Haider Aid

  • Breaking News

    फीका पड़ा किसान आन्दोलन ,NH 24 पर आवागमन शुरू 24 घंटे बाद बहाल हुयी दिल्ली में इंटरनेट सेवा





    We News 24 Hindi »नई दिल्ली 
    आनंद त्यागी की  रिपोर्ट


    नई दिल्ली: 26 जनवरी को किसानो की  ट्रैक्टर परेड के वक्त हुयी  हिंसा के बाद दिल्ली पुलिस ने कमर कस ली है और दिल्ली-एनसीआर में सुरक्षा बढ़ा दी है । दिल्ली के अलग-अलग इलाकों में पुलिस के जवान पैनी नजर बनी हुयी है । लाल किला के आस-पास भी सुरक्षा बलों को तैनात कर दी गयी है। चप्पे-चप्पे पर निगरानी की जा रही है। वहीं, दिल्ली मेट्रो रेल निगम ने एहतियात बरतते हुए बृहस्पतिवार को लाल किला और जामा मस्जिद मेट्रो स्टेशन पर एंट्री और एग्जिट गेट बंद को बंद कर दिया गया हैं। NH 24 पर भी  बृहस्पतिवार सुबह से आवागमन शुरू हो गया है। इससे दिल्ली और यूपी के लोगों को बड़ी राहत मिली है।


    ये भी पढ़े-ट्रेक्टर रैली हिंसा: दिल्ली पुलिस के FIR बाद किसान नेताओं पर ED की कसेगा सिकंजा


    ट्रैक्टर परेड के नाम पर हुए उपद्रव से ट्रेन यात्रियों को भी परेशानी का सामना करना पड़ा। ट्रेनों की आवाजाही प्रभावित होने के साथ ही यात्री समय पर रेलवे स्टेशन नहीं पहुंच सके। कई यात्री ट्रेन नहीं पकड़ सके। इन यात्रियों को राहत देने के लिए रेल प्रशासन ने किराया वापस करने का फैसला किया है।



    कृषि कानूनों के विरोध के नाम पर गणतंत्र दिवस समारोह के दौरान दिल्ली में उपद्रव करने वाले उपद्रवियों के खिलाफ दिल्ली पुलिस ने शिकंजा कसना शुरू दिया है। इस मामले में दिल्ली पुलिस ने अबतक 22 एफआइआर दर्ज की है। एफआइआर में 50 से अधिक किसान नेताओं को नामजद किया गया है। जांच में जैसे-जैसे अन्य किसान नेताओं व उपद्रवियों के उपद्रव करने में संलिप्तता पाई जाएगी उनकी पहचान करने के बाद पुलिस उन्हें मुकदमें में आरोपित बनाएगी।


    ये भी पढ़े-लाल किले पर सामुदायिक झंडा लगाने वाला युवक पंजाब के इस गांव का है




    राजधानी में गणतंत्र दिवस पर हुए उपद्रव के चलते मंगलवार दोपहर को इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई थी। पूरी रात इंटरनेट बंद रहा और बुधवार दोपहर को ही सेवाएं बहाल हो सकी। हालांकि इसके बाद भी काफी देर तक कई मोबाइल कंपनियों की इंटरनेट स्पीड कम रही। इसको लेकर लोग तरह-तरह के ट्वीट भी करते रहे। राजधानी और आस-पास के शहरों में इंटरनेट सेवा बंद करने का मकसद यही था कि गलत और भ्रामक संदेश न फैलें, ताकि उपद्रव को शांति से नियंत्रित किया जा सके। इंटरनेट सेवाएं बाधित होने के चलते उन लोगों को समस्या का सामना करना पड़ा, जिनके पास वाई-फाई की सुविधा नहीं थी। 

    No comments

    Post Top Ad

    Post Bottom Ad