Haider Aid


 

  • Breaking News

    आ गया चुनावी राज्य बंगाल में कोरोना वापस ,मृत्यु की दर 1.7 फीसदी तक पहुंच गई




    We News 24 Hindi »kolkata 
    काजल कुमारी   की  रिपोर्ट 


    कोलकाता : बहुत दिनों से लोगो को  आश्चर्य हो रहा था की  चुनावी राज्यों में कोरोना  संक्रमण क्यों नहीं बढ़ रहा है ? बीते कुछ समय में राजनीती  रैलियों में उमड़ रही जन सैलाब को लेकर सवाल पूछे जा रहे थे। जो सच नहीं था और पश्चिम बंगाल में भी  चुनाव के साथ ही तेजी से पैर पसार रहा है कोरोना ।  पश्चिम बंगाल में कोरोना से मरने वालो का  दर 1.7 फीसदी हो गई है, जो देश में तीसरे नंबर पर है और ये महाराष्ट्र के बराबर है। पश्चिम बंगाल से आगे पंजाब और सिक्किम ही हैं। बंगाल में कोरोना से मृत्यु की दर 1.7 फीसदी है, जबकि पूरे देश में यह आंकड़ा 1.3 फीसदी का ही है। इससे पता चलता है कि चुनावी राज्य में भी कोरोना जमकर पैर पसार रहा है।

    ये भी पढ़े-भारत में तीसरी कोरोना वैक्सीन को मिली मंजूरी , ये पूरी तरह सुरक्षित और संक्रमण रोकने में कारगर है

    यही नहीं पॉजिटिविटी रेट के मामले में भी पश्चिम बंगाल देश में 7वें नंबर पर आ गया है। बंगाल में कोरोना का पॉजिटिविटी रेट 6.5 फीसदी है, जबकि पूरे देश में यह आंकड़ा 5.2 फीसदी का ही है। टोटल पॉजिटिविटी रेट का आंकड़ा कुल टेस्ट में संक्रमित पाए गए लोगों के आधार पर निकाला जाता है। इसका अर्थ यह हुआ कि यदि बंगाल में 100 लोगों का कोरोना टेस्ट हुआ तो उनमें से 6.5 फीसदी संक्रमित मिले हैं। यह पॉजिटिविटी रेट चिंताओं को बढ़ाने वाला है। पड़ोसी राज्यों बिहार, झारखंड, असम और ओडिशा से तुलना करें तो पश्चिम बंगाल में केसों में तेजी से इजाफा देखने को मिला है। 

    ये भी पढ़े-बंगाल में बिहार पुलिस की हत्या कांड में बड़ा खुलासा , पुलिस पर हमले के लिए मस्जिद किया गया एलान

    हर दिन 3,040 केस मिल रहे

    बीते 7 दिनों के औसत की बात करें तो पश्चिम बंगाल में हर दिन 3,040 केस मिल रहे हैं। वहीं बिहार में यह आंकड़ा 2,122, झारखंड में 1,734 और ओडिशा में 981 है। असम की बात करें तो नए केसों का औसत 234 है, जो बंगाल के मुकाबले 10 गुना से ज्यादा कम है। कुल केसों की बात करें तो पश्चिम बंगाल में महाराष्ट्र, पंजाब, केरल, छत्तीसगढ़ जैसे राड्यों के मुकाबले अच्छी स्थिति है, लेकिन जिस तरह से नए केसों में इजाफा देखने को मिल रहा है, वह चिंता की बात है। 26 फरवरी को राज्य में चुनावों के ऐलान के बाद से केसों के दोगुना होने की अवधि 15 गुना तक कम हो गई है। 12 अप्रैल के आंकड़ों के मुताबिक 138 दिनों में केस दोगुने होने की स्थिति है।

    भी पढ़े-सीतामढ़ी जिले के माने चौक में लगी भीषण आग ,आगलागी में 4 दर्जन घर जल कर राख

    अभी बाकी हैं चुनाव के 4 चरण, गहरा सकता है संकट

    पश्चिम बंगाल में अब भी 4 चरणों का चुनाव बाकी है। 17, 22, 26 और 29 अप्रैल को अभी मतदान होना है। उससे पहले चुनाव प्रचार जोरों पर है। ऐसे में एक्सपर्ट्स चिंता जता रहे हैं कि राज्य में कोरोना का कहर बढ़ सकता है। रैलियों में बड़े पैमाने पर लोगों के जुटने और आवाजाही के चलते संकट गहरा सकता है। बता दें कि चुनाव आयोग ने राजनीतिक दलों से कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करने की अपील की है।


    Header%2BAidWhats App पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 9599389900 को अपने मोबाईल में सेव  करके इस नंबर पर मिस्ड कॉल करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए https://www.facebook.com/wenews24hindi और https://twitter.com/Waors2 पर  क्लिक करें और पेज को लाइक करें

    %25E0%25A4%25B8%25E0%25A5%259E%25E0%25A5%2587%25E0%25A4%25A6 

    No comments

    Post Top Ad

    Post Bottom Ad