Haider Aid

  • Breaking News

    पाकिस्तान की इमरान सरकार बदहाली के कगार पर,चीन की मदद से चूका रहा है सऊदी का कर्ज

     


    We News 24 Hindi » नई दिल्ली 

    काजल कुमारी की रिपोर्ट


    पाकिस्तान: की इमरान खान सरकार कंगाली के दरवाजे पर खड़ी है। पाकिस्तान के  पास दूसरे देशों का कर्ज को चुकाने के लिए खजाने में फूटी कौड़ी  तक नहीं हैं। पाकिस्तान का हमदर्द चीन की मदद से कर्ज चुकाने के लिए निर्भर है। हालांकि, माना भी जाता है कि चीन के पैसों की वजह से ही पाकिस्तान हमेशा उसका साथ देता है। पाकिस्तान ने हाल ही में सऊदी अरब से 3 बिलियन डॉलर का कर्ज लिया था, जिसे वह चीन द्वारा दी गई इमरजेंसी आर्थिक मदद से वापस चुका रहा है। इस्लामाबाद और रियाद के बीच में काफी समय से रिश्ते भी तनावपूर्ण चल रहे हैं।


    ये भी पढ़े-कोरना वेक्सिन का इंतजार हुआ खत्म ,28 दिसंबर को दिल्ली आ रही है कोरोना वैक्सीन की पहली खेप


    इस्लामाबाद ने अभी तक कुल कर्ज में से दो बिलियन डॉलर का लोन रियाद चुका दिया है। इस साल की शुरुआत में सऊदी अरब ने पाकिस्तान से कर्ज को वापस चुकाने पर जोर दिया था। दोनों देशों के बीच, रिश्तों में उस समय से खटास आ गई है, जब से पाकिस्तान की तुर्की और मलेशिया जैसे देशों से घनिष्ठता बढ़ती जा रही है।


    ये भी पढ़े-दर्दनाक मौत :दिल्ली आगरा यमुना एक्सप्रेसवे पर टैंकर कार के भिडंत में पांच लोग जिन्दा जले


    इस पूरे मामले से वाकिफ सूत्रों ने सहयोगी अखबार हिन्दुस्तान टाइम्स को नाम न प्रकाशित करने की शर्त पर बताया कि पाकिस्तान की योजना बाकी बचे हुए एक बिलियन डॉलर के कर्ज को अगले साल की शुरुआत तक चुकाने की है। एक शख्स ने कहा, ''यह केवल कुछ और समय तक के लिए एक प्रमुख आर्थिक समस्या को दूर करने का मामला है। सऊदी का कर्ज तो चुक जाएगा, लेकिन किसी और का कर्ज चुकाने का समय तब तक सामने आ जाएगा।''



    इस महीने की शुरुआत में, चीन ने 2011 के द्विपक्षीय मुद्रा विनिमय समझौते का आकार बढ़ाकर 10 बिलियन युआन या लगभग 1.5 बिलियन डॉलर कर दिया था। द एक्सप्रेस ट्रिब्यून अखबार ने वित्त मंत्रालय और स्टेट बैंक ऑफ पाकिस्तान के सूत्रों का हवाला देते हुए यह जानकारी दी थी। इस सहायता का उपयोग सऊदी अरब को कर्ज चुकाने के लिए पाकिस्तान ने किया है।


    ये भी पढ़े-बिहार से लुटा ट्रक झारखण्ड के धनबाद से वरामद ,17 दिसम्बर की रात लुटी गयी ट्रक



    चीन ने कॉर्मिशियल कर्ज को बढ़ाने के बजाय मुद्रा स्वैप की व्यवस्था को बढ़ा दिया था, ताकि नया 1.5 बिलियन डॉलर का कर्ज पाकिस्तान सरकार की बुक्स में न दिखाई दे। रिपोर्ट में कहा गया है कि पाकिस्तान ने विदेशी कर्ज चुकाने और अपने विदेशी मुद्रा भंडार को ठीक स्तर पर रखने के लिए 2011 से मुद्रा विनिमय सुविधा का उपयोग किया है।


    Header%2BAidWhats App पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 9599389900 को अपने मोबाईल में सेव  करके इस नंबर पर मिस्ड कॉल करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए https://www.facebook.com/wenews24hindi और https://twitter.com/Waors2 पर  क्लिक करें और पेज को लाइक करें




    %25E0%25A4%25B5%25E0%25A5%2587%25E0%25A4%25AC%25E0%25A4%25B8%25E0%25A4%25BE%25E0%25A4%2587%25E0%25A4%259F%2B%25E0%25A4%25B2%25E0%25A5%258B%25E0%25A4%2597%25E0%25A5%258B

    Post Top Ad

    Post Bottom Ad