Haider Aid


 

  • Breaking News

    बंगाल में शहीद अश्विनी के घर पहुंचे डिप्टी सीएम और मंत्री , सरकार उनकी बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेगी





    We News 24 Hindi »पूर्णियाँ, बिहार
    राजकुमार की रिपोर्ट 

    पूर्णिया: पश्चिम बंगाल में छापेमारी करने गए किशनगंज के थानाध्यक्ष की हत्या के बाद से लगातार ही राजनेता शहीद अश्विनी कुमार के घर पहुंच रहे हैं। प. बंगाल में थानाध्यक्ष को भीड़ ने पीट-पीटकर मार डाला था। इस वीभत्स घटना की चहुंओर निंदा की गई। अपने बेटे का पार्थिव शरीर देखने के बाद अश्विनी कुमार की मां भी यह सदमा बर्दाश्त नहीं कर पाईं और उन्होंने भी प्राण त्याग दिए। मां-बेटे की अर्थी एकसाथ उठते देखकर हर किसी की आंखें नम हो गई थीं। स्थानीय विधायक और विधान पार्षद शहीद की अंतिम यात्रा में शामिल हुए थे।

    ये भी पढ़े-चुनाव आयोग के खिलाफ ममता बनर्जी धरने पर बैठीं

     आज उपमुख्यमंत्री तारकेश्वर प्रसाद तथा बिहार सरकार के मंत्री नीरज बबलू भी शोकाकुल परिवार से मिलने पहुंचे। इससे पहले जाप संरक्षक पप्पू यादव ने भी पीड़ित परिवार से मुलाकात की, और उन्हें 50 हज़ार रुपए की सहायता राशि दी थी। पप्पू यादव ने इस मामले की सीबीआई जांच की मांग उठाई है। जानकीनगर में पीड़ित परिवार से मिलने उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद पहुंचे और परिजनों से कहा कि विपत्ति की इस घड़ी में राज्य सरकार पूरी तरह उनके साथ है। उन्होंने कहा कि परिजनों ने सीबीआई जांच के लिए लिखित आवेदन दिया है। वे पटना जाकर इस मामले में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से बात करेंगे। सरकार के स्तर पर विचार कर केंद्र सरकार से इस बाबत आग्रह किया जाएगा। 

     

    भी पढ़े-पीएमसीएच को कोरोना संक्रमण की जांच और आवश्यक मशीनों की खरीद के लिए ₹ 1.5 करोड़ मिले

    घटना को दुर्भाग्यपूर्ण करार देते हुए डिप्टी सीएम तारकिशोर प्रसाद ने कहा कि मामले को लेकर सरकार पूरी तरह गंभीर है। राज्य सरकार ने शहीद अश्विनी कुमार के बच्चों की पढ़ाई-लिखाई का जिम्मा लेने का निर्णय लिया है। इतना ही नहीं, आश्रित को अनुकम्पा पर नौकरी के अलावा शीघ्र ही 10 लाख रुपये अनुग्रह राशि भी दी जाएगी। शहीद अश्विनी की जो भी नौकरी मद में बकाया राशि है, उसे आज ही रिलीज किया जा रहा है। मौके पर मौजूद मंत्री नीरज कुमार बबलू ने कहा कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट और एफआईआर में गड़बड़ियां हैं, जिससे शक पैदा होता है। 

    ये भी पढ़े-बिहार में बेहतर इलाज के लिए तीन बड़े अस्पतालों में IAS अधिकारियों की तैनाती

    परिवार चाहता है कि सीबीआई जांच हो, हम परिवार के साथ हैं। अगर सहकर्मी दोषी हैं तो मामले की जांच करवाकर उन सबों के खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी। नीरज कुमार बबलू ने कहा कि शहीद का परिवार जिस भी सरकारी सुविधा का हकदार है, उन्हें उपलब्ध करायी जाएगी, उन्हें कहीं जाने की जरूरत नहीं है। मंत्री नीरज बबलू ने कहा कि घटना से पूरे राज्यवासी मर्माहत हैं, प्रधानमंत्री जी भी अपनी चिंता का इजहार कर चुके हैं। 


    Header%2BAidWhats App पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 9599389900 को अपने मोबाईल में सेव  करके इस नंबर पर मिस्ड कॉल करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए https://www.facebook.com/wenews24hindi और https://twitter.com/Waors2 पर  क्लिक करें और पेज को लाइक करें

    %25E0%25A4%25B8%25E0%25A5%259E%25E0%25A5%2587%25E0%25A4%25A6

    No comments

    Post Top Ad

    Post Bottom Ad