Header Ads

  • BREAKING NEWS

    सीतामढ़ी :जनवरी में रेल ओवर ब्रिज, फरवरी में मेडिकल कॉलेज का शुरू होगा निर्माण

    We News 24 Hindi »सीतामढ़ी,बिहार
    रौशन कुमार साह की रिपोर्ट

    सीतामढ़ी:जनवरी में रेल ओवर ब्रिज, फरवरी में मेडिकल कॉलेज का शुरू होगा निर्माण।शहर से सटे मुरादपुर में अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस मेडिकल कॉलेज की स्थापना होगी। फरवरी 2020 में सीएम खुद मुरादपुर पहुंच कर इसका शिलान्यास करेंगे। इसके साथ ही निर्माण की भी शुरूआत होगी। यह जिलेवासियों को साल 2020 की सौगात होगी।

     इसकी जानकारी सांसद सुनील कुमार पिटू ने रविवार को दी। दैनिक जागरण कार्यालय पहुंचे सांसद पिटू ने कहा कि मेडिकल कॉलेज के अलावा जिलेवासियों की चिर-परिचित रेलवे ओवरब्रिज की डिमांड भी नये साल में पूरा हो जाएगा। सांसद ने बतसाया कि 14 जनवरी के बाद मेहसौल में ओवरब्रिज का निर्माण कार्य शुरू हो जाएगा। बताया कि ओवरब्रिज के निर्माण में एनओसी का तकनीकी पेंच था, जिसे दूर करा लिया गया है। सांसद ने बताया कि उन्होंने जनता से किया गया वादा जिसमें लखनदेई की उड़ाही और एनएच 104 का निर्माण था, उसे पूरा करा दिया है। लखनदेई उड़ाही में भूमि अधिग्रहण बाधा थी। किसानों को मुआवजे की कीमत अधिक चाहिए थी। उन्होंने विभाग से बात कर भूमि की बढ़ी कीमत मद की सवा करोड़ की राशि का चेक डीएम को सौंपा। 

    इसके बाद उड़ाही की राह आसान हो गई हैं। सांसद ने बताया कि उन्होंने सबसे पहले संसद में सीतामढ़ी-सुरसंड हाईवे का मामला उठाया। इसके आलोक में सीतामढ़ी-सुरसंड हाईवे का निर्माण युद्ध स्तर पर जारी हैं। जबकि डुमरा बिरौली एनएच 122 ए के उन्न्यन के लिए केंद्र सरकार ने 150 करोड़ का फंड दिया है। शीघ्र टेंडर करा निर्माण शुरू कराया जाएगा। इतना ही नहीं शीघ्र ही एनएच 527 सी का भी निर्माण कार्य शुरू करायश जाएगा। सांसद ने बताया कि लगमा-मोहनपुर लिक सड़क का निर्माण करा दिया गया है। पासवान चौक गौशाला 21 फीट चौड़ी सड़क की स्वीकृति मिल गई है। लगभग साढ़े सात करोड़ की लागत से इस सड़क का निर्माण कराया जाएगा। उन्होंने सड़क के मुख्य पथ की मरम्मत कराने की बात कही। 

    ये भी पढ़े :चौधरी चरण सिंह एवं स्व0 रामवृृक्ष बेनीपुरी के जन्म दिवस पर भावभीनी श्रद्धांजलि

    ट्रेनों का रूट बदलवाना प्राथमिकता:  सांसद सुनील कुमार पिटू ने कहा कि सीतामढ़ी में ट्रेनों की संख्या बढ़ेगी। हालांकि उनका मकसद ट्रेनों की संख्या बढ़ाने के बजाए ट्रेनों के रूट में परिवर्तन कराना है। कहा कि वह चाहते हैं कि दरभंगा जयनगर से खुलनें वाली ट्रेनों का सीतामढ़ी से सिकटा होते हुए नरकटियांगज तक परिचालन हो। रूट में बदलाव होने से जहां इलाके के लोगों को ढाई से तीन घंटे की बचत होगी, वहीं इस रूट पर ट्रेनों की काफी संख्या बढ़ जाएगी। उन्होंने कहा कि सीतामढ़ी में ट्रेनों की संख्या बढ़ाने और वाशिग पीट की स्थापना के लिए उनका प्रयास जारी है।

    आर्यन कुमार द्वारा किया गया पोस्ट 

    WE NEWS 24 AID

    Post Bottom Ad