Haider Aid

  • Breaking News

    मुजफ्फरपुर बना देश का सबसे प्रदूषित शहर,स्‍थ‍ित‍ि बेहद खतरनाक


    We News 24 Hindi » मुजफ्फरपुर/बिहार

    रवि कुमार की रिपोर्ट


    मुजफ्फरपुर:प्रदुषण को लेकर जारी आंकड़ों में बीते रव‍िवार को देश का सबसे प्रदूष‍ित शहर मुजफ्फरपुर रहा। जारी र‍िपोर्ट के अनुसार रव‍िवार को यहां एयर क्वालिटी इंडेक्स 453 रिकॉर्ड किया गया। जो देश के क‍िसी भी अन्‍य शहरों की तुलना में काफी अधि‍क है। यहां तक क‍ि सूबे की राजधानी पटना और देश की राजधानी द‍िल्‍ली से भी अधि‍क। मुजफ्फरपुर के बाद दूसरे स्‍थान पर यूपी की रजाधानी लखनउ है। यहां एक्यूआइ 406 था। व‍िगत सात जनवरी के बाद यह स्‍थ‍ित‍ि हुई है। 


    ये भी पढ़े-वैशाली में बेख़ौफ़अपराधियों ने दोनों हाथों में पिस्तौल लहराते हुए एसबीआई के ग्राहक सेवा केंद्र को लूट लिया


    स्‍थ‍ित‍ि बेहद खतरनाक स्‍तर पर 


    राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण परिषद ने जो मानक तय किया है। उसके हिसाब से एक्यूआइ 0 से 50 तक गुड, 51 से 100 तक संतोषजनक, 101 से 200 तक मॉडेरेट, 201 से 300 तक पुअर तथा 301 से 400 तक वेरी पुअर माना गया है। यहां तो मामला 450 के पार का है। इससे स्‍थ‍ित‍ि की गंभीरता का सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है। 



    हाल में गाड़ियों की आवक बढ़ी 

      इस स्‍थ‍ित‍ि की मुख्‍य वजह दीपावली और इसके बाद अनलाॅॅॅक को माना जा रहा है। क्‍योंक‍ि लॉकडाउन के दौरान शहर की वायु गुणवत्‍ता में काफी सुधार हुआ था। लेक‍िन, जैसे अनलॉक हुआ, शहर में गाड़ि‍यों की आवक बहुत बढ़ गई। यूं तो इस बार प्रशासन की ओर से दीपावली पर पटाखों की ब‍िक्री पर रोक थी लेक‍िन, यह केवल आदेश के स्‍तर पर था। उस शाम को भी लोगों ने खूब आत‍िशबाज‍ियां की थींं। इसके बाद शाद‍ियां और परीक्षाएं एक साथ शुरू हईं। इसकी वजह से शहर में गाड़‍ियों की आवक बहुत बढ़ गई। ज‍िससे न केवल जाम की समस्‍या उत्‍पन्‍न हुई वरन इसने वायु को भी प्रदूषि‍त कर द‍िया। जेनरेटर के धुएं ने भी बेड़ा गर्क कर रखा है। 


    ये भी पढ़े-मुज़फ़्फ़रपुर विभिन्न कांडो 2 अभियुक्त शातिर लुटेरा हथियार और कारतूस के साथ गिरफ्तार


    सांस के रोगी सावधानी बरतें 


    यही वजह है क‍ि सरकारी अस्पतालों से लेकर निजी अस्पतालों तक सांस संबंधी मरीजों की संख्या में 20 से 25 फीसद तक इजाफा हुआ है। मेडिसिन विशेषज्ञ डॉ. एके दास ने बताया कि हाल में सांस लेने में परेशानी की श‍िकायत करने वाले मरीजाेें की संख्‍या ज्यादा हो गई है। जो पहले से सांस संबंधी बीमारी के मरीज हैं, उनकी परेशानी और बढ़ गई है। ऐसे में मरीजों को ब‍िना मास्‍क, क‍िसी भी हालत में बाहर नहीं न‍िकलना चाह‍िए। धुआं वाले स्‍थान में तो जाएं ही नहीं।   


    Header%2BAidWhats App पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 9599389900 को अपने मोबाईल में सेव  करके इस नंबर पर मिस्ड कॉल करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए https://www.facebook.com/wenews24hindi और https://twitter.com/Waors2 पर  क्लिक करें और पेज को लाइक करें




    %25E0%25A4%25B5%25E0%25A5%2587%25E0%25A4%25AC%25E0%25A4%25B8%25E0%25A4%25BE%25E0%25A4%2587%25E0%25A4%259F%2B%25E0%25A4%25B2%25E0%25A5%258B%25E0%25A4%2597%25E0%25A5%258B

    No comments

    Post Top Ad

    Post Bottom Ad