Header Ads

  • BREAKING NEWS

    केंद्रीय टीम की चेतावनी: बिहार में सही अनुपात में नहीं हो रहा कोरोना परीक्षण, बढ़ सकती है मृत्यु दर




    We News 24 Hindi » बिहार/राज्य/पटना

    अमिताभ मिश्रा  की रिपोर्ट 

    # Biahr Patna News


    पटना :बिहार में कोरोना वायरस कहर बरपाने में कोई कसर नहीं छोड़ रहा है सरकार की माने तो जनसंख्या के दृष्टिकोण से कोरोना संक्रमण राज्य में नियंत्रित स्थिति में  है. फिर भी तमाम इंतजामों के बावजूद बड़ी बड़ी हस्तियां भी  कोरोना के संपर्क में आ रहे हैं. यंहा तक बिहार के  मुख्यमंत्री आवास में भी कोरोना संक्रमण ने दस्तक दे दी .उसके वावजूद भी बिहार में कोरोना संक्रमण नियंत्रित माना जा रहा है . आप खुद ही सोचे की दावो में कितनी सच्चाई है .

    ये भी पढ़े-Ayodhya Bhoomi Pujan:अमेरिका के हाउडी मोदी' जैसा होगा भूमि पूजन कार्यकर्म


    केंद्रीय टीम की जाँच ने इस बात को उजागर कर दिया की  बिहार में राष्ट्रीय औसत की तुलना में बहुत कम कोरोना परीक्षण हो रहा है जो मृत्युदर को प्रभावित कर सकता है। अभी बिहार में 3,423 प्रति मिलियन पर भारत में सबसे कम परीक्षण और मृत्यु दर 0.69% है। वहीं कम परीक्षण के परिणामस्वरूप संक्रमण फैल सकता है और देर से मरीजों की पहचान और अस्पतालों में कोरोना केस के देर से पहुंचने पर यह मृत्यु दर को प्रभावित कर सकता है।


    कोरोना पॉजिटिव केस की वृद्धि पर चिंता व्यक्त करते हुए यह बात तीन-सदस्यीय केंद्रीय टीम ने कही। बिहार में कोरोना विस्फोट के बाद स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय में संयुक्त सचिव लव अग्रवाल के नेतृत्व वाली तीन सदस्यीय टीम जिनमें नेशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल के निदेशक डॉ एसके सिंह और एम्स-दिल्ली विभाग में एसोसिएट प्रोफेसर डॉ नीरज निश्चल 19 और 20 जुलाई को बिहार में थे। 

    ये भी पढ़े-Air India :वित्तीय संकट से जूझ रही एयर इंडिया को 2 साल तक की लीव विदाउट पे योजना को मंजूरी


    उल्लेखनीय है कि बिहार में 12 जुलाई से रोजाना 1000 से अधिक मामले सामने आ रहे हैं। वहीं पिछले सात दिनों में 90% सक्रिय केस सामने आए हैं। पिछले एक सप्ताह (16-23 जुलाई) में, हर दिन औसतन 6% नए कोविड- 19 संक्रमण केस की संख्या बढ़ी हैं।


    आरटी पीसीआर (RT PCR) परीक्षण को बढ़ाने का सुझाव
    बुधवार को राज्य को अपनी सिफारिश में केंद्रीय टीम लीडर ने राज्य से मौजूदा कोरोना पुष्टिकरण परीक्षण आरटी पीसीआर (रिवर्स ट्रांसक्रिप्शन पॉलिमरेज़ चेन रिएक्शन) की क्षमता का उपयोग सुनिश्चित करने के अलावा आरटी पीसीआर परीक्षण को बढ़ाने के लिए कार्रवाई करने का भी सुझाव दिया है। केंद्रीय टीम ने आरटी पीसीआर के माध्यम से एंटीजन परीक्षणों के सभी लक्षणात्मक नकारात्मक परिणामों की निगरानी के अलावा, रोकथाम क्षेत्रों और अस्पतालों में नमूने लेने के लिए एंटीजन परीक्षण का आह्वान किया। उधर आईसीएमआर(ICMR) ने बिहार में आरटी पीसीआर (RT PCR) परीक्षण करने के लिए छह सरकारी और तीन निजी मिलाकर कुल नौ प्रयोगशालाओं को मंजूरी दी है। 

    ये भी पढ़ें-India China Tension :अमेरिका की तरह भारत चीन,पाकिस्तान को धुल चटाने के लिए थियेटर कमान सिस्टम



    राज्य में उभरते हुए हॉटस्पॉट
    केंद्रीय टीम ने कहा कि पूर्वी चंपारण, गया, रोहतास और मुजफ्फरपुर कोरोना के लिए उभरते हॉटस्पॉट बन रहे हैं। वहीं बड़ी संख्या में कोरोना के उभरते मामलों को देखते हुए पटना, नालंदा, नवादा, सीवान, पश्चिम चंपारण, जमुई, भागलपुर बेगूसराय और मुंगेर में विशेष ध्यान देने का आह्वान किया। टीम ने अगले दो महीनों में कोरोना संक्रमण के प्रसार को ध्यान में रखते हुए राज्य में अस्पताल के बुनियादी ढांचे पर भी ध्यान देने पर जोर देते हुए अस्थायी क्षेत्र के अस्पतालों की स्थापना करने का सुझाव दिया। बिहार में 11 दिनों दोगुने केस के साथ बुधवार को कुल 30,066 मामले थे। यदि इसी तरह मामला दोगुना होता रहे तो दो महीने में कोरोना का केस एक लाख के करीब पहुंच सकता है।

    Header%2BAidWhats App पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 9599389900 को अपने मोबाईल में सेव  करके इस नंबर पर मिस्ड कॉल करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए https://www.facebook.com/wenews24hindi और https://twitter.com/Waors2 पर  क्लिक करें और पेज को लाइक करें

    WE NEWS 24 AID

    Post Bottom Ad