Header Ads

  • BREAKING NEWS

    शहरी जीवन का चमक दमक छोड़ आ बसी गाँव में , मुखिया बन गाँव का बदला स्वरुप




    We News 24 Hindi »सीतामढ़ी /बिहार

    संजू गुप्ता के साथ दीपक कुमार की रिपोर्ट


    सीतामढ़ी : इस बार बिहार विधानसभा चुनाव  मैदान में कई नए और युवा चेहरा अपना किस्मत अजमा रहे है  । ऐसी ही एक युवा और महिला उम्मीदवार हैं रितु जायसवाल जो एक एक लोकप्रिय महिला मुखिया भी है इनको   राष्ट्रीय जनता दल  ने  सीतामढ़ी जिले के परिहार विधानसभा से टिकट देकर मैदान में उतरा है । इस विधानसभा में अभी BJP के महिला विधयक गायत्री देवी है लोगो का मानना है की इन्ही दोनों में टक्कर है .


     रितु ने अध्यापक की नौकरी को त्याग कर  जनसेवा शुरू की उनका पति एक आईएएस है साथी ही वो सीतामढ़ी जदयू महिला मोर्चा की अध्यक्ष के पद पर भी थी , लेकिन उन्होंने उस पद को भी त्याग   दिया । कयास लगया जा रहा  था कि नीतीश कुमार की पार्टी  जदयू उन्हें टिकट दे कर चुनाव लडवा सकती है । लेकिन ऐसा हुआ नहीं तो दूसरी तरफ RJD ने ऐसे साफ सुथरी छवि और उनकी लोकप्रियता को देखते हुए सीतामढ़ी जिले के परिहार विधानसभा क्षेत्र से टिकट दिया .


    ये भी पढ़े-पहले फेज में देश में सबसे पहले कोरोना वैक्सीन इन लोगो को लगेगी ,सरकार कर चुकी पूरी तैयारी

     

    रितु जयसवाल सोनबरसा ब्लॉक के एकी सुदूर गाँव  राज सिंहवाहिनी पंचायत की मुखिया हैं। मुखिया रितु जायसवाल ने अपने काम के वजह से  बिहार ही नहीं पूरे देश में काफी लोकप्रिय हुयी । केंद्र सरकार ने पंचायती राज में उनके सराहनीय कार्य को लेकर सम्मानित किया है ।  





    नौकरी छोड़ समाजसेवा में जुटीं
     रितु जायसवाल के पति 1995 बैच के आईएएस (अलायड) अरुण कुमार हैं। दिल्ली के एक पब्लिक स्कूल की नौकरी छोड़ने और अपने आईएएस पति के साथ आरामदायक जीवन को छोड़कर रितु जायसवाल समाजसेवा करने के काम में जुटी हुई हैं। 





    इस घटना ने ऋतू की बदली जिंदगी
    शादी के 15 साल तक जहां भी रितु के पति की पोस्टिंग होती थी, वह साथ जाती थीं। लेकिन 15 साल बाद उन्होंने अपने पति से ससुराल जाने की बात की और उनके घर के सभी लोग नरकटिया गांव जाने के लिए तैयार हो गए। तभी रास्ते में गांव पहुंचने से कुछ दूरी पर उनकी कार कीचड़ में फंस गई। जब काफी कोशिशों के बाद भी कार कीचड़ से नहीं निकली तो बैलगाड़ी पर सवार होना पड़ा। लेकिन कुछ दूर जाते ही वो भी कीचड़ में फंस गई। जिसके बाद रितु उस क्षेत्र का विकास करने के लिए प्रेरित हुईं। वह गांव का पिछड़ापन देखखर काफी परेशान हो गईं। ना तो गांव में बिजली थी और ना सड़क। रितु से ये सब देखा ना गया, और उन्होंने गांव को इस पिछड़ेपन से निकालने का ठान लिया। इसके बाद उन्होंने पंचायत चुनाव में हिस्सा लेने का फैसला किया। रितु को चुनाव में जीत हासिल हुई और वह सिंहवाहिनी पंचायत की मुखिया बन गईं। 

    ये भी पढ़े-सीतामढ़ी विधान सभा से BJP के प्रत्याशी डॉ मिथलेश कुमार से खास बात चित,देखे वीडियो और जाने सीतामढ़ी के बारे में क्या कहा



    उपराष्ट्रपति से लेकर केंद्रीय मंत्री तक कर चुके हैं सम्मानित
    कुछ ही साल बाद रितु को अपने काम के लिए देश के उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने चैंपियंस ऑफ चेंज अवार्ड से सम्मानित किया। केंद्रीय पंचायती राज मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर रितु जायसवाल को प्रतिष्ठित दीन दयाल उपाध्याय पंचायत सशक्तीकरण पुरस्कार-2019 से सम्मानित कर चुके हैं। साथ ही रितु जायसवाल सरपंच और पंचायत सचिवों के क्षमता निर्माण कार्यक्रम के लिए केंद्रीय पंचायती राज मंत्रालय द्वारा चयनित बिहार के पंचायती मुखियाओं (ग्राम प्रधानों) में से एक थीं। इसके अलावा ग्राम पंचायत विकास योजना को लोगों के बीच पहुंचाने के लिए राष्ट्रीय ग्रामीण विकास संस्थान द्वारा चयनित नौ पैनलिस्ट में रितु जायसवाल का भी नाम था। वहीं आईआईटी मुंबई में आयोजित एक कार्यक्रम में रितु जायसवाल ने बिहार का प्रतिनिधित्व किया था। 


    टिकट मिलने पर जताई खुशी
    रितु जायसवाल ने कहा कि इस बार विधानसभा चुनाव में उन्होंने निर्दलीय चुनाव जीतने की योजना बनाई थी। लेकिन तभी राजद की तरफ से टिकट का ऑफर आया। उन्होंने कहा कि राजद द्वारा टिकट दिए जाने से वह बेहद खुश हैं। चुनाव जीतने पर मैं उसी प्रकार विकास के कार्य करूंगी, जिस तरह मैंने मुखिया रहने के दौरान किया है।




    Header%2BAidWhats App पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 9599389900 को अपने मोबाईल में सेव  करके इस नंबर पर मिस्ड कॉल करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए https://www.facebook.com/wenews24hindi और https://twitter.com/Waors2 पर  क्लिक करें और पेज को लाइक करेंला 

    WE NEWS 24 AID

    Post Bottom Ad