Header Ads

  • BREAKING NEWS

    अभिनेत्री कंगना रनौत पहुंची मुंबई , समर्थकों और विरोधियों के झुंड; एयरपोर्ट पर बढ़ी सुरक्षा



    We News 24 Hindi »नई दिल्ली 

    आरती गुप्ता की रिपोर्ट 



    नई दिल्ली : कंगना रनोट मुंबई पहुंच गई हैं। वह अपनी Y-कैटिगरी की सुरक्षा के साथ मुंबई एयरपोर्ट पर पहुंची हैं। एयरपोर्ट पर सुरक्षा कड़ी कर दी गई है। एयरपोर्ट पर बड़ी संख्या में लोग उनका समर्थन करने पहुंचे हैं। वहीं, दूसरी ओर शिवसेना कार्यकर्ता भी वहां विरोध प्रदर्शन के लिए मौजूद हैं। अभिनेत्री कंगना रनोट के मुंबई पहुंचने से पहले बृहन्मुंबई नगर निगम (बीएमसी) बांद्रा वेस्ट के पाली हिल रोड पर स्थित कंगना रनोट के दफ्तर के अवैध निर्माण को ध्वस्त कर दिया। बीएमसी की टीम जेसीबी और मजदूरों के साथ कंगना के दफ्तर पहुंची और अवैध निर्माण को तोड़ा गया। इस बीच कंगना ने बीएमसी की टीम को बाबर की सेना कहा है। बीएमसी अफसरों का कहना है कि कंगना के दफ्तर के अंदर कई अवैध निर्माण किए गए हैं और इसलिए कार्रवाई की गई। इस मामले में बॉम्बे हाई कोर्ट पहुंची कंगना को राहत मिली है। कोर्ट ने तोड़फोड़ पर रोक लागा दी है। 



    बता दें कि दोपहर 12.30 पर चंडीगढ़ से फ्लाइट से कंगना मुंबई रवाना हुईं। कंगना के साथ बहन रंगोली चंदेल, निजी सहायक और सुरक्षाकर्मी उनके साथ हैं। वाई श्रेणी की सुरक्षा मिलने के बाद सीआरपीएफ दस्ते ने मंगलवार देर रात मनाली पहुंचकर उनकी सुरक्षा का जिम्मा संभाल लिया है।गौरतलब है कि बीते दिनों ही बीएमसी टीम ने कंगना रनोट के दफ्तर का मुआयना किया था और पाया था कि ग्राउंड फ्लोर और फर्स्ट फ्लोर पर कई अवैध निर्माण किया गया है। यह दफ्तर कंगना रनोट के स्वामित्व वाली मणिकर्णिका प्रोडक्शंस का है। इसका मतलब है कि कंगना रनौत के मुंबई पहुंचने से पहले उनके दफ्तर के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।




    तोड़फोड़ के खिलाफ हाईकोर्ट में याचिका
    बृहन्मुंबई नगर निगम (बीएमसी) की इस कार्रवाई के खिलाफ कंगना ने बॉम्बे हाई कोर्ट में अर्जी दायर की है।कंगना की ओर से रिजवान सिद्दीकी ने अर्जी दाखिल की, जिस पर जस्टिस एस कथावाला सुनवाई कर रहे हैं।स्त्री सम्मान और अस्मिता के लिए अपना खून भी दे सकती हूं: कंगना बीएमसी की कार्रवाई का अंदेशा कंगना रनोट को पहले से है। इस वजह से कंगना ने आज सुबह ही ट्वीट करके कहा कि मेरे आने से पहले ही महाराष्ट्र सरकार और उनके गुंडे मेरे ऑफिस के बाहर पहुंच गए हैं और उसे गिराने की तैयारी कर रहे हैं। मैं वादा करती हूं कि महाराष्ट्र के सम्मान के लिए खून देने के लिए तैयार हूं। ये कुछ नहीं है, चाहे तो सबकुछ छीन सकते हो लेकिन मेरी भावनाएं लगातर ऊंची होती जाएंगी। 

    ये भी पढ़े-कोरोना संक्रमण से ठीक हुए मरीज़ों के लिए शुरू हुआ निःशुल्क फिजियोथेरेपी स्वास्थ्य शिविर

    एक अन्य ट्वीट में उन्होंनेकहाकि मणिकर्णिका फ़िल्म्ज़ में पहली फिल्म अयोध्या की घोषणा हुई, यह मेरे लिए एक इमारत नहीं राम मंदिर ही है, आज वहां बाबर आया है, आज इतिहास फिर खुद को दोहराएगा राम मंदिर फिर टूटेगा मगर याद रख बाबर यह मंदिर फिर बनेगा यह मंदिर फिर बनेगा। जय श्री राम , जय श्री राम , जय श्री राम।

    कंगना ने मंदिर में की पूजा
    चंडीगढ़ जाते समय रास्ते में अभिनेत्री कंगना रनोट ने हमीरपुर जिले के कोठी इलाके में एक मंदिर में पूजा-अर्चना की। वह मंडी जिले से चंडीगढ़ मार्ग पर है।




