Header Ads

  • BREAKING NEWS

    बिहार में अभी भी बारिश का खतरा ,48 घंटों के अंदर पटना समेत मध्य बिहार के जिलों में बारिश का अलर्ट

    We News 24 Hindi »  पटना,बिहार
    संवाददाता अमिताभ मिश्रा 
    पटना: चार दिनों की लगातार भीषण बारिश से लगभग पूरा बिहार अस्त व्यस्त हो गया है. पिछले 24 घंटों से बारिश नहीं हुई है लेकिन जलजमाव से लोग उबरे भी नहीं थे कि मौसम विभाग ने एक बार फिर बारिश का अलर्ट जारी किया है. 
    मौसम विभाग ने 48 घंटों के अंदर पटना समेत मध्य बिहार के जिलों में बारिश का अलर्ट जारी किया  है. वहीं, अगले 24 घंटों के अंदर दक्षिण-पश्चिम बिहार के जिलों में भी बारिश की पूरी संभावना जताई गई है.


    मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि इन इलाकों में मध्यम और हल्की बारिशहो सकती तो कुछ जगहों पर भारी बारिश का भी अलर्ट है. मौसम विभाग ने सरकार को भी इससे अवगत कराया गया है. आपको बता दें कि पटना में भारी बारिश के बाद जलजमाव की समस्या अभी भी बनी हुई है. बारिश की वजह से अभी तक राज्य में 42 लोगों की मौत हो चुकी है. 
    बारिश खत्म होने के एक दिन बाद भी पटना में राजेंद्र नगर, कंकड़बाग, भूतनाथ रोड, कांटी फैक्ट्री रोड, मलाही पकड़ी, एसके पुरी में अधिक जलजमाव की स्थिति बनी हुई है. दानापुर और गोला रोड में लोग पानी की वजह से घरों में कैद हो गए हैं. 

    वहीं, कटिहार में महेशपुर कोशी तटबंध टूट गया है. कोसी नदी के जलस्तर हुई वृद्धि पर बांध टूट गया है. लगभग 7 हजार आबादी प्रभावित है. बारिश के कारण लगभग दो दर्जन जिले प्रभावित हैं. शिवहर, सितामढ़ी, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण,पश्चिमी चंपारण, दरभंगा, मधुबनी, समस्तीपुर, बेगूसराय, खगड़िया, मुंगेर, भागलपुर, कटिहार, पूर्णिया, अररिया, किशनगंज, सुपौल, मधेपुरा, वैशाली, सारण, सीवान और गोपालगंज में बाढ़ की स्थिति बनी हुई है. 

    ये भी पढ़े :सीतामढ़ी डिएम ने लोगो को शपथ दिलाई ,की न हम गंदगी करेगे और न ही दूसरों को करने देंगे


    बारिश से सबसे ज्यादा परेशानी खासकर पटना वासियों को हुई है. एनडीआरएफ की टीम मोटर वोट के जरिए लोगों का रेस्क्यू कर रही है. राज्य के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी को भी रेस्क्यू किया गया. इसी बीच बीजेपी के गिरिराज सिंह सहित कई नेता भी बिना नाम लिए सीएम नीतीश कुमार पर तंज कस चुके हैं. 

    बिहार में इस बारिश से बिहार में 95 प्रखंड 464 पंचायत 758 गांव 16,56607 जनसंख्या प्रभावित हुई है. प्रभावित लोगों के लिए 17 राहत शिविर 226 सामुदायिक रसोई बनाई गई है.1 35 नाव 18 एनडीआरएफ-एसडीआरएफ की टीम राहत के लिए लगाया गया है.

    WE NEWS 24 AID

    Post Bottom Ad