Haider Aid

  • Breaking News

    पीएम मोदी लद्दाख में चीनी सेना की गतिविधियों पर थी बनाये थे पैनी नजर, ले रहे थे पल-पल की जानकारी






    We News 24 Hindi »नई दिल्ली 

    अमित मेहलावत की रिपोर्ट 


    नई दिल्ली:ANI। मई के शुरुआती सप्ताह से ही एलएसी पर चीनी सैनिकों की गतिविधियों को लेकर तनाव का माहौल था। वहीं, अब ANI के सूत्रों के अनुसार चीनी गतिविधियों के शुरू होने के एक दिन बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके वरिष्ठ कैबिनेट सहयोगी जिनमें रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और भारतीय सेना के अधिकारी शामिल थे। उस समय, सेना ने प्रधानमंत्री और उनके कैबिनेट सहयोगियों को गलवन घाटी में पेट्रोलिंग पॉइंट 14 के पास एलएसी पर चीनी सेना की गतिविधियों और अन्य बिंदुओं पर जानकारी दी थी।

    ये भी पढ़े-पार्षद सचदेवा बीमार बच्ची व उसकी मां के लिए देवदूत बनकर उभरे


    सूत्रों के अनुसार सेना 14 कोर मुख्यालय स्तर पर चीनी गतिविधियों की निगरानी कर रही थी और उस दिन से ही अपने आक्रामक हमले का मुकाबला करने के लिए खुद को तैयार करना शुरू कर दिया था। सूत्रों ने उन सुझावों को खारिज कर दिया है जिनमें कहा गया था कि तैयारियों में कमी है। जिसके कारण चीन ने लद्दाख में एलएसी के साथ निर्माण करने की अनुमति दी है, अगर सैनिकों को तैयार और तैनात नहीं किया गया होता तो चीनी दूसरे क्षेत्रों में जाने में सक्षम होते।

    ये भी पढ़े-राज्यसभा चुनाव के लिए नामांकन की आज अंतिम तारीख


    वहीं, सरकारी के सूत्रों के अनुसार, पूर्वी लद्दाख में कई जगहों पर भारत और चीन के बीच तनातनी खत्म हुई है। चीन की पीपल्स लिबरेशन आर्मी ने गलवान, पेट्रोलिंग पॉइंट 15 और हॉट स्प्रिंग इलाके से अपने जवान और लड़ाकू वाहन 2.5 किमी तक पीछे हटाए हैं। भारत ने भी अपने कुछ जवानों को पीछे हटाया हैं। 

    ये भी पढ़े-VIDEO:बिहटा बाबा बिटेश्वरनाथ मंदिर में खुलेआम उड़ रही है सरकारी आदेश की धज्जियां,लोग बजा रहे घंटी चढ़ा रहे है फुल और जल

    आठ जून को दोनों देशों के बीच जनरल स्तर पर हुई थी वार्ता
    बता दें कि दोनों पक्षों के सैनिकों ने पिछले 8 जून को आयोजित लेफ्टिनेंट जनरल-स्तरीय वार्ता के बाद पेट्रोलिंग पॉइंट 14 (गलवन घाटी), पीपी 15 (114 ब्रिगेड क्षेत्र) और पीपी 17 (हॉट स्प्रिंग्स) के साथ अपने स्टैंड-ऑफ स्थानों से विस्थापन किया है। चुशुल में पहले से ही उन क्षेत्रों में स्थानीय स्तर पर तौर तरीकों पर चर्चा करने के लिए जहां पहले विवाद शुरू हुआ था।

    आईये भी पढ़े-तेलंगाना बिना परीक्षाएं दिए ही 10 वीं कक्षा के विद्यार्थियों को अगली कक्षा में भेजने का फैसला


    गौरतलब है कि भारत और चीन के सैनिक मई के पहले सप्ताह से ही तनाव में हैं और कई स्तरों पर बातचीत कर चुके हैं। वहीं, अब बटालियन कमांडर के स्तर से लेकर मेजर जनरल तक दोनों देशों के मेजर जनरल-रैंक के अधिकारियों की एक बैठक 10 जून को भी आयोजित होने की उम्मीद है। फिंगर 4 से, पीपी-14 से, पीपी 15, पीपी- 17 अब ब्रिगेडियर और मेजर जनरल लेवल पर बात होगी। फिर इन पॉइंट्स पर बात होगी। दोनों तरफ से उम्मीद है कि पीपी-14, पीपी-15 और पीपी-17 से सैनिक हटाने की बात मेजर जनरल लेवल पर सुलझ जाएगी। फिंगर- 4 की स्थिति को लेकर फिर से कोर कमांडर लेवल पर बात हो सकती है। 

    Header%2BAid


    Whats App पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 9599389900 को अपने मोबाईल में सेव  करके इस नंबर पर मिस्ड कॉल करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए https://www.facebook.com/wenews24hindi और https://twitter.com/Waors2 पर  क्लिक करें और पेज को लाइक करें


    Post Top Ad

    Post Bottom Ad