Header Ads

  • BREAKING NEWS

    नेपाल के पीएम ओली की भारत के प्रति बदली बोली, ओली ने कहा कि भारत का संबंध सदियों पुराना है

     


    We News 24 Hindi »काठमांडू/नेपाल 

    मिडिया रिपोर्ट


    नेपाल :और भारत का रिश्ता सदियों पुराना और खास है... नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने भारतीय सेना अध्यक्ष मनोज मुकुंद नरवणे से मुलाकात में यह बात कही। शुक्रवार को दोनों के बीच काठमांडू में मुलाकात हुई। नेपाल के प्रधानमंत्री ने यह भी उम्मीद जताई कि मौजूदा मुद्दों को दोनों देश बातचीत के जरिए सुलझा लेंगे। 


    ये भी पढ़े-गोपालगंज में बाइक सवार अपराधियों ने मछली व्यवसायी को मारकर हत्या कर दी ,समाज कल्याण मंत्री समेत 5 पर हुआ FIR



    केपी शर्मा ओली के विदेश सलाहकार रंजन भट्टाराई ने ट्वीट किया, ''प्रधानमंत्री ने कहा कि दोनों देशों के सेना प्रमुखों को मानद महारथी का दर्जा देने की परंपरा है। बैठक के दौरान पीएम ने विश्वास जाहिर किया कि दोनों देशों के बीच मौजूदा मुद्दों को बातचीत से सुलझा लिया जाएगा।''



    तीन दिन के दौरे पर काठमांडू पहुंचे नरवणे को गुरुवार को राष्ट्रपति बिद्या देवी भंडारी की ओर से नेपाली सेना के जनरल की मानद उपाधि दी गई। राष्ट्रपति के आधिकारिक आवास शीतल निवास पर आयोजित सामारोह में उन्हें यह सम्मान दिया गया। जनरल नरवणे को तलवार भी भेंट गई। 

    ये भी पढ़े-फारुख अब्दुल्ला फिर उगला जहर, कहा कश्मीर में जब तक अनुच्छेद 370 बहाल ना करवा दू तब तक मरूँगा नहीं


    शुक्रवार को नरवणे और ओली के बीच मुलाकात पीएम आवास बालूवाटर में हुई। ओली नेपाल के रक्षामंत्री भी हैं। दोनों के बीच यह मुलाकात ऐसे समय पर हुई है जब पिछले कुछ महीनों में पड़ोसी देशों के बीच रिश्तों में काफी तनाव देखा गया। मई में नेपाल ने नया राजनीतिक नक्शा पास किया था, जिसमें भारत के उत्तराखंड के कई इलाकों को शामिल कर लिया गया। 


    ये भी पढ़े-सीतामढ़ी:बिहार चुनाव के अंतिम चरण के दौर में कहीं पंखा,तो कहीं झोपाड़ी तो कहीं लालटेन का दिखा बोल-बाला।देखे वीडियो


    8 मई को भारत के रक्षामंत्री राजनाथ सिंह की ओर से उत्तराखंड में लिपुलेख पास को धारचूला से जोड़ने वाले अहम रणनीतिक सड़क का उद्घाटन करने पर नेपाल ने आपत्ति जाहिर की थी। 
    नेपाल की ओर से नया नक्शा जारी करने के बाद भारत ने इसका विरोध किया और इसे एकतरफा कार्रवाई बताया और कहा कि इस तरह क्षेत्रीय दावों का बनावटी विस्तार मान्य नहीं होगा।


     इसके बाद भी ओली ने भारत के खिलाफ कई बार खुलकर बयानबाजी की। घरेलू राजनीति की वजह से इस्तीफे का दबाव बढ़ने पर उन्होंने यहां तक कह दिया था कि उन्हें कुर्सी से हटाने के लिए नई दिल्ली में साजिशें रची जा रही हैं। उन्होंने भगवान राम को नेपाली बताते हुए कहा था कि भारत में नकली अयोध्या है, जबकि भगवान राम का जन्म नेपाल में हुआ था।



    Header%2BAidWhats App पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 9599389900 को अपने मोबाईल में सेव  करके इस नंबर पर मिस्ड कॉल करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए https://www.facebook.com/wenews24hindi और https://twitter.com/Waors2 पर  क्लिक करें और पेज को लाइक करें



    WE NEWS 24 AID

    Post Bottom Ad