Header Ads

  • BREAKING NEWS

    इस बार दिलचस्प होगा बिहार चुनाव के नए समीकरण

     


    We News 24 Hindi »पटना/बिहार 

    राजकुमार की रिपोर्ट

    बिहार :विधानसभा के पहले चरण के चुनाव क्र लिए सभी दल के प्रत्याशी ने कमर  कस के मैदान में उतर चुके है और सभी ने  प्रचार शुरू कर । चुनाव में अपना -अपना किस्मत आजमा रही है  पर सभी सियासी दल अपना-अपना  नफा नुकसान का हिसाब लगाने में भी जुट गयी हैं। हर किसी के मन में यही सवाल उठ रहा है की  जेडीयू से  लग होने के बाद  राजद- कांग्रेस को फायदा होगा या नुकसान। देखना है की इस चुनाव में  भाजपा को कितना लाभ मिलता है। 


    ये भी पढ़े-अफगान शांतिवार्ता के बिच पाकिस्तान रच रहा है आतंकवादी तैयार करने की साजिश


    चुनावी आंकडे बताते हैं कि वर्ष 2015 के चुनाव में राजद-कांग्रेस को जेडीयू के साथ चुनाव लड़ने का बहुत फायदा मिला था। हालांकि, 2010 के मुकाबले जेडीयू के प्रदर्शन कमजोर रहा। इसकी एक बड़ी वजह यह भी थी कि जेडीयू ने 2015 में 2010 के मुकाबले कम सीट पर चुनाव लड़ा था। जेडीयू के साथ आने से भाजपा विरोधी वोट एकजुट हुआ और राजद की सीट 22 से बढ़कर 80 और कांग्रेस की सीट 2010 की 4 के मुकाबले 27 हो गई।



    महागठबंधन के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि इसमें कोई शक नहीं है कि जेडीयू के साथ आने से राजद-कांग्रेस को फायदा हुआ। जेडीयू के पास अपना वोट है, यह वोट राजद-कांग्रेस उम्मीदवारों को ट्रांसफर हुआ। इसके साथ मुसलिम और दलित ने भी इन पार्टियों को वोट किया। क्योंकि, 2015 के विधानसभा चुनाव से ठीक पहले आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के आरक्षण पर दिए बयान से राजद-कांग्रेस और जेडीयू गठबंधन का फायदा मिला।


    ये भी पढ़े-ऋतू जायसवाल RJD के टिकट पर लड़ेगी 25-परिहार विधानसभा सीट से चुनाव


    कांग्रेस-राजद को भी साथ चुनाव लड़ने एक-दूसरे को फायदा मिलता है। क्योंकि, 2010 में दोनों पार्टियां अलग-अलग चुनाव लड़ी थी। कांग्रेस ने सभी 243 सीट पर अपनी किस्मत आजमाई, पर वह सिर्फ चार सीट जीत पाई। वर्ष 2015 में जेडीयू के अलग होने से भाजपा को सीधा नुकसान हुआ। पार्टी सिर्फ 53 सीट जीत पाई, जबकि 2010 के चुनाव में  91 सीट मिली थी।



    ये भी पढ़े-सीतामढ़ी :रुन्नीसैदपुर विधानसभा क्षेत्र के JDU प्रत्याशी पर पर हुआ मुकदमा दर्ज



    रणनीतिकार मानते हैं कि 2019 के लोकसभा चुनाव में जेडीयू, भाजपा और लोजपा एक साथ चुनाव लड़े और जीत दर्ज की। राजद के साथ गठबंधन में चुनाव लड़ने के बावजूद कांग्रेस को एक सिर्फ एक सीट मिली। इन चुनाव में लोजपा भी जेडीयू-भाजपा गठबंधन से अलग है। ऐसे में यह देखना दिलचस्प होगा कि बिहार चुनाव के नए समीकरण कितना-फायदा नुकसान पहुंचाते हैं।



    Header%2BAidWhats App पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 9599389900 को अपने मोबाईल में सेव  करके इस नंबर पर मिस्ड कॉल करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए https://www.facebook.com/wenews24hindi और https://twitter.com/Waors2 पर  क्लिक करें और पेज को लाइक करें

    WE NEWS 24 AID

    Post Bottom Ad