Haider Aid

  • Breaking News

    अच्छी खबर :अमेरिका ने बना ली कोरोना की दवा.किया जा रहा है इंसानों पर परीक्षण,मिला सकारात्मक संकेत



    We News 24 Hindi »अमेरिका/न्यू यॉर्क


    न्यु योर्क:  अमेरिकी कंपनी एली लिली ने दावा किया है कि उसने कोरोना से ठीक हो चुके मरीज के खून से दो तरह की दवा बना ली है। एंटीबॉडी से तैयार इन दवाओं का इंसानों पर परीक्षण चल रहा है और काफी सकारात्मक संकेत मिले हैं। कंपनी ने तीसरी दवा भी बनाई है जिसका जल्द इंसानी परीक्षण किया जाएगा।

    ये भी पढ़े-COVID -19:भारत के 7 राज्यों में कोरोना की रफ्तार में तेजी ,बीते 10 दिनों में इन राज्यों में बड़ी संख्या में नए मामले सामने आए


    शोधकर्ता और मुख्य वैज्ञानिक अधिकारी डैनियल स्कोव्रोन्स्की ने कहा कि अगर सबकुछ ठीक रहा तो सितंबर तक दवा आने की उम्मीद है। उन्होंने बताया कि दुनिया में पहली बार एंटीबॉडी दवा विकसित की गई है। कनाडा और चीन के वैज्ञानिक इस पर लंबे समय से शोध कर रहे थे। एलवाई-सीओवी555 और जेएस 016 नाम की यह दवा वायरस के बाहरी नुकीले हिस्से को ब्लॉक कर देती है जिससे वह शरीर की स्वस्थ कोशिकाओं तक नहीं पहुच पाता और नुकसान भी नहीं होता। 



    यह पहली दवा है जिसके जरिए कोरोना के स्पाइक प्रोटीन की संरचना को निष्क्रिय किया जा सकता है। कोविड के उपचार में इस्तेमाल की जा रही एंटी मलेरिया, एंटी टीबी दवा के मुकाबले नई दवा ज्यादा प्रभावी है। यह दवा ‘मोनोक्लोनल एंटीबॉडीज' श्रेणी की ड्रग है, इसका इस्तेमाल कैंसर, अर्थराइटिस के इलाज में किया जाता है।

    ये भी पढ़े-बिजली विभाग के कार्यकारी अभियंता पर चाकू से हमला, पेट्रोल भी जलाने की कोशिश


    इधर, दक्षिण कोरिया के वैज्ञानिकों ने उन स्थितियों की पहचान की है, जिनसे कोरोना मरीजों में खतरा कई गुना बढ़ जाता है। यहां तक उनकी जान भी चली जाती है। शोधकर्ताओं का कहना है कि अगर मधुमेह, बुखार, शरीर में ऑक्सीजन की कम मात्रा और हृदय में चोट पर नजर रखी जाए तो काफी हद तक मरीजों को बचाया जा सकता है। 

    कोरिया की मेडिकल सेंटर यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं का यह अध्ययन कोरियन मेडिकल साइंस जर्नल में प्रकाशित हुआ है। यूनिवर्सिटी में आंतरिक चिकित्सा विभाग के प्रोफेसर और शोधकर्ताओं में से एक आहन जून होंग ने बताया कि इन निष्कर्षों से मरीजों की सही पहचान करने और उन्हें तुरंत इलाज करने में काफी मदद मिलेगी।

    ये भी पढ़े-आपदा कभी भी नही होगी भारी,यदि हमारी पूरी होगी तैयारी--डीएम


    डॉक्टरों ने अस्पताल में आए 110 मरीजों पर शोध किया, इनमें से ज्यादातर बुजुर्ग थे। वैज्ञानिकों ने पाया कि जिन मरीजों में मधुमेह, बुखार, शरीर में कम ऑक्सीजन और हृदय में तकलीफ जैसी शिकायत थी, ऐसे 23 मरीजों की हालत लगातार खराब होती गई। तुरंत इलाज मिलने पर ये ठीक हो सकते हैं।

    Header%2BAidWhats App पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 9599389900 को अपने मोबाईल में सेव  करके इस नंबर पर मिस्ड कॉल करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए https://www.facebook.com/wenews24hindi और https://twitter.com/Waors2 पर  क्लिक करें और पेज को लाइक करें

    Post Top Ad

    Post Bottom Ad