Haider Aid

  • Breaking News

    बेगुसराय: जिले के कई प्रखंड में नीलगाय के आंतक से किसान परेशान,छोड़ा मसालों की खेती

     


    We News 24 Hindi » बेगुसराय/बिहार  

    ब्यूरो रिपोर्ट 


    बेगुसराय: जिले के कई  प्रखंड क्षेत्रो में  चौर और  ऊपरी इलाके में   किसानों को नीलगाय एक मुसीबत का सबब बना हुआ है .नीलगाय झुंडों में आकर  फसलों को नुकसान पहुंचा रही हैं। नीलगायों के झुंड गेहूँ, आलू, सरसों, मक्का आदि फसलों को बर्बाद कर रहे हैं। रात का अंधेरा हो या फिर दिन का उजाला हो, इससे इन नीलगायों को कोई परहेज नहीं है। खाने से ज्यादे इनके पैरों से फसल की बर्बादी हो रही है। इसके आतंक के कारण किसानों ने मसाला ( धनिया) की खेती करनी छोड़ दी। 


    ये भी पढ़े-पत्रकार संरक्षण आयोग का होगा गठन, सदन में उठेगी आवाज



    एक दशक पहले तक प्रखंड क्षेत्र में सैंकड़ों एकड़ में मसाला (धनिया) की खेती करते थे। नीलगाय द्वारा धनिया को खेत में चर जाने के कारण किसानों ने इसकी खेती करना ही छोड़ दी है। ऐसी स्थिति में प्रखंड के किसान भगवान भरोसे खेती करने को मजबूर हैं। 24 घंटे खेतों की रखवाली संभव नहीं है। वन्य जीव संरक्षण प्राणी कानून की वजह से इन नीलगायों को कोई मार भी नहीं सकता है।

    ये भी पढ़े-किसान नेताओं ने कहा बातचीत का अंतिम दौर,नतीजा नहीं निकला तो उग्र होगा आन्दोलन


    किसानों ने बताया कि पहले नीलगाय खेत में पुतला खड़ा देने पर नहीं आती थी। अब तो बेफिक्र होकर खेतो में विचरण कर खेतों में लगी फसल को बर्बाद करती हैं। भैरवार के किसान ने बताया कि खेतों में लगी फसलों को झुंड में रही नीलगाय बर्बाद कर उनकी मेहनत व पूंजी पर पानी फेर रही हैं। पीड़ित किसानों ने फसल की बर्बादी को रोकने के लिए नीलगायों के आतंक से निजात दिलाने की मांग स्थानीय प्रशासन से की है। 







    Header%2BAidWhats App पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 9599389900 को अपने मोबाईल में सेव  करके इस नंबर पर मिस्ड कॉल करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए https://www.facebook.com/wenews24hindi और https://twitter.com/Waors2 पर  क्लिक करें और पेज को लाइक करें





    %25E0%25A4%25B5%25E0%25A5%2587%25E0%25A4%25AC%25E0%25A4%25B8%25E0%25A4%25BE%25E0%25A4%2587%25E0%25A4%259F%2B%25E0%25A4%25B2%25E0%25A5%258B%25E0%25A4%2597%25E0%25A5%258B

     

    No comments

    Post Top Ad

    Post Bottom Ad