Haider Aid

  • Breaking News

    नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने विधानसभाध्यक्ष को दिए साक्ष्य, विधायकों की पिटाई करनेवालों को बर्खास्त करने की



    We News 24 Hindi »पटना,बिहार 
    राजकुमार  की  रिपोर्ट

    पटना: बिहार विधानसभा में विधायकों की पिटाई के मामले को एकबार फिर से नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने उठाया है। तेजस्वी यादव ने विधानसभा अध्यक्ष को सुबूत के साथ पत्र लिखा है और दषियों को बर्खास्त करने की मांग की है। तेजस्वी यादव ने पत्र में लिखा है “नीतीश सरकार द्वारा राज्य की जनता पर बिहार विशेष सशस्त्र पुलिस विधेयक-2021 थोपने के क्रम में विपक्ष के माननीय सदस्यों के साथ बर्बर हिंसा का प्रयोग कर सदन के अंदर सैकड़ों पुलिसकर्मियों की उपस्थिति में जिस तरीके से विधेयक पारित कराया गया, उसे किसी भी तरह से सामान्य लोकतांत्रिक घटना नहीं माना जा सकता।

    ये भी पढ़े-यूपी में शुरू हुई यश कुमार की दो बड़ी फ़िल्मों की शूटिंग

     विपक्ष के निहत्थे माननीय सदस्यगण शांतिपूर्ण ढंग से धरना-प्रदर्शन करते हुए अपने लोकतांत्रिक अधिकारों का प्रयोग कर विरोध कर रहे थे, तो सत्य को सामने लाने के संविधान प्रदत्त अपने कर्तव्यों का ही तो निर्वहन कर रहे थे, जिसकी वो सदस्य बनते समय शपथ लेते हैं। वो संविधान एवं लोकतंत्र की रक्षा करने का ही तो प्रयास कर रहे थे। लेकिन, सरकार के इशारे पर पुलिस प्रशासन द्वारा हिंसा का जो नंगा नाच किया गया, वह विशेष पुलिस बल को विशेष अधिकार देने के खतरे की एक झांकीभर है। विदित हो कि दिनांक-23.03.2021 को बिहार विधानसभा के अन्दर शर्मनाक घटना घटी एवं जो आपराधिक कृत्य किया गया, उसने बिहार विधानसभा की मर्यादा को तार-तार कर दिया। सत्ताधारी पार्टी के माननीय सदस्यों को छोड़, सभी माननीय सदस्यों के विरुद्ध माननीय गृह मंत्री सह-मुख्यमंत्री, बिहार के इशारे पर गंभीर हिंसा और अत्यधिक बल का प्रयोग किया गया, जिसमें अनेक माननीय सदस्य गम्भीर रूप से घायल हो गए।

    ये भी पढ़े-सनसनी खेज खबर ,अयोध्या में नागा साधु की हत्या,शहर में मचा हड़कंप

     कई माननीय विधायक पीएमसीएच सहित अन्य निजी अस्पतालों में इलाजरत हैं। इनमें से एक माननीय विधायक (मखदुमपुर) श्री सतीश कुमार को तो इतनी बुरी तरह मारा गया कि उनका सिर फट गया और पीएमसीएच के आईसीयू में वह जीवन-मौत से संघर्ष करते हुए अभी भी चिकित्सकों की देखरेख में इलाजरत हैं। माननीय महिला विधायकों के साथ जो अवर्णनीय दुर्व्यवहार किया गया, उसने तो लोकतंत्र की सारी स्थापित मर्यादाओं को तार-तार कर दिया, जो संसदीय लोकतंत्र में न तो कहीं देखा गया और न ही कहीं सुना गया। महोदय, उस दिन सदन में जो असामान्य घटना घटी, वह सिर्फ विपक्ष ही नहीं बल्कि लोकतांत्रिक व्यवस्था पर हमला था। 

    ये भी पढ़े-CM योगी के ममता बैनर्जी पर बड़ा हमला, योगी ने कहा भगवान श्रीराम का भव्य मंदिर अयोध्या में बन रहा ,लेकिन कष्ट बंगाल में दीदी को हो रहा

    सदन में बाहर से आई पुलिस बिल्कुल अराजक गुण्डे की तरह बिना कोई चेतावनी दिए मारपीट, उठा-पटक कर रही थी। उन्हें कौन निर्देश दे रहे थे और किनके कहने पर अत्यधिक बल का प्रयोग किया गया ? साथ ही मारपीट करने, उठाकर फेंकने, जूतों एवं बूटों से उनके सिर और पेट पर गंभीर आघात पहुंचाने के उद्देश्य से बाहर करने, महिला विधायकों को बाल खींचकर मारने, घसीटने उनकी साड़ी खोलने जैसे जघन्य एवं घृणित कार्य को अंजाम किसके आदेश पर दिया गया ?

    ये भी पढ़े-दो युवकों ने लड़की के जन्मदिन पर उसके साथ बलात्कार किया, वीडियो बना परिवार को भेजा

     माननीय सदस्यों के साथ पुलिस का यह कुकृत्य सिर्फ विपक्ष पर ही नहीं, बल्कि लोकतंत्र पर हमला था। महोदय, विदित हो कि जिन माननीयों पर अत्याचार किया गया, वे तो राज्य के विभिन्न निर्वाचन क्षेत्रों से करोड़ों-करोड़ जनता द्वारा निर्वाचित हैं. महोदय, आपके संरक्षक रहते यह हमला सिर्फ माननीय सदस्यों पर ही नहीं, बल्कि लोकतंत्र के मंदिर पर किया गया हमला है। महोदय, यह सरकार जनता द्वारा चुने गए प्रतिनिधियों के संवैधानिक अधिकारों की सुरक्षा न कर, उसे पैरों तले रौंदने का प्रयास करती है, उसे सत्ता में रहने का कोई अधिकार नहीं है। हम विधानसभा को जालियांवाला बाग बनाने का प्रयास करनेवाले अधिकारियों को बर्खास्त करने की मांग करते हैं। 


    Header%2BAidWhats App पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 9599389900 को अपने मोबाईल में सेव  करके इस नंबर पर मिस्ड कॉल करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए https://www.facebook.com/wenews24hindi और https://twitter.com/Waors2 पर  क्लिक करें और पेज को लाइक करें




    %25E0%25A4%25B5%25E0%25A5%2587%25E0%25A4%25AC%25E0%25A4%25B8%25E0%25A4%25BE%25E0%25A4%2587%25E0%25A4%259F%2B%25E0%25A4%25B2%25E0%25A5%258B%25E0%25A4%2597%25E0%25A5%258B

    No comments

    Post Top Ad

    Post Bottom Ad