Header Ads

  • BREAKING NEWS

    इतिहास बदल गया, बिहार विधानसभा चुनाव में भी नीतीश नहीं रहे अब BJP के 'बड़े भाई'

     




    We News 24 Hindi »पटना,बिहार

    अमिताभ मिश्रा की रिपोर्ट


    बिहार: विधानसभा चुनाव 2020 में इस बार बहुत कुछ नया देखने को मिल रहा है। भाजपा और जदयू साथ मिलकर चुनाव लड़ रहे हैं, मगर लोजपा साथ नहीं है। लोजपा के अलग होने के बाद बुधवार को एनडीए ने अपनी सीट शेयरिंग के फॉर्मूले पर से पर्दा हटा दिया और भाजपा और जदयू के सीटों का ऐलान हो गया। बीजेपी और जदयू के बीच सीटों के बंटवारे के ऐलान के बाद एक चीज ने सबका ध्यान अपनी ओर खींचा, वह था सीटों की संख्या। बिहार की सियासत में ऐसा शायद पहली बार हुआ है जब भारतीय जनता पार्टी, नीतीश की जदयू से अधिक सीटों पर चुनाव लड़ रही है। भले ही लोकसभा में बीजेपी ज्यादा सीटों पर चुनाव लड़े, मगर विधानसभा में नीतीश की पार्टी जदयू ही बड़े भाई की भूमिका में होती थी, मगर इस बार पासा पलटा हुआ है। 



    ये भी पढ़े-मुजफ्फरपुर पीएनबी डीजीहट का हुआ शुभारंभ



    अगर साल 2015 के विधानसभा चुनाव को छोड़ दिया जाए तो बिहार की राजनीति में भारतीय जनता पार्टी और जदयू साथ में ही रही है। 2015 में सिर्फ जदयू और राजद का महागठंधन बना था, क्योंकि 2013 में बीजेपी के पीएम पद के दावेदारी के लिए मोदी के नाम पर मुहर लगने के बाद 17 साल का साथ छोड़कर जदयू एनडीए से अलग हुई थी। बहरहाल, बिहार विधानसभा चुनाव 2020 में भारतीय जनता पार्टी को जहां 121 सीटें मिली हैं, वहीं जदयू को 122 सीटें। मगर यहां जदयू के 122 सीटों में से सात सीटें जीतन राम मांझी की पार्टी हम को दी भी जाएंगी। इस तरह से इस चुनाव में जदयू कुल 115 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। 

    । 



    वहीं, भारतीय जनता पार्टी की बात करें तो भाजपा के 121 सीटों में से कुछ सीटें सन ऑफ मल्लाह यानी मुकेश सहनी की वीआईपी को दी जाएंगी। हालांकि, यह साफ नहीं है कि कितनी सीटें दी जाएंगी, मगर राजनीतिक पंडितों का मानना है कि वीआईपी को तीन-चार से अधिक सीटें मिलती नहीं दिख रही हैं। कुछ राजनीतिक पंडितों का यह भी मानना है कि बीजेपी अपने सिंबल से ही वीआईपी के उम्मीदवारों को चुनाव लड़ा सकती है। कुल मिलाकर 243 सीट पर एनडीए के सीट शेयरिंग फॉर्मूले को देखा जाए तो बीजेपी की सीटों की संख्या जदयू से ज्यादा है। 


    ये भी पढ़े-हाथरस कांड को लेकर आज कांग्रेस का 'सत्याग्रह', गांधी और आंबेडकर की प्रतिमा के आगे मौन धारन



    बिहार की सियासत में साल 2005 में नीतीश की जदयू और बीजेपी ने पहली बार मिलकर चुनाव लड़ा था। बिहार चुनाव 2020 से पहले जदयू और बीजेपी तीन बार मिलकर चुनाव लड़ चुकी है। सबसे पहले फरवरी 2005 में बिहार विधानसभा चुनाव में दोनों पार्टियों ने मिलकर चुनाव लड़ा। इस चुनाव में 243 सीटों में से जदयू 138 सीटों पर लड़ी थी, जबकि बीजेपी 105 सीटों पर चुनाव लड़ी थी। उस साल किसी को निर्णायक बहुमत न मिलने और लोजपा के किंग मेकर बनने से राष्ट्रपति शासन लग गया, जिसकी वजह से अक्टूबर में फिर चुनाव हुए। 


    ये भी पढ़े-चीन के खिलाफ भारतीय सेनाओं ने की मजबूत युद्ध की तैयारी, सैनिकों की मदद के ये हथियार तैनात



    अक्टूबर 2005 चुनाव में भी जदयू और बीजेपी एक साथ ही थी। इस चुनाव में जहां जदयू ने 139 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे, वहीं भाजपा को 104 सीटें मिली थीं। इस चुनाव में भाजपा-जदयू गठबंधन की जीत हुई थी और सरकार बनाई थी। साल 2010 के विधानसभा चुनाव में भी जदयू-बीजेपी साथ रही। इस चुनाव में बिहार की 243 सीटों में से जेडीयू 141 और बीजेपी 102 सीटों पर चुनावी मैदान में उतरी थी। इस बार भी एनडीए की ही सरकार बनी थी। इस तरह से अब तक के सभी चुनाव में जब-जब बीजेपी और जदयू साथ थी, जदयू के सीटों की संख्या ज्यादा थी, मगर इस चुनाव में बीजेपी के सीटों की संख्या ज्यादा है। 


    Header%2BAidWhats App पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 9599389900 को अपने मोबाईल में सेव  करके इस नंबर पर मिस्ड कॉल करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए https://www.facebook.com/wenews24hindi और https://twitter.com/Waors2 पर  क्लिक करें और पेज को लाइक करें


    WE NEWS 24 AID

    Post Bottom Ad