Header Ads

  • BREAKING NEWS

    India China News:गलवान में 20 भारतीय जवानों की हत्या चीन की सोची समझी साजिश ,अमरीकी रिपोर्ट में खुलासा



    We News 24 Hindi » वाशिंगटन ANI

    मिडिया रिपोर्ट


    #India China News 

    नई दिल्ली, वाशिंगटन:पूर्वी लद्दाख के गलवान इलाके में पैट्रोलिंग पॉइंट 14 पर हुई हिंसक झड़प में 20 भारतीय जवानों की हत्या चीन की एक गहरी और सोची समझी साजिश का हिस्सा थी। यह चीनी सैनिकों को इस इलाके में तैनात करने और दक्षिण एशियाई देशों के क्षेत्र पर दावा करने की एक कोशिश थी। यूएस न्यूज और वर्ल्ड रिपोर्ट को प्राप्त हुए कुछ दस्तावेज में यह खुलासा हुआ है।


    ये  भी पढ़ें-kathmandu:चीन के कठपुतली नेपाल ने भारत के खिलाफ एक नया पैतरा चला ,इन कामो में डाल रहा अड़ंगा


    अमेरिकी समाचार के राष्ट्रीय सुरक्षा संवाददाता पॉल डी शिंकमैन ने लद्दाख में सेनाओं के बीच पिछले महीने हुई हिंस झड़पों पर भारत सरकार की सोच के बारे में जानकारी देने वाले दस्तावेजों का हवाला देते हुए कहा है कि भारत लद्दाख में हुई ताजा मुठभेड़ को चीन की साम्राज्यवादी डिजाइन से जोड़कर देखता है। जोकि विस्तारवाद के लिए प्रत्यक्ष सैन्य कार्रवाई से बचता है, लेकिन कई देशों की संप्रभुता और अर्थव्यवस्थाओं को भेदने और कमजोर करने के लिए जबरदस्ती कूटनीति का समर्थन करता है। शिंकमैन ने कहा कि दस्तावेज़, जो पहले प्रकाशित नहीं हुआ है, कुछ विश्लेषकों के बयान और रिसर्च पर आधारित है।

    ये भी पढ़े-Rajsthan Political Fight भाजपा ने कांग्रेस द्वारा जारी ऑडियो टेप के लिए कांग्रेस नेताओं के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई



    यह दस्तावेज अमेरिका की उन आशंकाओं के बीच आता है, जिसमें चीन के दक्षिण चीन सागर और हांगकांग सहित अपनी सीमा के अन्य हिस्सों में क्षेत्रीय दावों को सुरक्षित करने के लिए कोरोना वायरस महामारी से पनपी वैश्विक संकट का सफलतापूर्वक उपयोग माना जा रहा है।
    आपको बता दें कि 15 जून के गलवान घाटी में हुई हिंसक झड़प में 20 भारतीय सैनिक शहीद हो गए थे। अमेरिकी खुफिया विभाग का मानना है कि इस झड़प में कम से कम  35 चीनी सैनिकों की भी मौत हुई थी।

    ये भी पढ़े-Rajasthan Political Crisis :राजस्थान SOG टीम को मानेसर रिसॉर्ट में जाने से हरियाणा पुलिस ने रोका


    इससे पहले दोनों देशों के बीच 2010 और 2014 में भी झड़प की बात सामने आई थी। साथ ही डोकलाम में भी भारतीय और चीनी सेनाओं के बीच 2017 में सीमा को लेकर विवाद हुआ था।
    शिंकमैन ने कहा कि ये घटनाएं हिंसक झड़प के साथ शुरू हुई थीं और अपेक्षाकृत शांति और तेजी से समाप्त हो गई। उन्होंने आगे कहा, 'भारत का मानना है कि बीजिंग चीन की दक्षिण-पश्चिम सीमा के साथ-साथ पर्वतीय क्षेत्रों का अधिक नियंत्रण हथियाना चाहता है, जो कि वास्तविक नियंत्रण रेखा के रूप में जाना जाने वाला एक अस्थायी समझौता
    है। चीन का यह प्रयास पाकिस्तान तक पहुंचने के लिए है।'

    Header%2BAidWhats App पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 9599389900 को अपने मोबाईल में सेव  करके इस नंबर पर मिस्ड कॉल करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए https://www.facebook.com/wenews24hindi और https://twitter.com/Waors2 पर  क्लिक करें और पेज को लाइक करें

    WE NEWS 24 AID

    Post Bottom Ad