Header Ads

  • BREAKING NEWS

    अब CBI इन राज्यों में बिना राज्य सरकार की अनुमति के नहीं कर सकेगी कोई जांच ,रज्सय रकार ने लिया सहमती वापस

      



    We News 24 Hindi »चंडीगढ़

    रविन्द्र सिंह की रिपोर्ट



    चंडीगढ़:ANI महाराष्ट्र और झारखंड के बाद पंजाब सरकार ने भी सेंट्रल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन (सीबीआई) से जनरल कंसेंट यानी सामान्य सहमित को वापस ले लिया है।  इसका मतलब यह है कि अब बिना इजाजत सीबीआई पंजाब में किसी भी नए मामले की जांच नहीं कर सकेगी और उसे हर केस के लिए राज्य सरकार से मंजूरी लेनी होगी। हाल ही में महाराष्ट्र की उद्धव सरकार ने भी सीबीआई से सामान्य सहमति वापस ले ली थी। इसी महीने झारखंड सरकार ने भी सीबीआई से यह सहमति वापस लेने की घोषणा की है।


    ये भी पढ़े-आज बिहार चुनाव के रहस्य से उठेगा पर्दा,इस दीवाली जलेगा लालटेन या चलेगा तीर ,9 बजे से आने लगेगा परिणाम



    सामान्य सहमति क्या है?

    राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) के विपरीत, जो अपने स्वयं के एनआईए अधिनियम द्वारा शासित होती है और जिसका देशभर में अधिकार क्षेत्र है, सीबीआई दिल्ली विशेष पुलिस स्थापना अधिनियम द्वारा शासित की जाती है। यह अधिनियम उसे किसी भी राज्य में जांच के लिए एक राज्य सरकार की सहमति को अनिवार्य करता है।



    दो तरह की होती हैं सहमति


    कुल दो प्रकार की सहमति होती हैं। पहली केस स्पेसिफिक और दूसरी जनरल (सामान्य)। यूं तो सीबीआई का अधिकार क्षेत्र केंद्र सरकार के विभागों और कर्मचारियों पर है, लेकिन राज्य सरकार से जुड़े किसी मामले की जांच करने के लिए उसे राज्य सरकार की सहमति की जरूरत होती है। इसके बाद ही, वह राज्य में मामले की जांच कर सकती हे।





    क्या सीबीआई अब महाराष्ट्र में कोई जांच नहीं कर पाएगी?

    सीबीआई ने जनरल कन्सेन्ट वापसी से पहले तक पंजाब में जो भी केस दर्ज किए हैं, उनकी जांच वह कर सकेगी। छापेमारी को लेकर स्थिति बहुत साफ नहीं है, लेकिन पुराने मामलों में रेड मारने के लिए कोर्ट से वॉरंट लिया जा सकता है। वैसे, सीबीआई दूसरे राज्यों में दर्ज केस के तार पंजाब से जुड़े हों तो उस सिलसिले में पंजाब में जांच कर सकती है। दिल्ली हाईकोर्ट ने 2018 में छत्तीसगढ़ के एक मामले में आदेश दिया था, जिसके मुताबिक केस का तार दिल्ली से जुड़ा हो तो सीबीआई दिल्ली में केस दर्ज कर सकती है और फिर उस केस की जांच कहीं भी कर सकती है।


    ये भी पढ़े-फिरौती के लिए अपहरण बच्चे को मुजफ्फरपुर पुलिस ने किया बरामद



    सामान्य सहमति के वापस लेने का क्या मतलब?


    इसका सीधा मतलब है कि सीबीआई बिना केस स्पेसिफिक सहमति मिले इन राज्यों में किसी भी व्यक्ति के खिलाफ कोई नया मामला नहीं दर्ज कर पाएगी। इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, सीबीआई अधिकारी ने बताया कि सामान्य सहमति को वापस लेने का मतलब है कि राज्य सरकार की अनुमति के बिना इन राज्यों में प्रवेश करते ही किसी भी सीबीआई अफसर के पुलिस अधिकारी के रूप में मिले सभी अधिकार खत्म हो जाते हैं।
    पहले किस-किस राज्य सरकार ने लागू की नो एंट्री?


    यह पहली बार नहीं है जब किसी राज्य सरकार ने अपने यहां सीबीआई की जांच के लिए उसकी एंट्री को रोक दिया हो। इससे पहले, महाराष्ट्र पश्चिम बंगाल, आंध्र प्रदेश और राजस्थान सरकार तो ऐसा कर ही चुकी हैं। इसके साथ ही कई अन्य राज्य भी अपने यहां सामान्य सहमति को वापस ले चुके हैं। सिक्किम, नागालैंड, छत्तीसगढ़ सरकार भी जनरल कंसेंट को वापस ले चुकी है।
     









    Header%2BAidWhats App पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 9599389900 को अपने मोबाईल में सेव  करके इस नंबर पर मिस्ड कॉल करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए https://www.facebook.com/wenews24hindi और https://twitter.com/Waors2 पर  क्लिक करें और पेज को लाइक करें





    %25E0%25A4%25B5%25E0%25A5%2587%25E0%25A4%25AC%25E0%25A4%25B8%25E0%25A4%25BE%25E0%25A4%2587%25E0%25A4%259F%2B%25E0%25A4%25B2%25E0%25A5%258B%25E0%25A4%2597%25E0%25A5%258B

    WE NEWS 24 AID

    Post Bottom Ad