Header Ads

  • BREAKING NEWS

    जब दुश्मनी थी तो आमने-सामने हुए खड़े,दोस्ती हो गयी तो कौन लड़ेगा उन सीटो पर ?



    We News 24 Hindi »पटना/बिहार

    रोहित ठाकुर  की रिपोर्ट


    पटना : जब दुश्मनी थी तो आमने-सामने खड़े थे़ कहीं जीत दर्ज की, तो कही दूसरे नंबर पर रहे, लेकिन जब दोस्ती हो गयी, तो बड़ा सवाल है कि उन सीटों पर कौन लड़ेगा? इस गणित को सुलझाना बड़ा मुश्किल होगा़ 2015 के विधानसभा चुनाव का परिणाम कुछ इसी तरह था. जहां कई सीटों पर भाजपा-जदयू के अलावा जदयू और लोजपा, हम और जदयू, रालोसपा और राजद ने एक दूसरे को टक्कर दी थी.

    ये पार्टियां जीत दर्ज करने के अलावा दूसरे नंबर पर रही थीं, लेकिन इस बार के चुनाव में गठबंधन बदल कर अब ये साथ हो गये हैं. रालोसपा एनडीए से निकल राजद के साथ खड़ी है. जदयू एनडीए की सबसे बड़ी पार्टी बन गयी है. इस तरह का मामला भाजपा और जदयू की 52 सीटों के अलावा अन्य पार्टियों की 46 सीटों पर है़ ऐसे में कौन सीट किस पार्टी के खाते में जायेगी या क्या सीट बंटवारे को लेकर विवाद फंस जायेगा?


    21 सीटों पर जदयू व लोजपा रही आमने-सामने

    पिछले चुनावी परिणाम में 21 सीटों पर जदयू व लोजपा के बीच आमना-सामना हुआ था़ अधिकतर सीटों पर जदयू ने अपना कब्जा जमाया. कुछ सीटों पर लोजपा को कम वोटों से हार का सामना करना पड़ा, जबकि सिर्फ लालगंज की सीट पर लोजपा को जीत मिली थी़ ऐसे में बेलसंड, बाबूबरही, त्रिवेणीगंज, ठाकुरगंज, आलमनगर, सोनबरसा, सिमरी बख्तियारपुर, कुशेश्वर स्थान, गौरा-बौराम, कचईकोट, बरहरिया, लालगंज, कल्याणपुर, वारिसनगर, चेरी, बरियारपुर, बेल्दौर, नाथनगर, जमालपुर, आस्थावन, हरनौथ और रफीगंज की सीटों के बंटवारे पर दावेदारी का मामला फंस सकता है़

    ये भी पढ़े-लोहिया आवास सीतामढ़ी में हिंदी दिवस पखवाड़ा पर विचार गोष्ठी और कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया

    14 सीटों पर राजद-रालोसपा व रालोसपा कांग्रेस
    14 सीटों पर राजद और रालोसपा के अलावा रालोसपा और कांग्रेस के बीच कड़ा मुकाबला हुआ था़ अधिकतर सीटें रालोसपा हार गयी़ इस दौरान अधिकतर सीटों पर राजद व कुछ सीटों पर कांग्रेस ने कब्जा किया़ पिछले चुनाव में रालोसपा भाजपा वाले गठबंधन के साथ थी, लेकिन इस बार राजद वाले गठबंधन में है, तो ऐसे में इस सीटों के बंटवारे पर भी पेच फंस सकता है़

    ये भी पढ़े-मुख्यमंत्री नितीश कुमार ने पटना समाहरणालय के बहुप्रतीक्षित भवन का बटन दबाकर किया आनलाइन शिलान्यास।

    52 सीटों पर भाजपा व जदयू का रहा है मुकाबला
    2015 विधानसभा चुनाव के परिणाम के आंकड़ों को देखें , तो करीब 52 सीटें ऐसी रही हैं, जहां दोनों पार्टियों के बीच कड़ा मुकाबला हुआ था़ 22 सीटें तो ऐसी रही हैं कि जहां एक दूसरे के बीच जीत का अंतर दस हजार के भी कम का रहा है़ इनमें 24 सीटों पर बीजेपी और 28 सीटों पर जदयू ने जीत दर्ज की थी.वहीं, हम और जदयू के बीच भी पिछले विस चुनाव में 12 सीटों पर आमना-सामना हुआ. इनमें से इमामगंज को छोड़ कर बाकी सभी सीटों पर जदयू ने जीत दर्ज की थी. कई सीटों पर के बीच जीत का अंतर दस हजार से कम रहा था और कई जगहों पर और काफी कम था़ ऐसे में शिवहर, सिघेंश्वर, हथुआ, खगड़िया, तारापुर, शेखपुरा, फुलवारी, घोसी, शेरघाटी, टिकारी, इमामगंज की सीटों पर मामला फंस सकता है़


    Header%2BAidWhats App पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 9599389900 को अपने मोबाईल में सेव  करके इस नंबर पर मिस्ड कॉल करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए https://www.facebook.com/wenews24hindi और https://twitter.com/Waors2 पर  क्लिक करें और पेज को लाइक करें

    WE NEWS 24 AID

    Post Bottom Ad