Header Ads

  • BREAKING NEWS

    चीन भारत में किसी अन्य देश के माध्यम से माल बेचने के फ़िराक में सावधान रहें


    We News 24 Hindi » नई दिल्ली 

    आरती गुप्ता  की रिपोर्ट  

    नई दिल्ली : भारत को शक  है कि चीन अपना सामान बेचने के लिए हांगकांग और सिंगापुर जैसे किसी तीसरे पक्ष के माध्यम से भारत में व्यापार करने की कोशिश कर सकता है। चीन अपना  सामान भेजने के साथ-साथ भारत में  निवेश के फिराक में भी है। इस मामले की जानकारी रखने वाले लोगो  ने इस बात की संभावना  जताई  है। अगर आंकड़ों पर गौर करें तो पाएंगे कि जिन देशों के साथ मुक्त व्यापार समझौते (एफटीए), तरजीही व्यापार समझौते (पीटीए) या अन्य द्विपक्षीय कमर्शियल एग्रीमेंट है, उन देशों के जरिए चीन भारत में सामान और निवेश बढ़ा सकता है।

    ये  भी पढ़े-नेपाल के प्रधानमंत्री की उलटी गिनती शुरू,ओली की कुर्सी खतरे में


    आपको बता दें कि भारत और चीनी सैनिकों के बीच 15 जून को पूर्वी लद्दाख में गलवान घाटी में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर हुई हिंसक झड़प के बाद भारत-चीन के बीच तनाव बढ़ गया है। इस झड़प में 20 भारतीय जवान शहीद हुए थे।

    ये भी पढ़े-सीतामढ़ी में अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस मेटरनिटी ओटी का हुआ उद्घाटन


    अगर आंकड़ों पर गौर करें तो पता चलता है कि चीन से कुल प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) घटा है, लेकिन कई भारतीय फर्मों ने चीनी निवेश प्राप्त किया है। इसी तरह, चीन से आयात में हाल ही में मामूली गिरावट दर्ज की गई है, लेकिन उसी समय हांगकांग और सिंगापुर से आयात में वृद्धि हुई है। इन आंकड़ों से पता चलता है कि कुछ गड़बड़ है और उसकी जांच की जरूरत है।

    ये भी पढ़े-भारत नेपाल सीमा: एसएसबी व पुलिस ने संयुक्त कार्यवाही में गाँजे के साथ युवक पकड़ा गया

    फेडरेशन ऑफ इंडियन एक्सपोर्ट ऑर्गेनाइजेशन (FIEO) के अनुसार, जबकि चीन के साथ भारत का व्यापार 2019 में 6.05 बिलियन डॉलर घटा है। यह अब 51.25 बिलियन डॉलर तक सीमित हो गया है। वहीं, 2019 में हांगकांग का व्यापार 5.8 बिलियन डॉलर के करीब बढ़ा है। इसी प्रकार, सिंगापुर के साथ भारत का व्यापार घाटा पिछले वित्तीय वर्ष में 5.82 बिलियन डॉलर था।

    ये भी पढ़े-💒लोजपा प्रदेश सचिव ने की सुशांत सिंह राजपूत के परिजनों से मुलाकात

    FIEO के महानिदेशक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी अजय सहाय ने कहा, "हांगकांग से प्रमुख आयात में जो उल्लेखनीय वृद्धि हुई है उनमें इलेक्ट्रिकल और इलेक्ट्रॉनिक प्रोडक्ट शामिल है। 2017 में जहां 1.3 बिलियन डॉलर था वहीं, 2019 में 8.6 बिलियन डॉलर  तक बढ़ा है।"

    Header%2BAidWhats App पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 9599389900 को अपने मोबाईल में सेव  करके इस नंबर पर मिस्ड कॉल करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए https://www.facebook.com/wenews24hindi और https://twitter.com/Waors2 पर  क्लिक करें और पेज को लाइक करें

    WE NEWS 24 AID

    Post Bottom Ad