीत


    चीन को सबक सिखाने से पहले अपनी हर संभव तैयारी बहुत जरूरी
    सूत्रों के अनुसार, पूर्वी लद्दाख में गलवन के खूनी संघर्ष के बाद तनाव कम होने के आसार नहीं दिख रहे हैं। गलवन, पैंगांग त्सो व दौलत बेग ओल्डी इलाकों में चीन की चाल बाज़ी बरकरार हैं। पाकिस्तान की तरह चीन पर भी भरोसा नहीं किया जा सकता है। इसलिए सेना व वायुसेना क्षेत्र में चौकसी में किसी प्रकार की कमी नहीं कर रही है। वे सभी तैयारियां की जा रही हैं जो मौजूदा हालात में जरूरी हैं।



    क्षेत्र में तैनात रह चुके सेना के कर्नल वीरेन्द्र कुमार साही का कहना है कि चीन को सबक सिखाने से पहले अपनी हर संभव तैयारी बहुत जरूरी है। चीन धोखा देने वाला देश है। मौजूदा हालात में वायुसेना व सेना का अभ्यास समय की मांग भी है।

    Header%2BAidWhats App पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 9599389900 को अपने मोबाईल में सेव  करके इस नंबर पर मिस्ड कॉल करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए https://www.facebook.com/wenews24hindi और https://twitter.com/Waors2 पर  क्लिक करें और पेज को लाइक करें

    Post Top Ad

    Post Bottom Ad