Haider Aid

  • Breaking News

    पाकिस्तान सरकार ने ग्वादर पोर्ट की घेराबंदी का कार्य रोका,चीन के निवेश पर मंडराया खतरा

     




    We News 24 Hindi »बीजिंग
    मिडिया रिपोर्ट


    बीजिंग, एएनआइ। पाकिस्तान में ग्वादर बंदरगाह को चार दीवारी से घेरने की योजना पर बलूचिस्तान सरकार ने कार्य फिलहाल रोक दिया है। इस योजना का स्थानीय लोग विरोध कर रहे थे। पाकिस्तानी सेना, मकरान प्रशासन, ग्वादर पोर्ट अथॉरिटी और बलूचिस्तान सरकार ने मिलकर बंदरगाह के तीन ओर 24 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र की दीवार बनाने की योजना बनाई थी। यह दीवार चीन-पाकिस्तान इकोनोमिक कॉरीडोर (सीपीईसी) के अंतर्गत जारी परियोजना की सुरक्षा को बेहतर करने के लिए बनाई जानी थी।


    ये भी पढ़े-मौसम का अपडेट: दिल्ली एनसीआर में फिर से बारिश, चारधाम में बर्फबारी, ठंड बढ़ने की संभावना


    ग्वादर बंदरगाह का संचालन का जिम्मा चीन को सौंपा जा चुका है। सीपीईसी के तहत चीन से जुड़ा यह बंदरगाह मध्य एशिया और यूरोप के देशों को माल भेज रहा है। बलोच अलगाववादियों के आंदोलन चलते सीपीईसी पर शुरू से खतरा मंडरा रहा है। बलूचिस्तान के गृह मंत्री जिया लांगो ने शनिवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर ग्वादर बंदरगाह के इर्द-गिर्द दीवार बनाने के कार्य को रोके जाने का एलान किया।


    ये भी पढ़े-सीतामढ़ी विधायक ने कहा रेलवे ओवरब्रिज का निर्माण और जानकी जन्मभूमि को विश्व मानचित्र पर स्थापित करेंगे


     उन्होंने कहा ऐसा स्थानीय लोगों की आलोचना के बाद किया गया। ग्वादर के बारे में निर्णय लेने से स्थानीय लोगों को वंचित नहीं रखा जाएगा और स्थानीय लोगों को इस मुद्दे पर विश्वास में लेने के बाद फेंसिंग के बारे में निर्णय लिया जाएगा। एशिया टाइम्स के अनुसार ग्वादर-लासबेला से नेशनल असेंबली के एक सदस्य मोहम्मद असलम भूतानी न फैसले पर नाराजगी व्यक्त की और कहा कि सुरक्षा के नाम पर ग्वादर में फेंसिंग लगाने से स्थानीय आबादी के मन में संदेह पैदा होगा।


    ये भी पढ़े-बिहार विद्यालय परीक्षा समिति ने जारी किया मैट्रिक और इंटर का मॉडल पेपर, यहां देखें 10-12 परीक्षा कार्यक्रम



    साउथ चाइना मॉर्निग पोस्ट अखबार के अनुसार पाकिस्तान के इस फैसले से चीन को झटका लगा है। उसे लग रहा है कि उसके निवेश की परियोजना को सुरक्षा देने में पाकिस्तान कोताही बरत रहा है। इससे सीपीईसी में उसका बड़ा निवेश खतरे में पड़ सकता है। उनमें कार्य करने वाले चीनी अधिकारियों-कर्मचारियों के लिए खतरा बढ़ सकता है। उल्लेखनीय है कि बलूचिस्तान पाकिस्तान का सबसे ज्यादा अशांत इलाका है। वहां पर अतिवादी अक्सर हमले करते रहते हैं और वहां की आबादी भी सीपीईसी की विरोधी है।



    Header%2BAidWhats App पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 9599389900 को अपने मोबाईल में सेव  करके इस नंबर पर मिस्ड कॉल करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए https://www.facebook.com/wenews24hindi और https://twitter.com/Waors2 पर  क्लिक करें और पेज को लाइक करें




    %25E0%25A4%25B5%25E0%25A5%2587%25E0%25A4%25AC%25E0%25A4%25B8%25E0%25A4%25BE%25E0%25A4%2587%25E0%25A4%259F%2B%25E0%25A4%25B2%25E0%25A5%258B%25E0%25A4%2597%25E0%25A5%258B


    No comments

    Post Top Ad

    Post Bottom Ad