Header Ads

  • Breaking News

    छत्तीसगढ़ में हो रहा दंगा ,प्रदेश संभालने की बजाए भूपेश बघेल लगे है प्रियंका की चाकरी में

     


    We%2BNews%2B24%2BBanner%2B%2B728x90

    We News 24»   छत्तीसगढ़

    रिपोर्टिंग / काजल कुमारी 


    नई दिल्ली: लखीमपुर खीरी हिंसा को लेकर कांग्रेस और भाजपा आमने-सामने है. कांग्रेस नेता हर हाल में लखीमपुर खीरी जाना चाहते है और योगी सरकार किसी भी कीमत पर कांग्रेस नेताओं को लखीमपुर खीरी पहुंचने नहीं देना चाहती. लखीमपुर खीरी में धारा 144 लगी है. राहुल गांधी पंजाब और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्रियों के साथ लखनऊ एयरपोर्ट पहुंचे तो  प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार उन्हें वहीं पर काफी देर तक रोक कर रखा. बाद में काफी हील-हुज्जत के बाद उन्हें लखीमपुर जाने की अनुमति मिली. इसके साथ ही कांग्रेस-भाजपा में आरोप-प्रत्यारोप की राजनीति चरम पर है.


    ये भी पढ़े-फिर बदलेगा पंजाब में कोंग्रेस अपना अध्यक्ष ,सिद्धू की हो सकती विदाई


    छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के लखीमपुर जाने पर यूपी भाजपा के नेता शलभमणि त्रिपाठी ने तंज कसा है. शलभमणि ने कहा कि "भूपेश बघेल  के छत्तीसगढ़ में दंगा हो रहा है,कर्फ़्यू लगाना पड़ा है,कांग्रेस सरकार की शह पर कट्टरपंथी सड़कों पर नंगा तांडव कर रहे हैं,अपना जी यूपी में प्रियंका जी की चाकरी कर रहे हैं,और उनसे दंगे पर जवाब माँगने की बजाए पक्षकार उन्हें सत्याग्रही बता रहे है."



    ये भी पढ़े--दुनिया पर मंडराया एक और खतरा,तालिबान फिर किया वादा खिलाफी





    भाजपा मीडिया सेल के अमित मालवीय ने भी भूपेश बघेल पर निशाना साधा है. उन्होंने ट्वीट किया कि "कांग्रेस शासित प्रदेशों में न भगवा सुरक्षित है, न हिंदू. छत्तीसगढ़ के कावर्धा में भगवा ध्वज के अपमान और युवक दुर्गेश की पिटाई के बाद साम्प्रदायिक तनाव है. सीएम भूपेश बघेल वहां की क़ानून व्यवस्था संभालने की बजाय गांधी परिवार की राजनीति चमकाने के लिए उत्तर प्रदेश में घूम रहे हैं."



    ये भी पढ़े-बॉलीवुड एक्शन स्टार विद्युत जामवाल की फ़िल्म 'सनक' का बहुप्रतीक्षित ट्रेलर हुआ रिलीज़

    लखीमपुर खीरी हिंसा की जांच के लिए यूपी सरकार ने एसआईटी टीम गठित कर दी है. लेकिन किसान नेताओं और विपक्ष का आरोप है कि योगी सरकार दोषियों को बचाने में लगी है. जांच के नाम पर लीपापोती करने का आरोप भी लगाया जा रहा है. किसान नेताओं और विपक्ष के दबाव में केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा के बेटे मोनू मिश्रा के खिलाफ एपआईआर दर्ज किया गया है. लेकिन किसान नेता अभी भी अजय मिश्र के इस्तीफे की मांग पर अड़े हैं.

    इस आर्टिकल को शेयर करे 

    Header%2BAidWhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 9599389900 को अपने मोबाईल में सेव  करके इस नंबर पर मिस्ड कॉल करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए https://www.facebook.com/wenews24hindi और https://twitter.com/Waors2 पर  क्लिक करें और पेज को लाइक करें |

    कोई टिप्पणी नहीं

    कोमेंट करनेके लिए धन्यवाद

    Post Top Ad

    Post Bottom Ad