Haider Aid

  • Breaking News

    ग्लोबल कायस्थ कॉन्फ्रेंस के सौजन्य से 16 विभूतियों को मिला महादेवी वर्मा सम्मान।



    • ग्लोबल कायस्थ कॉन्फ्रेंस के सौजन्य से 16 विभूतियों को मिला महादेवी वर्मा सम्मान।
    • बहुमुखी प्रतिभा की धनी थी महादेवी वर्मा : राजीव रंजन प्रसाद
    • महादेवी वर्मा हिंदी साहित्य की प्रतिभावान कवियित्रियों में शुमार : राजीव रंजन प्रसाद


    We News 24 Hindi »पटना
    ब्यूरो   रिपोर्ट

    पटना, 26 मार्च 2021 : ग्लोबल कायस्थ कांफ्रेंस (जीकेसी) के सौजन्य से महान कवियित्री और सुविख्यात लेखिका महादेवी वर्मा की जयंती के अवसर पर 16 विभूतियों को महादेवी वर्मा सम्मान से अंलकृत किया गया।

     

    जीकेसी के सौजन्य से राजधानी पटना के भारतीय नृत्य कला मंदिर में महादेवी वर्मा स्मृति सम्मान समारोह का भव्य आयोजन किया गया। इस अवसर पर अलग-अलग क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान देने वाली 16 विभूतियों को महादेवी वर्मा सम्मान से सम्मानित किया गया। जीकेसी के राष्ट्रीय प्रवक्ता कमल किशोर और अतुल आनंद सन्नू ने बताया कि सम्मानित किये गये विभूतियों में श्री रिपुसुदन श्रीवास्तव (साहित्य), श्री आलोक राज( गायन), अनुप्रभा दास (मिथिला पेटिंग), मृणालिनी अखौरी (लोकगायन), पंखुरी श्रीवास्तव (शास्त्रीय संगीत), मनीष वर्मा (ब्लॉगर), निशांत उज्जवल (फिल्म), समीर परिमल (कविता), कुमार रजत (पत्रकारिता), मर्यादा कुलश्रेष्ठ निगम (शास्त्रीय नृत्य), श्यामल दास (पेटिंग), राजकुमार नाहर (शास्त्रीय संगीत), हिना रिजवी (शायरी), नीतु सिन्हा ‘तरंग (लेखन), प्रिया मल्लिक (पार्श्वगायन) और अनुशा चित्रांशी (लेखन) शामिल है। कार्यक्रम की शुरूआत भगवान श्री चित्रगुप्त की आरती और राष्ट्रीय गीत से  हुयी। इसके बाद दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम की शुरूआत की गयी।

    ये भी पढ़े-गया में कांग्रेस नेता के भाई को मारी गोली

    इस अवसर पर जीकेसी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री राजीव रंजन प्रसाद ने अपने संबोधन में कहा कि साहित्य जगत में महादेवी वर्मा का नाम ध्रुव तारे की तरह प्रकाशमान है। महादेवी वर्मा हिन्दी की सर्वाधिक प्रतिभावान कवियित्रियों में से हैं। वह हिन्दी साहित्य में छायावादी युग के चार प्रमुख स्तंभों में से एक मानी जाती हैं। महादेवी वर्मा साहित्य और संगीत में निपुण होने के साथ साथ कुशल चित्रकार और सृजनात्मक अनुवादक भी थीं।


    जीकेसी की प्रबंध न्यासी श्रीमती रागिनी रंजन ने कहा कि साहित्य में महादेवी वर्मा का आविर्भाव उस समय हुआ जब खड़ीबोली का आकार परिष्कृत हो रहा था। उन्होंने हिन्दी कविता को बृजभाषा की कोमलता दी, छंदों के नये दौर को गीतों का भंडार दिया। उन्हें आधुनिक मीरा भी कहा गया है। 

    ये भी पढ़े-जाने-माने पत्रकार-लेखक अनिल धरकर का निधन, मुंबई में ली अंतिम सांस

    जीकेसी की प्रदेश अध्यक्ष डा. नम्रता आनंद ने अपने स्वागत भाषण में कहा कि महादेवी वर्मा एक महान कवयित्री होने के साथ-साथ हिंदी साहित्य जगत में एक बेहतरीन गद्य लेखिका के रूप में भी जानी जाती हैं।


    श्री आलोक राज ने कहा कि महादेवी वर्मा जी एक मशूहर कवियित्री तो थी हीं, इसके साथ ही वह एक महान समाज सुधारक भी थीं। कवि निराला ने उन्हें “हिन्दी के विशाल मन्दिर की सरस्वती” भी कहा है। 

    ये भी पढ़े-मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की बिहार को सौगात, ‘नेचर सफारी’ और ‘8-सीटर रोपवे’ का किया उद्घाटन

    श्री विश्वरंजन ने कहा कि महादेवी वर्मा ने महिलाओं के सशक्तिकरण पर विशेष जोर दिया और महिला शिक्षा को काफी बढ़ावा दिया था। 