     रानी लक्ष्मीबाई के पद चिन्हों पर चलूंगी- कंगना रनोट
    बुधवार को कंगना ने ट्वीट कर लिखा कि रानी लक्ष्मीबाई के साहस, शौर्य और बलिदान को मैंने फिल्म के जरिए जिया है। दुख की बात यह है मुझे मेरे ही महाराष्ट्र में आने से रोका जा रहा है। मैं रानी लक्ष्मीबाई के पद चिन्हों पर चलूंगी ना डरूंगी, ना झुकूंगी। गलत के खिलाफ मुखर होकर आवाज उठाती रहूंगी, जय महाराष्ट्र, जय शिवाजी। साथ एक दूसरे ट्वीट में उन्होंने लिखा कि मैं बारह साल की उम्र में हिमांचल छोड़ चंडीगढ़ हॉस्टल गयी फिर दिल्ली में रही और सोलह साल की थी जब मुंबई आई। कुछ दोस्तों ने कहा मुंबई में वही रहता है जिसे मुम्बादेवी चाहती है,हम सब मुम्बादेवी देवी के दर्शन करने गए,सब दोस्त वापिस चले गए और मुम्बादेवी ने मुझे अपने पास ही रख लिया।


    2 बजे मुंबई पहुची  कंगना
    मालूम हो कि मुंबई जाने से पहले कंगना रनोट का दो बार कोरोना टेस्ट किया गया। कंगना का कोरोना टेस्ट के लिए लिया गया पहला सैंपल सही नहीं पाया गया। जिससे उनकी रिपोर्ट नहीं जांची जा सकी। इसलिए दोबारा उनका ये टेस्ट हुए। उनकी कोरोना टेस्ट की दूसरी रिपोर्ट निगेटिव आई। रिपोर्ट निगेटिव आने के साथ ही कंगना का मुंबई जाने का रास्ता साफ हो गया है। कंगना चंडीगढ़ से फ्लाइट से मुंबई के लिए रवाना हो गई है।  ये फ्लाइट 2 बजे मुंबई उतरेगी।


    कंगना रनौत को लेकर सामना में लेख

    शिवसेना के मुखपत्र 'सामना' के आज के लेख में लिखा है कि हिंदुत्व और संस्कृत का धर्म और 106 शहीदों के त्याग का अपमान किया गया तथा ऐसा अपमान करके छत्रपति शिवाजी के महाराष्ट्र पर नशे की पिचकारी फेंकने वाले व्यक्ति को केंद्र सरकार विशेष सुरक्षा की पालकी का सम्मान दे रही है। लेख में लिखा गया है कि अहमदाबाद, गुड़गांव, लखनऊ, वाराणसी, रांची, हैदराबाद, बेंगलुरु और भोपाल जैसे शहरों के बारे में अगर कोई अपमानजनक बयान देता तो केंद्र ने उसे वाई सुरक्षा की पालकी दी होती क्या? यह महाराष्ट्र के भाजपाई स्पष्ट करें।

    ये भी पढ़े-मुजफ्फरपुर:एक प्रयास मंच के द्वारा स्लम बस्ती में अंतर्राष्ट्रीय साक्षरता दिवस पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया

    कंगना और शिवसेना के बीच जुबानी जंग
    बता दें कि पिछले कई दिनों से कंगना और शिवसेना के बीच जुबानी जंग देखने को मिल रही है। कंगना ने कहा था कि मुंबई में उन्हें सुरक्षित नहीं महसूस होता और उन्हें मुंबई पीओके की तरह लगता है। इसके बाद शिवसेना नेता ने उन्हें मुंबई न आने के लिए कहा था। बस यहीं से मामला बढ़ता चला गया। अब कंगना को केंद्र सरकार ने Y प्लस सिक्योरिटी कवर दिया है।


    कंगना के पीओके वाले बयान पर मचा था बवाल
    बीते दिनों कंगना ने मुंबई पुलिस की कार्यशैली पर सवाल उठाए थे और कहा था कि उन्‍हें मुंबई से डर लगात है कि क्‍योंकि वहां हालात पीओके जैसे हो गए हैं। कंगना के इस बयान से महाराष्ट्र शासन और प्रशासन दोनों में नाराजगी है। इस बीएमसी ने यह भी कहा है कि यदि कंगना 7 दिनों से ज्‍यादा समय के लिए मुंबई आ रही हैं तो उन्‍हें क्‍वॉरंटीन कर दिया जाएगा।



    Header%2BAid

    Whats App पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 9599389900 को अपने मोबाईल में सेव  करके इस नंबर पर मिस्ड कॉल करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए https://www.facebook.com/wenews24hindi और https://twitter.com/Waors2 पर  क्लिक करें और पेज को लाइक क

    WE NEWS 24 AID

    Post Bottom Ad