Haider Aid

  • Breaking News

    बिहार का DGP बन गये हाईटेक, अपने नाम पर बनाई वेबसाइट, जानिए क्यों बनाई वेबसाइट

    GUPTESHWAR PANDEY IPS






    We News 24 Hindi »बिहार/राज्य

      पटना से राज कुमार की रिपोर्ट।

    पटना: बिहार के पुलिस महानिदेशक गुप्तेश्वर पांडय अपने बयानों से चर्चा में रहने वाले  अधिकारी है वो सोशल मीडिया पर पहले से ही सक्रिय हैं, लेकिन अब उन्होंने अपने नाम से वेबसाइट बनाया है । वेबसाइट के जरिए वे अधिक से अधिक युवाओं को  जोड़ने की कोशिश में लगे हैं।

    ये भी पढ़े-महाराष्ट्र सरकार का फरमान ,सरकारी कर्मचारी अनुपस्थित रहने पर वेतन काटा जाएगा

    आईपीएस गुप्तेश्वर पांडेय डॉट कॉम https://www.ipsgupteshwarpandey.com/ के नाम से बने इस वेबसाइट में उनके बारे में पूरी जानकारी दी गई है तथा उनके कई कार्यक्रमों में भाग लेते हुए तस्वीर को सामने रखा गया है। इस वेबसाइट में ‘ज्वाइन यूथ बिग्रेड’ एक भाग बना हुआ है, जिसमें नाम पता, मोबाइल नंबर भर कर युवा उनके साथ जुड़ सकते हैं।

    ये भी पढ़े-सुप्रीम कोर्ट ने कहा सभी प्रवासियों मज़दूरों को 15 दिन में घर पहुँचाया जाय


    इसके अलावा इस वेबसाइट में ‘अल्कोहल फ्री सोसाइटी’ का भी एक भाग बना हुआ है।
    वेबसाइट बनाने के उद्देश्य के संबंध में जब आईएएनएस ने डीजीपी से बात  की, तब उन्होंने कहा कि बिहार को नशामुक्त बनाने के लिए युवाओं को इससे जोड़ना है। उन्होंने कहा कि वे प्रारंभ से ही युवाओं को जोड़कर बिहार को नशामुक्त बनाने में जुटे हैं।




    डीजीपी ने अपने फेसबुक पेज पर भी शुक्रवार को लिखा है, “बिहार को नशामुक्त बनाने के लिए अब आप हमारे वेबसाइट के माध्यम से जुड़ सकते हैं।”वेबसाइट में इसके अलावा उनके पीसी का लिंक, खबरों का लिंक दिया गया है। कई कार्यक्रम का फोटो भी अप लोड है। वेबसाइट से पहले भी पांडेय अपने नाम यूट्यूब चैनल भी चला रहे हैं, जिसमें प्रेस कन्फ्रेंस और इंटरव्यू का वीडियो अप लोड किए गए हैं। इस यूट्यूब चैनल को कई लोग सब्सक्राइबर भी है।

    पांडेय फेसबुक पर भी काफी सक्रिय रहते हैं। इनके निजी फेसबुक को 5.40 लाख से ज्यादा लोग पसंद करते हैं। कई मौक़ों पर पेज पर लाइव आते हैं। इसके अलावा पांडेय ट्विटर पर भी हैं, जहां इनके चाहने वालों की संख्या 20 हजार से अधिक है।उल्लेखनीय है कि बिहार में पुलिस महानिदेशक बनने से पहले भी ये नशामुक्ति का अभियान चलाते रहे हैं। कहा भी जाता है कि बिहार में शराब बंदी कानून को सफल बनाने में पांडेय अहम भूमिका निभा रहे हैं।

    ये भी पढ़े-Chandra Grahan 2020: साल का दूसरा चंद्र ग्रहण आज रात ,जाने कब होगा शुरूऔर कब होगा खत्म



    ग़ौरतलब है कि पुलिस विभाग में पांडेय की पहचान एक अधिकारी से ज्यादा अभिभावक के रूप में की जाती है। पुलिस अधिकारी से ये फोन कर उनकी समस्याओं की जानकारी पाते हैं और उनके समाधान में भी जुटे होते हैं।


    पांडेय खुद कहते हैं कि वे प्रतिदिन किसी ना किसी पुलिसकर्मी को फोन कर उससे बात करते हैं और सामान्य तौर पर उनका हालचाल जानते हैं।

    Header%2BAid

    Whats App पर न्यूज़Updatesपाने के लिए हमारे नंबर 9599389900 को अपने मोबाईल में सेव  करके इस नंबर पर मिस्ड कॉल करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए https://www.facebook.com/wenews24hindi  और https://twitter.com/Waors2 पर पर क्लिक करें और पेज को लाइक करें।



    No comments

    Post Top Ad

    Post Bottom Ad