Haider Aid

  • Breaking News

    बिहटा के लाल शहीद सुनील कुमार की शवयात्रा में उमड़ा जल सैलाब, देखें वीडियो




    We News 24 Hindi » बिहार/राज्य

    बिहटा से वशिष्ठ कुमार के साथ रईस अहमद की रिपोर्ट।


    पटना. भारत- चीन बार्डर  पर शहीद हुए सुनील कुमार की अंतिम यात्रा बिहटा स्थित उनके पैतृक आवास से निकल गई है. शहीद के एक दर्शन के लिए जन सैलाब उमड़ पड़ा है. गांव के लोग हाथ में तिरंगे लेकर वीर शहीद सुनील कुमार अमर रहे के नारे लगा रहे हैं. साथ ही चीन मुर्दाबाद के नारे भी लगाए जा रहे हैं. खास बात यह है कि जब शहीद सुनील कुमार की पत्नी ने अंतिम बार नजर के सामने से जाते हुए शहीद के पार्थिव शरीर को सैल्यूट किया तो सभी की आंखे नम हो गईं.


    जानकारी के मुताबिक, शहीद सुनील कुमार की अंतिम यात्रा निकलते समय उनकी पत्नी ने मांग करते हुए कहा कि जिस चीन ने देश के लाल को शहीद बनाया उससे बदला लिया जाना चाहिए. शहीद की बेटी ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि चीन के बने हुए सामानों का बहिष्कार करें और पिता की मौत का बदला लिया जाए.

    ये भी पढ़े-VIDEO:गालवान घाटी में चीनी सैनिकों के साथ हुई झड़प में शहीद बिहटा के लाल के लिए कैंडिल मार्च निकाला कर श्रधांजलि दी गयी

    आपको बताते चले  तारा नगर सिकरिया पंचायत के  रहने वाला सुनील कुमार   वर्ष 2002 में भारतीय सेना के बिहार रेजिमेंट में  भर्ती हुए थे। वही शहीद सुनील के दो बेटा और एक बेटी है ।
               


    वही इस खबर के बाद शहीद जवान के पैतृक गांव में मातमी सन्नाटा पसर गया।बताते चले कि दो दिन पूर्व देश की रक्षा करने में LAC पर तैनात बिहार रेजीमेंट के पटना  जिले के बिहटा प्रखण्ड के तारा नगर के रहने वाले लाल सुनील कुमार  चीनी सैनिकों के साथ हिंसक झड़प में शहीद हो गए।

    जहां जवान की शहादत होने की खबर जैसे ही उनके पैतृक गांव तारा नगर में रहने वाले लोगों को मिली तो उनके बीच मातमी सन्नाटा पसर गया। शहीद जवान सुनील कुमार के गांव वाले इस शहादत पर काफी गर्व महसूस कर रहे हैं साथ ही भारत की सरकार से चीन और उनके सैनिकों पर जल्द कड़ी कार्रवाई करने की मांग कर रहे हैं। देश के लिए वीर गति को प्राप्त होने वाले अपने प्यारे लाडले को खोने का ग़म गांव वालों की आंखों में साफ दिखाई दे रहा था। 

    गांव वालों का सिना एक तरफ गर्व से चौड़ा हो रहा था तो दूसरी ओर चीन की कायराना हरकत से उनका गुस्सा उबाल मार रहा था। वही शहीद सुनील कुमार के परिजनों का कहना है कि 2002 में बिहार रेजिमेंट से  सेना जॉइन किये थे और 2003 में शादी हुआ था शादी के बाद दो बेटा और एक बेटी है वही एक साल पहले लद्दाख में पोस्टिंग हुई थी उस से पहले दानापुर में ही तैनात थे। अब पूरा गांव उनके शव के इंतजार में रात भर टकटकी लगाए बैठे  रहे । वैसे बता दे कि सुनील कुमार के बड़े भाई अनिल कुमार  जो 2009 में सेना से सेवानिवृत्त हुए थे और सभी परिवार फिलहाल दानापुर में घर बना कर रहे थे ।

      आपको बता दे कि दो दिन पूर्व चीनी सैनिकों के साथ झड़प हुई थी जिसमें भारतीय सेना के 20 जवान शहीद हुए थे जिसमे बिहार रेजिमेंट के भी जवान शहीद हुए थे।वही ताज़ा जानकारी के अनुसार वीर सपूत सुनील कुमार का पार्थिव शरीर उनके पैतृक गांव तारानगर  पहुंचा . बिहटा के तारानगर में शहीद सुनील कुमार का शव जैसे ही पहुंचा लोग वहां भारत माता की जय के नारे लगाने लगे.

    ये भी पढ़े-WEATHER UPDATE:दक्षिण-पश्चिम मॉनसून देश के अधिकांश हिस्सों तक पहुंचा

    आपको बता दें कि बुधवार को बिहार के इस सपूत को गार्ड ऑफ ऑनर भी दिया गया. उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, बिहार सरकार के मंत्री नंद किशोर यादव, श्रवण कुमार, विधान सभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव, स्थानीय सांसद पूर्व केंद्रीय मंत्री रामकृपाल यादव, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ संजय जायसवाल, राजद प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह, कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष मदनमोहन झा, जाप प्रमुख पप्पू यादव समेत सुनील के गांव के कई लोगों ने पुष्पचक्र अर्पित किए. उनके अलावा बीआरसी के कई वरीय अधिकारी, पटना के डी एम कुमार रवि व एस एसपी उपेंद्र कुमार शर्मा ने भी शहीद को श्रृद्धांजलि दी थी. 


    सुनील की शहादत पर बड़े बेटे ने कहा मुझे पिता की शहादत पर गर्व है. शहीद सुनील के बेटे आयुष और बड़े भाई की आंखों में गुस्सा था. बेटे को जहां मलाल हो रहा था कि पिता का साया उठ गया वहीं उसे इस बात के लिए गर्व भी हो रहा था पिता ने देश की सुरक्षा करने में अमर हो गए. आयुष ने कहा कि मुझे पिता की शहादत पर गर्व है वहीं बड़े भाई अनिल ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मेरे छोटे भाई की शहादत का बदला लें.


    आपको बता दें शहीद सुनील कुमार के शव का स्वागत बिहटा के युवाओं ने 400 मीटर के तिरंगे के साथ किया. फिलहाल शहीद के शव को परिजनों को आर्मी के अधिकारियों ने सौंप दिया है. जिसके बाद इसके बाद आर्मी के जवान शव को लेकर मनेर के हल्दी छपरा गए जहां पर गार्ड ऑफ ऑनर के साथ-साथ तमाम आगे की प्रक्रिया की गई वही जिला प्रशासन के तमाम अधिकारी के साथ साथ आर्मी के भी अधिकारी मौजूद रहे।।

    Header%2BAidWhats App पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 9599389900 को अपने मोबाईल में सेव  करके इस नंबर पर मिस्ड कॉल करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए https://www.facebook.com/wenews24hindi और https://twitter.com/Waors2 पर  क्लिक करें और पेज को लाइक करें

    Post Top Ad

    Post Bottom Ad