Header Ads


  • BREAKING NEWS

    Vaishali:23 फरवरी से लेकर 02 मार्च तक श्री शहस्त्रचण्डी महायज्ञ की तैयारी,देखे वीडियो


    We News 24 Hindi»वैशाली ,बिहार 
    राज्य/वैशाली /ब्यूरो संवाददाता नागमणि 

    लालगंज :-अखिल भारतीय धर्मसंघ परिसर चाँदी में पशुपति बाबा के स्मृति में 23 फरवरी से लेकर 02 मार्च तक आयोजित हो रहे श्री शहस्त्रचण्डी महायज्ञ की तैयारी जोर शोर से की जा रही है.यह यज्ञ इस स्थल का दूसरा महायज्ञ है.जो समाजिक सहयोग से किया जा रहा है.


    जिसमे तकरीबन 11 से 15 सौ महिलाएं एक ही वस्त्र में कलशयात्रा में भाग लेंगी.जो घटारो चतुर्भुज के विभिन्न टोले मुहल्ले से हाँथी,घोड़े,औऱ बैंड, बाजे गाजे के सांथ होते हुए बाबा के पूर्व स्थल रामबाग पहुंचकर जलाभिषेक करेंगी.वही यज्ञ कमिटी के अध्यक्ष रामनरेश सिंह शिक्षक,उपाध्यक्ष दक्षिणी पंचायत के पूर्व मुखिया विनोद कुँवर,दौलतपुर चाँदी मुखिया नंदू सिंह,अमरेंद्र सिंह चौहान उर्फ झुन झुन सिंह,पैक्स अध्यक्ष मनीष कुमार सिंह,रामवीर सिंह,सियाराम सिंह,संजय सिंह,रामनरेश सिंह,प्रेम सिंह उर्फ कामाख्या सिंह,पूर्व उप प्रमुख पति बबलु सिंह,मनोज सिंह सरपंच इत्यादि लोगो ने बताया की यह यज्ञ रमेशानंद जी कामख्यावाले द्वारा यज्ञ की नींव डाली गयी है.जिनके देखरेख में ही किया जा रहा है.




    इस यज्ञ में नौ दिनों में प्रदेश से बुलाए गए महान साध्वी व संतो द्वारा प्रवचन व रामकथा व रामलीला,भागवत भजन इत्यादि का आयोजन किया गया है.जिसमे तकरीबन करोड़ो रुपए का खर्च भी होगा.वही इस संबंध में यज्ञ आयोजक संरक्षक रामेशानंद जी महाराज ने बताया की इस नौ दिवसीय यज्ञ में काशी विश्वनाथ मंदिर अध्यक्ष अशोक दुवेदी स्वंय आचार्य होंगे.देश के विभिन्न मेरे द्वारा कराए गए 21 शास्रचंडी महायज्ञ में पहला सबसे बड़ा यज्ञ होगा.स्थानीय अन्य कमिटी के लोगो व वृद्धजनों द्वारा यह भी बताया गया कि 1975 में इस स्थल पर यज्ञ स्वंय पशुपति बाबा द्वारा करवाया गया था.उसके बाद का यह दूसरा सबसे बड़ा यज्ञ होगा.

    ये भी पढ़े-Muzaffarpur:नौ दिवसीय श्रीरामकथा की शुरुआत

    VIDEO


    क्या कहते है यज्ञ आयोजक संरक्षक  संत:-हमारी संस्कृति हमारी पहचान है.और विरासत की अनमोल धरोहर है.जिसके रक्षार्थ यज्ञ सरीखे धर्मानुष्ठान जरूरी है.यह उदगार धर्मनगर धनुषी चाँदी में यज्ञ करवा रहे श्री सहस्त्रचंडी महायज्ञ के आयोजक संरक्षक कामरूप कामाख्या के महान उपासक रामेशानंद जी महाराज ने प्रभात खबर से विशेष बातचीत के दौरान कही.

    Post Top Ad

    Post Bottom Ad