Haider Aid


 

  • Breaking News

    सावधान :आ गया भारत के इन राज्यों में कोरोना का ट्रिपल म्यूटेंट, जो डबल म्यूटेंट से भी ज्यादा खतरनाक है



    COVID%2BCampaign

    We News 24 Hindi »नई दिल्ली 

    काजल कुमारी  की रिपोर्ट


    नई दिल्ली: भारत में हर तरफ कोरोना डबल म्यूटेशन ने कोहराम मचा रखा है. हर दिन कोरोना महामारी का  संकट गहराता जा रहा है और देश का स्वास्थ्य  व्यवस्था  जर्जर होता जा रहा है. इसी बीच एक रिपोर्ट आई जिसने और हडकंप मचा रखा है इस रिपोर्ट में बताया गया है की  भारत के कुछ हिस्सों में 'ट्रिपल म्यूटेशन स्ट्रेन'  पाया गया है. वैज्ञानिकों ने चेतावनी दी है कि इस समय पश्चिम बंगाल में यह ट्रिपल म्यूटेंट कोरोना वायरस B.1.618 तेजी से फैल रहा है .

    ये भी पढ़े-BREAKING:नासिक के एक हॉस्पिटल में बड़ा हादसा ,ऑक्सीजन टैंक लीक होने पर 22 मरीजों की मौत

    ये कारण है दूसरी वेव तेज होने का 

    म्यूटेशन तब होता है जब वायरस स्वरूप बदलता रहता है और जितना वो म्यूटेट होता है उतना ही फैलता है. भारत में डबल म्यूटेशन  वाले वायरस के मामलों में ऐसा हो चुका है. कोरोना वायरस  के डबल म्यूटेशन का पता पहली बार पिछले साल 5 अक्टूबर को वायरस के जीनोम सीक्वेंस से लगा था. जानकारों के मुताबिक इसी वजह से कोरोना की दूसरी लहर तेज हुई है.

    ये भी पढ़े-कमर द्वारा निःशुल्क मास्क वितरण सराहनीय कदम : जहांगीर

    विशेषज्ञों का क्या कहना है ?

    इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि चूंकि दोनों म्यूटेशन- E484Q और L425R, वायरस के महत्वपूर्ण स्पाइक प्रोटीन में स्थित थे- जो इसे शरीर में रिसेप्टर कोशिकाओं से जोड़ता है. म्यूटेशन का तत्काल प्रभाव से अध्ययन किया जाना चाहिए. हालांकि, फंड की कमी और कोरोना के गिरते मामलों के कारण नवंबर और जनवरी के बीच हो रही जीनोम सीक्वेंसिंग बंद हो गई. अब B.1.167 में एक तीसरे म्यूटेशन की पहचान की गई है. विशेषज्ञों का मानना ​​है कि इस बार, इसे गंभीरता से लिया जाना चाहिए. 


    Header%2BAidWhats App पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 9599389900 को अपने मोबाईल में सेव  करके इस नंबर पर मिस्ड कॉल करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए https://www.facebook.com/wenews24hindi और https://twitter.com/Waors2 पर  क्लिक करें और पेज को लाइक करें

    %25E0%25A4%25B8%25E0%25A5%259E%25E0%25A5%2587%25E0%25A4%25A6

    No comments

    Post Top Ad

    Post Bottom Ad