Haider Aid

  • Breaking News

    नितीश सरकार में कुछ घंटों के शिक्षा मंत्री मेवालाल चौधरी की भ्रष्टाचार मामले में बढ़ी मुश्किले




    We News 24 Hindi »पटना/बिहार   

    ललित भगत की रिपोर्ट


    पटना :  बिहार में नीतीश  सरकार में कुछ घंटों के लिएतारापुर के विधायक और बिहार कृषि विश्वविद्यालय (बीएयू) के पूर्व कुलपति डॉ. मेवालाल चौधरी  शिक्षा मंत्री बन इस्तीफा दिया मेवालाल चौधरी  मुश्किलों में फसते नजर आ रहे है .


    दरअसल बीएयू में सहायक प्राध्यापकों की नियुक्ति घोटाले में मुख्य आरोपी मेवालाल के मामले में एसएसपी आशीष भारती ने अभियोजन स्वीकृति के लिए बीएयू के कुलपति को पत्र लिखा है। इसके बाद कुलपति डॉ. एके सिंह ने राजभवन से निर्देश लेने के साथ ही कानूनी विशेषज्ञों से राय लेने की तैयारी शुरू कर दी है। 



    ये भी पढ़े-उद्धव सरकार ने दी चेतावनी नहीं माने तो राज्य में फिर से लग सकता है लॉकडाउन



    कोर्ट में आरोप पत्र समर्पित करने के लिए अभियोजन स्वीकृति आवश्यक है। इसी सिलसिले में एसएसपी ने डॉ. मेवालाल और बीएयू के तत्कालीन सहायक निदेशक डॉ. एमके वाधवानी के खिलाफ अभियोजन स्वीकृति के आदेश की मांग की है। माना जा रहा है कि बीएयू प्रशासन सोमवार को इस पत्र का जवाब देगा। कुलपति डॉ. सिंह ने कहा कि मामले में कानून विशेषज्ञों से राय लेने व राजभवन से निर्देश के बाद ही वह कोई कदम उठाएंगे। 


    ये भी पढ़े-नवम्बर,दिसम्बर में शहनाई बजाने से चुके तो करना पड़ेगा अप्रेल 2021 तक इन्तजार ,दिसम्बर तक सिर्फ 11 शुभ विवाह मुहूर्त



    वहीं, इस पत्र को लेकर बीएयू के अधिकारियों के बीच काफी चर्चा है। अधिवक्ता संजय कुमार झा ने बताया कि अनुसंधान के दौरान पूर्व वीसी के विरुद्ध प्रथमदृष्टया अपराध साबित हो गया है। इसके लिए अभियोजन स्वीकृति के लिए लिखा गया है। स्वीकृति मिलते ही भागलपुर पुलिस चार्टशीट दायर करेगी। इसके बाद मामले में ट्रायल चलेगा। 





    कुलाधिपति से लेना होगा आदेश 
    वरीय अधिवक्ता अभयकांत झा ने बताया कि कुलपति को कुलाधिपति से अभियोजन स्वीकृति का आदेश लेना होगा। कुलाधिपति के आदेश के बाद ही पुलिस चार्टशीट दायर कर सकेगी। इसके बाद निगरानी कोर्ट में ट्रायल चलेगा। मामले में हाईकोर्ट से दोनों अभियुक्त जमानत पर हैं। इसलिए अब कोर्ट में ही ट्रायल चलेगा। 



    ये भी पढ़े-नवम्बर,दिसम्बर में शहनाई बजाने से चुके तो करना पड़ेगा अप्रेल 2021 तक इन्तजार ,दिसम्बर तक सिर्फ 11 शुभ विवाह मुहूर्त



    161 कनीय वैज्ञानिक की नियुक्ति का मामला
    जुलाई 2011 में 161 कनीय वैज्ञानिक सह सहायक प्राध्यापक की नियुक्ति का विज्ञापन निकला था। विज्ञापन के आधार पर अगस्त 2011 में साक्षात्कार और सितंबर में योगदान कराया गया था। 2015 में आरटीआई में साक्षात्कार के अंक की मांग की गयी। साक्षात्कार में असफल प्रतिभागियों ने अंक में हेराफेरी का आरोप लगाया। मामला राजभवन पहुंचा। 

    राजभवन के आदेश पर सेवानिवृत्त न्यायामूर्ति ने नियुक्ति में गड़बड़ी की जांच कर रिपोर्ट सौंपी। रिपोर्ट में तत्कालीन कुलपति और चयन समिति के अध्यक्ष डॉ. मेवालाल चौधरी को नियुक्ति में अनियमितता का दोषी पाया गया। इसी आधार पर राजभवन ने डॉ. मेवालाल के खिलाफ एफआईआर कराने का आदेश दिया था। इसके बाद रजिस्ट्रार अशोक कुमार ने 21 फरवरी 2017 को सबौर थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई थी।  










    Header%2BAidWhats App पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 9599389900 को अपने मोबाईल में सेव  करके इस नंबर पर मिस्ड कॉल करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए https://www.facebook.com/wenews24hindi और https://twitter.com/Waors2 पर  क्लिक करें और पेज को लाइक करें





    %25E0%25A4%25B5%25E0%25A5%2587%25E0%25A4%25AC%25E0%25A4%25B8%25E0%25A4%25BE%25E0%25A4%2587%25E0%25A4%259F%2B%25E0%25A4%25B2%25E0%25A5%258B%25E0%25A4%2597%25E0%25A5%258B

    No comments

    Post Top Ad

    Post Bottom Ad