Header Ads

  • Breaking News

    निचिरेन शोशु म्योकानको अध्यक्ष क्योतो कर रहा है हिन्दू देवी देवता काअपमान



    We%2BNews%2B24%2BBanner%2B%2B728x90


    We News 24 Digital»रिपोर्टिंग सूत्र  / काठमांडू संवादददाता

    काठमांडू:दूसरे धर्मों को नीचा दिखाकर निचिरेन को एक मात्र रक्षक बताते हुए खुलेआम दे रहे हिन्दू देवी देवता का कर रह अपमान निचिरेन शोशु म्योकानको केअध्यक्ष क्योतो.

    ये भी पढ़े-केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने स्वामी सहजानंद सरस्वती के कार्यक्रम का शुभारंभ किया

    नेपाल के काठमांडू में दिनांक 25 जून 2022 को  आयोजित एक कार्यक्रम में निचिरेन शोशु जापान म्योकानको के अध्यक्ष क्योतो ने लोगो को  संबोधन  में कहा की  निचिरेन शोशु धर्म है जो एक मात्र रक्षक है बाकि सभी धर्म बेकार है .अगर  आप इस धर्म के आलावा दुसरे धर्म  विस्वास नहीं करे  हिन्दू धर्म को मनाने वाले पशुपति नाथ के मंदिर में ना जाय ना दशहरा और  दीवाली जैसे पर्व नही मनाय नहीं किसी  देवी देवता का  पूजा पाठ करे क्योकि इन धर्मो को मनाने वाले लोग  नर्क में जायेंगे  ये सभी धर्म झूठे  है   , सिर्फ  निचिरेन शोशु बौद्ध धर्म  सच्चा धर्म है . 

    कोह्जी ओकुरा

    ये बाते सिर्फ अध्यक्ष क्योतो ही नहीं इनके और भी लीडर है .जो नेपाल भारत में चोरी छिपे घूम-घूम कर प्रचार प्रसार करते हुए लोगो से कहते है .आपको बता दू इनका पूरा जापानी गिरोह सक्रीय है . ये लोग दोनो देश के सरकार के आँखों में धुल झोक कर  बिजनेश या टूरिस्ट वीजा पर चोरी छिपे धर्मांतरण का काम कर रहे  है . दो बार बिहार के मुजफ्फरपुर में बजरंग दल के लोग और बिहार पुलिस ने इनके एक आदमी कोह्जी ओकुरा नाम के व्यक्ति को पकड़ा था .


    ये निचिरेन शोशु वाले सीधे-सीधे हिन्दू  और दुसरे धर्म के लोगों का  धार्मिक आस्था को चोट पहुँचा रहा है .हिन्दू  देवी देवता के साथ -साथ दुसरे धर्म के लोगो का भी अपमान भी कर रहा है . क्या आपको नहीं लगता ऐसे  लोग  हमारा देश समाज और सभ्यता के लिए खतरा है . ऐसे लोगो पर क़ानूनी सिकंजा नहीं कसना चाहिए ? 

    ये भी पढ़े-बिक्रम में कार व बाइक की टक्कर, दो बाइक सवार पांच युवक घायल

    भारत में  धर्मांतरण कानून 

    भारत में तो जबरन , प्रलोभन या कपट करते हुए धर्म परिवर्तन कराने पर 10 साल की सजा का प्रावधान  है। अगर किसी को अपने धर्म से दुसरे धर्म में जाना है तो धर्म बदलने के अधिकतम 60 दिन पहले जिलाधिकारी या संबंधित अपर जिला मैजिस्ट्रेट के सामने तय प्रारूप में आवेदन देना अनिवार्य है ।


    इसका उल्लंघन करने पर एक साल जेल या पांच हजार रुपए जुर्माना या दोनों दंड दिया जाएगा। इसके उल्लंघन का अपराध संज्ञेय और गैर जमानती होगा। 

    इस आर्टिकल को शेयर करे .


    Header%2BAidWhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 9599389900 को अपने मोबाईल में सेव  करके इस नंबर पर मिस्ड कॉल करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए https://www.facebook.com/wenews24hindi और https://twitter.com/Waors2 पर  क्लिक करें और पेज को लाइक करें .

    कोई टिप्पणी नहीं

    कोमेंट करनेके लिए धन्यवाद

    Post Top Ad

    Post Bottom Ad