    श्री श्याम किशोर ने कहा कि महादेवी वर्मा ने महिलाओं को समाज में उनका अधिकार दिलवाने और उचित आदर सम्मान दिलवाने के लिए कई महत्वपूर्ण और क्रांतिकारी कदम उठाए थे।  


    जीकेसी कला संस्कृति प्रकोष्ठ के राष्ट्रीय अध्यक्ष देव कुमार लाल ने कहा कि महादेवी वर्मा ने खड़ी बोली हिन्दी की कविता में उस कोमल शब्दावली का विकास किया जो अभी तक केवल बृजभाषा में ही संभव मानी जाती थी।

    ये भी पढ़े-तेजस्वी यादव बोले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कराई विधायकों की पिटाई

    कार्यक्रम के दौरान जूरी पैनल में शामिल सुशील भारती, डा.राजीव रंजन प्रसाद, शिवपूजन झा और मंजरी श्रीवास्तव, विशिष्ठ अतिथि अशोक प्रसाद, जीकेसी उत्तर प्रदेश के अध्यक्ष सुनील श्रीवास्तव, एजुकेशन सेल के अध्यक्ष दीपक कुमार वर्मा, युवा संभाग के राष्ट्रीय अध्यक्ष लाला सौरभ वर्मा समेत कई पदाधिकारी भी मौजूद थे। कार्यक्रम के दौरान श्री समीर परिमल, श्री कुमार रजत, हिना रिजवी हैदर, नीतु सिन्हा ‘तरंग ने कविता पाठ कर लोगों को मंत्रमुग्ध कर दिया। वहीं श्री आलोक राज और प्रिया मल्ल्कि ने पार्श्वगायन जबकि पंखुरी श्रीवास्तव और मर्यादा कुलश्रेष्ठ ने शास्त्रीय नृत्य की प्रस्तुति देकर समां को बांध दिया।इस दौरान बीफॉर नेशन और दीदीजी फाउंडेशन के बच्चों ने डांस पर आधारित प्रस्तुति देकर लोगों का मन मोह लिया। कला संस्कृति प्रकोष्ठ के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री देव कुमार लाल ने देव कुमार लाल एंड फ्रेडस के साथ संगत कर कार्यक्रम में चार चांद लगा दिया। कार्यक्रम के अंत में जीकेसी कला संस्कृति प्रकोष्ठ और मीडिया सेल के अधिकारियों को प्रतीक चिह्न देकर सम्मानित किया गया। 

    ये भी पढ़े-बेगूसराय:बदमाशों ने बंधक बना 30 रुपए लाख डकैती की, अगले माह होने थी, दो बेटियों की शादी


    अंत में धन्यवाद ज्ञापन जीकेसी की राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष श्रीमती रिद्धिमा श्रीवास्तव ने किया।कार्यक्रम का सफल संचालन आरजे श्वेता सुरभि और जीकेसी महिला संभाग की कार्यकारिणी अध्यक्ष संपन्नता वरूण ने किया। समारोह में विशेष रूप से राष्ट्रीय उपाध्यक्ष दीपक कुमार अभिषेक, राष्ट्रीय सचिव संजय कुमार, मीडिया सेल के राष्ट्रीय अध्यक्ष प्रेम कुमार युवा संभाग के प्रभारी राजेश सिन्हा संजू, धीरेंद्र कुमार श्रीवास्तव, बलिराम जी, अधिवक्ता संजय कुमार सिन्हा, अनुराग समरूप, अभिषेक शंकर, सुशांत सिन्हा, रश्मि लता, डॉ प्रियदर्शी हर्षवर्धन, रवि सिन्हा, हर्ष सिन्हा, सुभाषिनी स्वरूप, निखिल के डी वर्मा, कुमार गौरव, आशुतोष ब्रजेश, पीयूष श्रीवास्तव, सैयद सबीउद्दीन, राजेंद्र यादव, नागेंद्र जी, मधुप मणि पिक्कू, डॉ श्वेता, राजेश कुमार डब्लू, रंजीत प्रसाद सिन्हा आदि ने भी शिरकत की।


    उक्त आशय की जानकारी राष्ट्रीय प्रवक्ता अतुल आनन्द सन्नू ने दी। 


    Header%2BAidWhats App पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 9599389900 को अपने मोबाईल में सेव  करके इस नंबर पर मिस्ड कॉल करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए https://www.facebook.com/wenews24hindi और https://twitter.com/Waors2 पर  क्लिक करें और पेज को लाइक करें




    %25E0%25A4%25B5%25E0%25A5%2587%25E0%25A4%25AC%25E0%25A4%25B8%25E0%25A4%25BE%25E0%25A4%2587%25E0%25A4%259F%2B%25E0%25A4%25B2%25E0%25A5%258B%25E0%25A4%2597%25E0%25A5%258B

     

    No comments

    Post Top Ad

    Post Bottom Ad