Header Ads

  • BREAKING NEWS

    फिर उठे सीतामढ़ी पुलस पर सवालिया निशाँन ? सीतामढ़ी पुलिस ने दो युवक को बर्बरता से पिटा,देखे वीडियो



    We News 24 Hindi »बिहार/राज्य/सीतामढ़ी 

    असफाक खान  की रिपोर्ट 

     सीतामढ़ी :ज़िले ज़िले दो थाना ने पुलिस  कोरोना  काल में बौड़ा गयी है। अपने  पुलिसिया  बर्बरतापूर्व  करवाई से ज़िले में सुर्खिया बटोर रही है। जहा नगर थाना पुलिस ने बीते रात पुष्पराज नामक एक शराब तस्कर को शराब के साथ   पकड़ कर थाने लाईं। जब इसकी सूचना उनके भाइ रितुराज को लगी तो  गाँव के एक जनप्रतिनिधि और एक व्यक्ति के साथ थाना पहुँचे। थाना पहुँचते ही थाना प्रभारी ने मिलने आये परिजनों और  ग्रामीण को भी हाजत मे बंद कर दिया।  अगले दिन जेल जाने से पूर्व उनलोगो  को शराब का धंधेबाज़ बताकर खूब धुनाई की।

    ये भी पढ़े-NDRF की 23 टीमें बिहार के 14 जिलों में बाढ़ आपदा से निपटने में तैनात, अब तक 30 प्रसव पीड़ित महिलाओं को रेस्क्यू किया

     ये मामला तब उजागर हुआ जब कोर्ट में पेशी के क्रम  में वकील को पीड़ित पुष्प राज ने इसकी जानकारी दी और अपने बदन पर लगे जख्म को दिखाया। जहा न्यायालय परिसर में  वकील ने  शरीर पर बने  ज़ख़्म की तस्वीर ले ली। इस मामले में  पीड़ित के साथ  परिजनों ने  एक  आवेदन  अपर ज़िला एवं सत्र न्यायाधीश की अदालत में दिया।  



    पीड़ित पुष्प राज ने अपने साथ हुयी पुलिसिया  बर्बरता को लेकर अदालत से इंसाफ़ की गुहार लगायी है।इतना ही नहीं पीड़ित को  पिटाई के कारण साँस में तकलीफ़ होने की भी  शिकायत की।  पुलिस  ने  नहीं तो इनलोगों का कोई मलहम पट्टी कराया  और नाही कोरोना जांच  कराया गया ।  

    ये भी पढ़े-रिंग रोड मनेर तक लाने हेतु,आज मनेर प्रखंड में मानव श्रृंखला बना धरना दिया गया


    इधर पूरे मामले को लेकर परिजनों में आक्रोश व्याप्त है और वो इस बर्बरता के ख़िलाफ़ आर पार की लड़ाई के मूड में हैं जिसको लेकर परिजनों ने बताया कि इसकी जानकारी सोशल मीडिया के माध्यम से डीजीपी को भी दे दी गयी है एसपी डीएसपी से भी गुहार लगायी गयी है अगर इंसाफ़ नहीं मिला तो उन्हें न्यायालय पर ही भरोसा है, मामले की न्यायिक जाँच की माँग करते हुये अपर ज़िला एवं सत्र न्यायाधीश को आवेदन देकर इसकी जानकारी दी है,वही इस मामले में जब एसपी से बात की गयी तो उन्होंने जाँच की बात कही है लेकिन कैमरे पर बयान देने से सिटी SP कतराते दिखे 


    तो वही दूसरा मामला मेहसौल ओपी का है। जहां मंगलवार की शाम मो मुस्तफा नामक एक लड़के को पुलिस ने पूछताछ के नाम पर खिलाफत बाग से उठाया और थाने ले गई। जिसके बाद उसके साथ पुलिस वालों द्वारा बर्बरता पूर्ण व्यवहार किया गया। जब युवक अधमरे हालात में हो गया तो उसे पुलिस वाले सदर अस्पताल में भर्ती करा निकल लिए। जख्मी के पिता का आरोप है कि खिड़की खोलने के विवाद पूर्व से चला आ रहा है। जहां दूसरे पक्ष के मेल में आ पुलिस द्वारा इस तरह की घटना को अंजाम दिया गया है। 

    Header%2BAidWhats App पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 9599389900 को अपने मोबाईल में सेव  करके इस नंबर पर मिस्ड कॉल करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए https://www.facebook.com/wenews24hindi और https://twitter.com/Waors2 पर  क्लिक करें और पेज को लाइक करें

    WE NEWS 24 AID

    Post Bottom Ad