Haider Aid

  • Breaking News

    चीनी कठपुतली प्रधानमंत्री ओली ने फिर उगला भारत के खिलाफ जहर,भारतीय क्षेत्रों को फिर से बताया




    We News 24 Hindi »काठमांडू
    मिडिया रिपोर्ट


    काठमांडू, आइएएनएस। घरेलू सियासत में बुरी तरह फंसे नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली  ने अपने देश के लोगों का ध्यान भटकाने के लिए फिर भारत के क्षेत्रों को अपना बताया है। ओली  ने कहा कि वह भारत से कालापानी, लिंपियाधुरा और लिपुलेख क्षेत्र को वापस लेकर रहेंगे। उनकायह बयान इसलिए भी अहम है कि सीमा विवाद को लेकर दोनों देशों के बीच विदेश मंत्री स्तर की बातचीत होने वाली है।


    भारत को उकसाने की कोशिश


    चीन के चंगुल में फंसे नेपाली प्रधानमंत्री ने भारत को उकसाने की यह कोशिश नेशनल असेंबली में अपने संबोधन में की। ओली ने कहा कि सीमा विवाद पर बातचीत करने के लिए भारत जा रहे विदेश मंत्री प्रदीप ग्यावली के एजेंडे में इन तीनों क्षेत्रों को वापस लेना प्रमुख है। विदेश मंत्री एस. जयशंकर के निमंत्रण पर ग्यावली विदेश मंत्री स्तर की छठवें नेपाल-भारत संयुक्त आयोग की बैठक में भाग लेने के लिए 14 जनवरी को भारत आ रहे हैं।


    ये भी पढ़े-RJD का दावा ,खरमास के बाद बिहार की एनडीए सरकार नहीं बचेगा



    सुगौली समझौते का दिया हवाला


    ओली ने कहा कि सुगौली समझौते के मुताबिक कालापानी, लिंपियाधुरा और लिपुलेख महाकाली नदी के पूरब में स्थित और नेपाल का हिस्सा हैं। हम भारत के साथ कूटनीतिक वार्ता करेंगे और हमारे विदेश मंत्री भी भारत जा रहे हैं। आज, हमें हमारी जमीन वापस लेने में मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है, क्योंकि 1962 में भारत-चीन युद्ध के बाद जब भारतीय सैन्य बलों ने इन क्षेत्रों में अपना ठिकाना बनाना शुरू किया था तो नेपाली शासकों ने इन क्षेत्रों को वापस लेने की कोशिश नहीं की।


    भारत से मित्रता के आधार पर हो रही बात


    ओली ने कहा कि कुछ लोगों ने कहा था कि नेपाल द्वारा इन तीनों क्षेत्रों को अपने नक्शे में दिखाए जाने के बाद भारत के साथ उसके रिश्ते खराब हो जाएंगे, लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ। अब भारत के साथ मित्रता के आधार पर बातचीत हो रही है। उन्होंने कहा कि नेपाल अपनी जमीन हर हाल में वापस लेकर रहेगा।


    ये भी पढ़े-गोपालगंज स्टेशन रोड में बसपा नेता पर हमला ,पूर्व विधायक सहित आठ लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज


    कम्‍यूनिस्‍ट पार्टी हो चुकी है दो फाड़


    दरअसल, नेपाल की सत्तारूढ़ कम्‍यूनिस्‍ट पार्टी बेहद नाटकीय घटनाक्रम से गुजर रही है। पार्टी दो फाड़ में टूट गई है। इसमें से एक का नेतृत्व प्रधानमंत्री ओली तो दूसरे का नेतृत्व प्रचंड कर रहे हैं। पार्टी अब दो साल पहले की तरह दो अलग राजनीतिक दलों के रूप में काम कर रही है। बता दें कि दोनों राजनीतिक दलों का विलय विगत 2018 में हुआ था। नेपाल कम्यूनिस्ट पार्टी (यूएमएल) के अध्‍यक्ष ओली जबकि नेपाल कम्यूनिस्ट पार्टी (माओ) के प्रमुख पुष्प कमल दहल प्रचंड थे।


    ये भी पढ़े-बिहार में बर्ड फ्लू ने दी दस्तक, मुजफ्फरपुर में 70 मुर्गियों की मौत।


    ध्‍यान भटकाने के लिए छेड़ा मसला


    प्रधानमंत्री ओली ने संसद को भंग करके आगामी 30 अप्रैल और दस मई को मध्यावधि चुनाव की घोषणा की थी जिसे राष्‍ट्रपति ने मंजूर कर लिया था। मामले में याचिकाएं सुप्रीम कोर्ट में है। नेपाल की सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले नेपाल सरकार को कारण बताओ नोटिस जारी किया था। नेपाल में आवाम भी सरकार के कामकाज से खुश नहीं है। लोग राजशाही की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं। माना जा रहा है कि जनता का ध्‍यान भटकाने के लिए ओली ने एकबार फिर सीमा विवाद का मसला छेड़ दिया है।  



    Header%2BAidWhats App पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 9599389900 को अपने मोबाईल में सेव  करके इस नंबर पर मिस्ड कॉल करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए https://www.facebook.com/wenews24hindi और https://twitter.com/Waors2 पर  क्लिक करें और पेज को लाइक करें




    %25E0%25A4%25B5%25E0%25A5%2587%25E0%25A4%25AC%25E0%25A4%25B8%25E0%25A4%25BE%25E0%25A4%2587%25E0%25A4%259F%2B%25E0%25A4%25B2%25E0%25A5%258B%25E0%25A4%2597%25E0%25A5%258B

    No comments

    Post Top Ad

    Post Bottom Ad