Haider Aid

  • Breaking News

    लाल किले पर सामुदायिक झंडा लगाने वाला युवक पंजाब के इस गांव का है




    We News 24 Hindi »नई दिल्ली 
    आरती गुप्ता  की  रिपोर्ट



     दिल्ली: किसान  ट्रैक्टर परेड के दौरान जिसने लाल किले पर सामुदायिक केसरिया झंडा लगाया उसका नाम जुगराज सिंह है वो पंजाब के तरनतारन के गांव का रहने वाला है।उसको उसके परिवार और ग्रामीणों ने टीवी और सोशल मीडिया पर चल रहे वीडियो से उसकी पहचानकी । बताया जा रहा है कि पुलिस ने भी परिवार से पूछताछ की है। जुगराज सिंह के पिता बलदेव सिंह, मां भगवंत कौर अपनी तीनों बेटियों के साथ अंडरग्राउंड हो गया ।


    जुगराज सिंह के माता-पिता तीन बेटियों के साथ घर से लापता हुआ


    जुगराज सिंह के दादा महिल सिंह और दादी गुरचरण कौर ने एक अख़बार से बातचीत में माना कि लाल किले पर केसरिया झंडा लगाने वाला उन्हीं का पोता है। उन्होंने कहा कि हमारा परिवार बॉर्डर से सटी कंटीली तार के पास खेती करता है। उसके परिवार का कोई भी सदस्य किसी गैर सामाजिक गतिविधि में शामिल नहीं रहा है। दादी गुरचरण कौर ने कहा कि जुगराज गांव के गुरुद्वारों में निशान साहिब पर चोला साहिब चढ़ाने की सेवा करता था। गांव में छह गुरुद्वारा साहिब हैं। यहां पर निशान साहिब पर जब भी चोला साहिब चढ़ाना होता था तो जुगराज सिंह ही यह काम करता था। उसने जोश में आकर दिल्ली के लाल किले पर झंडा चढ़ा दिया होगा।


    ये भी पढ़े-मुजफ्फरपुर:युवा राजद ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का पुतला जलाकर विरोध प्रर्दशन किया


    निशान साहिब पर चोला साहिब चढ़ाने में माहिर है जुगराज


    उसके इस कृत्य से गांव के लोग भी हैरान हैं। ग्रामीण प्रेम सिंह ने बताया कि जुगराज सिंह मैट्रिक पास है। 24 जनवरी को गांव से दो ट्रैक्टर ट्रालियां किसान आंदोलन के लिए दिल्ली रवाना हुई थीं। जुगराज सिंह भी इनके साथ दिल्ली चला गया था। 26 जनवरी को टीवी पर खबर देखकर हैरानी हुई कि लाल किले पर केसरिया झंडा लगाने वाला युवक जुगराज सिंह उन्हीं के गांव का है।



    ग्रामीण साधा सिंह, गुरसेवक सिंह और महिंदर सिंह का कहना है कि किसान आंदोलन के दौरान मुकम्मल तौर पर शांति रहनी चाहिए थी। कुछ शरारती लोगों ने यह गलत हरकत की है। दादा महिल सिंह ने बताया कि परिवार के पास दो एकड़ जमीन है। तीन भैंसें और एक गाय भी रखी है। ट्रैक्टर कई वर्षो से खराब पड़ा। परिवार पर चार लाख का कर्ज भी है।


    ये भी पढ़े-सुप्रीम कोर्ट वेब सीरीज तांडव के निर्माता और अमेजन प्राइम को झटका ,कोर्ट ने जमानत की अपील ठुकरायी


    पुलिस ने की थी परिवार से पूछताछ


    26 जनवरी की रात को दस बजे पुलिस की टीम जुगराज सिंह के घर पहुंची थी और परिवार से पूछताछ भी की थी। पूछताछ के दौरान जुगराज सिंह के पिता बलदेव सिंह ने सिर्फ यह बताया कि उसका बेटा किसान आंदोलन में शामिल होने लिए दिल्ली गया था। वह ढाई वर्ष पहले चेन्नई स्थित निजी कंपनी में काम करने गया था, लेकिन पांच माह बाद ही लौट आया था। इसके बाद खेती का काम देखने लगा।


    सूत्रों के अनुसार इस मामले की जांच दिल्ली पुलिस करेगी। कहा जाता है कि यह मामला कट्टरपंथियों से भी जुड़ा हो सकता है। एक पुलिस अधिकारी का कहना है कि मामला खालिस्तान आंदोलन से तो नहीं जुड़ा, यह भी जांच की जा रही है।



    Header%2BAidWhats App पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 9599389900 को अपने मोबाईल में सेव  करके इस नंबर पर मिस्ड कॉल करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए https://www.facebook.com/wenews24hindi और https://twitter.com/Waors2 पर  क्लिक करें और पेज को लाइक करें




    %25E0%25A4%25B5%25E0%25A5%2587%25E0%25A4%25AC%25E0%25A4%25B8%25E0%25A4%25BE%25E0%25A4%2587%25E0%25A4%259F%2B%25E0%25A4%25B2%25E0%25A5%258B%25E0%25A4%2597%25E0%25A5%258B

    No comments

    Post Top Ad

    Post Bottom Ad